Rajasthan: भरतपुर के बाद अब भीलवाड़ा में जहरीली शराब का कहर, 4 लोगों की मौत, 5 की हालत गंभीर

भीलवाड़ा जिले में 6 मई 2004 को लोकसभा चुनाव के दौरान भी गुलाबपुरा थाना क्षेत्र के कंवलियास गांव में जहरीली शराब पीने से 7 लोगों की मौत हो गई थी. (सांकेतिक तस्वीर)

भीलवाड़ा जिले में 6 मई 2004 को लोकसभा चुनाव के दौरान भी गुलाबपुरा थाना क्षेत्र के कंवलियास गांव में जहरीली शराब पीने से 7 लोगों की मौत हो गई थी. (सांकेतिक तस्वीर)

Poisonous liquor case: भीलवाड़ा के मांडलगढ़ इलाके में जहरीली शराब (Poisonous liquor) से पीने से एक महिला समेत चार लोगों की मौत (Death) हो गई है. वहीं दो महिलाओं समेत पांच लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है. मरने वालों की संख्या बढ़ भी सकती है.

  • Share this:
भीलवाड़ा. राजस्थान में जहरीली शराब (Poisonous liquor ) ने भरतपुर के बाद अब भीलवाड़ा (Bhilwara) में कहर ढाया है. भीलवाड़ा जिले के मांडलगढ़ थाना इलाके के सारण का खेड़ा गांव में जहरीली शराब पीने से एक महिला समेत 4 व्‍यक्तियों की मौत (Death) हो गयी है. वहीं 5 अन्य की हालत गंभीर बनी हुई है. उनको उपचार के लिये जिला मुख्यालय के महात्‍मा गांधी चिकित्‍सालय में भर्ती कराया गया है. वहां उनका इलाज जारी है. एक ही गांव के 4 लोगों की जहरीली शराब से मौत होने के बाद सारण का खेड़ा गांव में मातम छाया हुआ है. बता दें कि इससे पहले भी भीलवाड़ा में जहरीली शराब पीने से मौतों की 2 घटनाएं हो चुकी हैं.

पुलिस के मुताबिक मृतकों में महिला सतूड़ी समेत हजारी बैरवा, सरदार भाट और दलेल सिंह शामिल है. वहीं अस्‍पताल में उपचाररत पीड़ितों में भी दो महिलायें शामिल हैं. अस्पताल में नीतू तथा मंजू के साथ लादू सिंह, भौम सिंह और गुल्‍ला का इलाज चल रहा है. मृतकों में शामिल दलेल सिंह की 3 माह पूर्व गत वर्ष 29 नवंबर को ही शादी हुई थी.

मेहमानों के साथ गए थे शराब पीने



सारण का खेड़ा निवासी भौम सिंह ने बताया कि घर पर कुछ मेहमान आये थे. उन्‍हें लेकर गांव के पास ही हथकड़ शराब बनाने वाले के यहां गया था. वहां हम सभी ने शराब पी थी. उसके कुछ देर बाद ही हमारी हालत खराब हो गयी. वहीं ग्रामीण रणजीत सिंह ने कहा कि शराब पीने से 9 व्‍यक्तियों की तबीयत खराब हुई थी. उनमें से 4 लोगों की मौत हो गयी है और 5 की हालत अभी भी नाजुक बनी हुई है.
भीलवाड़ा में पहले भी कहर ढा चुकी है जहरीली शराब

उल्लेखनीय है कि भीलवाड़ा जिले में 6 मई 2004 को लोकसभा चुनाव के दौरान गुलाबपुरा थाना क्षेत्र के कंवलियास गांव में जहरीली शराब पीने से 7 लोगों की मौत हो गई थी और 5 लोगों के आंखों की रोशनी चल गयी थी. वहीं मांडल थाना इलाके के अमरगढ़ में 18 नवंबर 2008 में जहरीली शराब से 4 लोगों की मौत हुई थी. इस माह की 21 जनवरी को सारण का खेड़ा कंजर कॉलोनी में आबकारी विभाग ने लक्ष्‍मण कंजर के यहां से 3 लीटर कच्‍ची शराब बरामद करने का मामला दर्ज किया था. पिछले दिनों भरतपुर में भी जहरीली शराब से 9 लोगों की मौत हो गई थी.

मिलावटी शराब का अवैध कारोबार





बता दें कि प्रदेश में हथकढ़ और मिलावटी शराब बनाने का कारोबार बड़े पैमाने पर होता है. कारोबार भी बेधड़क और पुलिस-प्रशासन तथा आबकारी विभाग की नाक के नीचे होता है. अमूमन उनको इसकी जानकारी भी रहती है, लेकिन करता कोई भी कुछ नहीं है. पिछले दिनों भरतपुर में भी जहरीली शराब से मौतों के बाद मुख्‍यमंत्री ने अवैध शराब के खिलाफ अभियान चलाने के निर्देश भी दिये थे. लेकिन आबकारी विभाग की फौरी कार्रवाई के कारण अवैध और जहरीली शराब अब भी यह बेरोकटोक बिक रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज