लाइव टीवी

भीलवाड़ा: 64 टन वजनी भगवान हनुमान चले प्रयागराज, गंगा स्नान कर 1 महीने में लौटेंगे, क्या है माजरा यहां पढ़ें पूरी कहानी
Bhilwara News in Hindi

Pramod Tiwari | News18 Rajasthan
Updated: February 10, 2020, 12:21 PM IST
भीलवाड़ा: 64 टन वजनी भगवान हनुमान चले प्रयागराज, गंगा स्नान कर 1 महीने में लौटेंगे, क्या है माजरा यहां पढ़ें पूरी कहानी
प्रतिमा को हाथी भाटा आश्रम से संकट मोचन हनुमान मंदिर तक लाने के लिए 4 क्रेन और 40 लोगों की मदद ली गई. करीब 8 घंटे की अथक मेहनत के बाद इस प्रतिमा को 60 फीट लंबे ट्रोले में रखा गया.

शहर के बाईपास स्थित हाथी भाटा आश्रम (Hathi Bhatta Ashram) में स्थापित की जाने वाली 64 टन वजनी और 28 फीट लंबी भगवान हनुमान की प्रतिमा (Lord hanuman statue) को गंगा स्नान के लिए रविवार को भीलवाड़ा (Bhilwar) से प्रयागराज (Prayagraj) के लिए रवाना किया गया.

  • Share this:
भीलवाड़ा. शहर के बाईपास स्थित हाथी भाटा आश्रम (Hathi Bhatta Ashram) में स्थापित की जाने वाली 64 टन वजनी और 28 फीट लंबी भगवान हनुमान की प्रतिमा (Lord hanuman statue) गंगा स्नान के लिए रविवार को भीलवाड़ा (Bhilwar) से प्रयागराज (Prayagraj) के लिए रवाना किया गया. प्रतिमा को धार्मिक यात्रा (Religious tours) पर रवाना किए जाने से पहले शहर के संकट मोचन हनुमान मंदिर लाया गया. यहां सैंकड़ों भक्तों ने प्रतिमा के दर्शन किए.

2100 किलोमीटर का यह सफर महीने में पूरा होगा
दरअसल हाथी भाटा आश्रम में इस मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा की जानी है. 64 टन वजनी और 28 फीट लंबी इस हनुमान प्रतिमा का निर्माण 2 साल पहले दौसा जिले के सिकंदरा में कराया गया था. उसके बाद प्रतिमा को यहां लाया गया था. अब प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा से पहले उसे गंगा स्नान कराया जाएगा. इसके लिए इस प्रतिमा को भीलवाड़ा से प्रयागराज ले जाया रहा है. धार्मिक यात्रा पर जा रही इस प्रतिमा के लिए बड़े व्यापक प्रबंध किए गए हैं. भीलवाड़ा से प्रयागराज जाने और फिर वापस आने का 2100 किलोमीटर का यह सफर महीने में पूरा होगा. यह यात्रा संकट मोचन हनुमान मंदिर के महंत बाबू गिरी के सानिध्य में संपन्न होगी.

28 पहियों वाले 60 फीट लंबे ट्रोले का इंतजाम किया गया है

रविवार को प्रतिमा को हाथी भाटा आश्रम से संकट मोचन हनुमान मंदिर तक लाने के लिए 4 क्रेन और 40 लोगों की मदद ली गई. करीब 8 घंटे की अथक मेहनत के बाद इस प्रतिमा को 60 फीट लंबे ट्रोले में रखा गया. भगवान हनुमान की इस प्रतिमा को ले जाने के लिए विशेष रूप से 28 पहियों वाले 60 फीट लंबे ट्रोले का इंतजाम किया गया है. हाथी भाटा आश्रम से संकट मोचन हनुमान मंदिर तक की करीब 12 किलोमीटर की डेढ़ घंटे में पूरी हुई. यहां बड़ी संख्या में भक्तों ने इसके दर्शन किए.

हाथी भाटा आश्रम में प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा होगी
उसके बाद भगवान हनुमान की भीलवाड़ा से प्रयागराज धार्मिक यात्रा शुरू हुई. इस यात्रा में संकट मोचन हनुमान मंदिर के महंत बाबू गिरी महाराज और करीब 1 दर्जन से अधिक गाड़ियों का काफिला भी साथ-साथ चलेगा. 28 फीट लंबी 12 फीट चौड़ी इस हनुमान प्रतिमा को प्रयागराज में गंगा स्नान कराया जाएगा. उसके बाद प्रतिमा को वापस लाकर हाथी भाटा आश्रम में इसकी प्राण प्रतिष्ठा की जाएगी. 

राजस्थान का एक और वीर सपूत राजीव सिंह शेखावत जम्मू-कश्मीर में हुआ शहीद

 

 

पुंछ: शहीद हुए राजीव सिंह, ड्यूटी पर जाने से पहले दोस्तों से किया था ये वादा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भीलवाड़ा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 10, 2020, 12:17 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर