होम /न्यूज /राजस्थान /ये हैं अनोखे भक्त, अब तक बांट चुके हनुमानजी की 2000 मूर्तियां, आप भी आसानी से मंगवा सकते हैं

ये हैं अनोखे भक्त, अब तक बांट चुके हनुमानजी की 2000 मूर्तियां, आप भी आसानी से मंगवा सकते हैं

लाल पत्थर से निर्मित हनुमानजी की मूर्तियां महंत भक्तों को निशुल्क भेंट करते हैं.

लाल पत्थर से निर्मित हनुमानजी की मूर्तियां महंत भक्तों को निशुल्क भेंट करते हैं.

संकट मोचन मंदिर के चढ़ावे से मूर्ति बनवाकर मुहैया कराने से पहले स्थान व व्यक्ति के बारे में पूरी जानकारी ली जाती है. प् ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट – रवि पायक

भीलवाड़ा. भगवान हनुमान में अनूठी श्रद्धा रखने वाले ज़िले के एक मंदिर के महंत की हनुमान ​भक्ति की कहानी जो सुनता है, वही उनसे मिलने के लिए लालायित रहता है. दरअसल, ​भीलवाड़ा ज़िला मुख्यालय से करीब तीस किलोमीटर दूर स्थित ज्योतिष विद्या प्रसिद्ध केंद्र के रूप में पहचाने जाने वाले कारोई कस्बे के संकट मोचन हनुमान मंदिर के महंत बाबू गिरी महाराज की मंशा है कि देश की हर गली व मौहल्ले में हनुमान मंदिर हो. इसके लिए ​वह हनुमानजी की प्रतिमाओं का निर्माण कराते हैं और इन मूर्तियों को निशुल्क भेंट करते हैं.

यह सिलसिला पिछले कई सालों से चल रहा है. अब तक 2000 से अधिक हनुमान प्रतिमाएं भक्तों को भेंट कर चुके हैं, जो विभिन्न मंंदिरों मे स्थापित हुईं. भक्तों का कहना है कि लाल पत्थर से बनी ये प्रतिमाएं हनुमानजी का साकार रूप दिखती हैं. देश ​के किसी भी मंदिर में हनुमान प्रतिमा स्थापित कराने वाले लोग कारोई से ये प्रतिमाएं ले जा सकते हैं. इसके अलावा मंदिर कमेटी सुविधानुसार प्रतिमाओं की​ डिलीवरी भी करती है. महंत बाबूगिरी महाराज ने बताया कि उनका उद्देश्य है कि देश के हर गांव-गली, मोहल्ले और शहर में हनुमान मंदिर बने.

मेहंदीपुर से मंगाते हैं लाल पत्थर

महंत बाबूगिरी महाराज ने बताया कि मध्यप्रदेश, बिहार, उत्तरप्रदेश, गुजरात सहित कई राज्यों में मंदिर से मूर्तियां भेजी गई हैं. हनुमान जी की प्रतिमाओं का निर्माण लाल पत्थर से किया जाता है. यह पत्थर दौसा के मेहंदीपुर से मंगवाया जाता है. इन प्रतिमाओं को संकट मोचन हनुमान मंदिर में आने वाले चढ़ावे से तैयार कराया जाता है. कोई भी भक्त अपने आसपास मंदिर में हनुमान प्रतिमा स्थापित करना चाहे तो वह 9950983338 सम्पर्क कर निशुल्क हनुमान प्रतिमा प्राप्त कर सकता है.

Tags: Bhilwara news, Hanuman mandir

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें