होम /न्यूज /राजस्थान /ऐसे भी होते हैं पुलिसवाले, मिलिए भीलवाड़ा के इन 3 जवानों से जो ठंड में कांपते बच्चों की करते हैं मदद

ऐसे भी होते हैं पुलिसवाले, मिलिए भीलवाड़ा के इन 3 जवानों से जो ठंड में कांपते बच्चों की करते हैं मदद

Social Work: जाड़े के दिनों में जरूरतमंद बच्चों और स्त्रियों के बीच स्वेटर और कंबल बांटने का काम करते हैं भीलवाड़ा के त ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट : रवि पायक

भीलवाड़ा. आपने कई राजनेताओं और भामाशाह को कंबल वितरण करते तो देखा होगा, मगर पुलिस के हाथों ऐसा कोई काम आपको नहीं दिखा होगा. पर आज हम आपको ऐसे काम करते पुलिसवालों से मिलवाएंगे. जी हां, भीलवाड़ा में पुलिस का मानवीय चेहरा सामने आया है. भीलवाड़ा के जिला कारागृह में तैनात पुलिस के 3 जवानों ने अनोखी मुहिम शुरू की है. इन्होंने बढ़ती सर्दी को देखते हुए बेघर लोगों और कच्ची बस्तियों में छोटे बच्चों और महिलाओं के बीच स्वेटर और कंबल वितरण किया है.

यह पहल जेल में पदस्थापित कॉन्स्टेबल रामसिंह, कॉन्स्टेबल रघुवीर और कॉन्स्टेबल शीशराम 3 दोस्तों ने मिलकर शुरू की है. इन्होंने अब तक 150 से 200 स्वेटर और कंबल बांटे हैं. उन्होंने भीलवाड़ा शहर की विभिन्न कच्ची बस्तियों में स्वेटर और कम्बलों का वितरण किया है.

13वीं बटालियन जेल सुरक्षा के कॉन्स्टेबल रघुवीर का कहना है कि एक दिन जब हम देर रात गुजर रहे थे, तब हमने देखा कि कुछ बच्चे सर्दी से ठिठुर रहे हैम. तो हमने फैसला किया कि इनको स्वेटर देंगे. फिर धीरे-धीरे पता चला कि ऐसे कई लोग हैं, जिन्हें कंबल और स्वेटर की आवश्यकता है. तो हमने यह मुहिम शुरू कर दी कि सर्दी में बेसहारा लोगों को खासकर महिला और बच्चों को स्वेटर उपलब्ध करवाएं. हम जिस जिले में भी जाते हैं, वहां सर्दी के दिनों में यही काम करते हैं. यही नहीं हम भोजन की व्यवस्था भी करते हैं. यह पूरा काम हमसब अपने पैसों से करते हैं.

इनका कहना है कि किसी को भी अगर सर्दी में कंबल या स्वेटर और भोजन की आवश्यकता हो तो इनसे 7665073578 नंबर पर संपर्क कर सकते हैं. हमने कोरोना काल के दौरान भी ऐसा काम किया. कई लोग थे जिनके लिए हमने भोजन और राशन की व्यवस्थाएं करवाई थीं.

कॉन्स्टेबल राम सिंह का कहना है कि हम जिस भी जिले में जाते हैं इसी प्रकार काम करते हैं. सबसे पहले हम ड्यूटी से फ्री होने के बाद शहर भर में घूमते हैं और मॉनिटरिंग करते हैं कि किस व्यक्ति को सही मायनों में स्वेटर और कंबल की आवश्यकता है. क्योंकि अक्सर देखा जाता है कि लोग रात में कंबल लेते हैं वह सुबह उन्हें कम दामों में बेच देते हैं. यही कारण है कि हम पूरी जांच करने के बाद ही स्वेटर और कंबल वितरण करते हैं. भीलवाड़ा से पूर्व हम अजमेर में तैनात थे, तब भी हमने जरूरतमंदों के बीच भोजन, कंबल, स्वेटर वितरण करवाया था.

Tags: Bhilwara news, Rajasthan police

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें