भीलवाड़ा लोकसभा क्षेत्र- बीजेपी व कांग्रेस में वजूद को बनाए रखने और वापस पाने की जद्दोजहद
Bhilwara News in Hindi

भीलवाड़ा लोकसभा क्षेत्र- बीजेपी व कांग्रेस में वजूद को बनाए रखने और वापस पाने की जद्दोजहद
फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।

आजादी के बाद से अब तक भीलवाड़ा लोकसभा क्षेत्र में हावी रही कांग्रेस अब यहां वापस वजूद तलाशने में जुटी है. इस बार क्षेत्र में मतदाताओं ने गत बार के मुकाबले करीब 2.57 फीसदी ज्यादा मतदान कर दोनों पार्टियों को चौंका दिया है.

  • Share this:
आजादी के बाद से अब तक लोकसभा चुनावों में भीलवाड़ा में हावी रही कांग्रेस अब यहां वापस वजूद तलाशने में जुटी है. ब्राह्मण-गुर्जर बहुल भीलवाड़ा लोकसभा क्षेत्र में इस बार भी मुकाबला कम रोचक नहीं रहा है. बीजेपी ने यहां अपने मौजूदा सांसद सुभाष बहेड़िया को चुनाव मैदान में उतार रखा है तो कांग्रेस ने उनके सामने ब्राह्मण चेहरे रामपाल शर्मा पर दांव लगा रखा है. इस बार क्षेत्र में मतदाताओं ने गत बार के मुकाबले करीब 2.57 फीसदी ज्यादा मतदान कर दोनों पार्टियों को चौंका दिया है.

चित्तौड़गढ़ लोकसभा क्षेत्र- बंपर मतदान ने बढ़ा रखी है बीजेपी-कांग्रेस की धड़कनें, 7.07% ज्यादा हुई है वोटिंग

भीलवाड़ा जिले के भीलवाड़ा, आसींद, सहाड़ा, जहाजपुर, मांडलगढ़, मांडल और शाहपुरा समेत बूंदी के हिंडौली विधानसभा क्षेत्र को समेटे हुए इस लोकसभा क्षेत्र में 19,95,863 मतदाता हैं. मतदाताओं के जातीय गणित पर नजर डालें तो यहां मौटे तौर पर सबसे ज्यादा करीब 2.5 लाख ब्राह्मण मतदाता हैं. उसके बाद दूसरे नंबर पर यहां गुर्जर मतदाता आते हैं. उनकी संख्या करीब 1.50 लाख मानी जाती है.



जोधपुर लोकसभा सीट पर लगी है सीएम, संघ और केन्द्रीय मंत्री की प्रतिष्ठा दांव पर
2.57 फीसदी मतदान ज्यादा हुआ है
भीलवाड़ा में इस बार गत चुनाव के मुकाबले 2.57 फीसदी मतदान ज्यादा हुआ है. यहां वर्ष 2014 में 62.92 फीसदी मतदान हुआ था. वहीं इस बार यह 65.49 तक पहुंचा है. यहां भी बढ़ा हुआ वोट बैंक किस के खाते में गया है, इस पर दोनों प्रमुख पार्टियां टकटकी लगाए हुए बैठी हैं.



बहेड़िया पूर्व में भी सांसद रह चुके हैं
बीजेपी प्रत्याशी सुभाष बहेड़िया यहां से पूर्व में 1996 में भी सांसद रह चुके हैं. यह उनका दूसरा कार्यकाल है. संघ के करीबी माने जाने वाले बहेड़िया अपने इन दोनों कार्यकाल के बीच में एक बार भीलवाड़ा के विधायक भी रह चुके हैं. वहीं कांग्रेस प्रत्याशी रामपाल शर्मा कांग्रेस के दिग्गज नेता पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं वर्तमान विधानसभाध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी के खास माने जाते हैं. शर्मा इससे पहले भीलवाड़ा यूआईटी और भीलवाड़ा सेंट्रल कॉपरेटिव बैंक के चेयरमैन रह चुके हैं.

भीलवाड़ा से कांग्रेस प्रत्याशी रामपाल शर्मा।


पुरानी तस्वीर में ज्यादा अंतर नहीं आ पाया है
हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में यहां की तस्वीर में कोई बहुत ज्यादा अंतर नहीं आया है. वर्ष 2013 के विधानसभा चुनाव में भीलवाड़ा लोकसभा क्षेत्र की जहाजपुर और हिंडौली को छोड़कर सभी सीटें बीजेपी के पास थी. उसके बाद मांडलगढ़ विधायक कीर्ति कुमारी के निधन के कारण खाली हुई सीट भी बीजेपी के हाथ से फिसल गई थी. इस बार उसने जहाजपुर को वापस फतह कर लिया, लेकिन उसके हाथ से सहाड़ा और मांडल सीट निकल गई. कुल मिलाकर इस बार उसके पास पांच सीटें हैं, वहीं कांग्रेस के पास तीन. अब देखना यह है कि बीजेपी अपनी इस सीट पर वर्चस्व को बनाए रख पाएगी या नहीं.

लोकसभा क्षेत्र बीकानेर- रिश्तों के 'भंवर' में फंसी है सीट, दो अधिकारियों के बीच मुकाबला

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज