होम /न्यूज /राजस्थान /Rajasthan News: पुलिसकर्मियों की हत्या के आरोपी को लगा खुद के एनकाउंटर का डर, कोर्ट में किया सरेंडर

Rajasthan News: पुलिसकर्मियों की हत्या के आरोपी को लगा खुद के एनकाउंटर का डर, कोर्ट में किया सरेंडर

कांस्टेबल की हत्या के आरोपी ने कोर्ट में किया समर्पण

कांस्टेबल की हत्या के आरोपी ने कोर्ट में किया समर्पण

Surrender in Court : भीलवाड़ा में कोरोना काल के दौरान अप्रैल में तस्करों ने दो कांस्टेबल की गोली मारकर हत्या (Murder) क ...अधिक पढ़ें

    मनीष दाधीच

    भीलवाड़ा. भीलवाड़ा जिले (Bhilwara district) के 2 कांस्टेबलों की हत्या करने के बाद फरार चल रहे राजू फौजी के साथी रमेश विश्नोई उर्फ रमेश भनिया ने बुधवार को चित्तौड़गढ़ एनडीपीएस कोर्ट (court) में सरेंडर (Surrender) कर दिया. रमेश ने यह सरेंडर पुलिस के एनकाउंटर (encounter) के डर से किया है. उनको पुलिस पिछले कई महीनों से ढूंढ रही थी लेकिन ये बदमाश पुलिस की पकड़ से बाहर थे. पुलिस के एनकाउंटर के डर के चलते रमेश ने मानवाधिकार आयोग में भी अपील की है. रमेश बुधवार को चित्तौड़गढ़ एनडीपीएस कोर्ट में अपने अधिवक्ता दिव्यानंद शर्मा के साथ रमेश पहुंचा और सरेंडर कर दिया.

    मारवाड़ के कुख्यात तस्कर राजू फौजी और उसके साथियों ने 10 अप्रैल की रात को कोटड़ी थाने के कांस्टेबल ओंकार रायका और रायला थाने के कांस्टेबल पवन चौधरी की गोली मारकर हत्या कर दी थी. इस मामले में पुलिस राजू फौजी, रमेश भानिया, पबराम गोरसिया सहित 5 बदमाशों की तलाश कर रही थी. पुलिस की सख्ती और एनकाउंटर के डर से रमेश ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया. उसने पुलिस से अपनी जान को खतरा बताया है.

    आरोपी को पुलिस से ही जान का खतरा
    अभी भी इन मामले में राजू फौजी और बाकी के बदमाशों की सरगर्मी से तलाश हो रही है. रमेश भानिया के अधिवक्ता दिव्यानंद शर्मा ने बताया कि रमेश को पुलिस से जान का खतरा है. उसने पुलिस पर उसे बेवजह मामलों में फंसाने का आरोप लगाया है. इसके चलते रमेश ने मानवाधिकार आयोग के सामने उसके जीवन को बचाने की गुहार भी लगाई है. उल्लेखनीय है कि 10 अप्रैल की रात को रायला थाने के कॉन्स्टेबल पवन चौधरी और कोटड़ी थाने के औंकार रायका की मादक पदार्थ तस्करों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी. इससे पुलिस महकमा सकते में आ गया था. उसके बाद पुलिसकर्मियों के हत्यारों को पकड़ने के लिये पुलिस ने दिन रात एक कर दिया था, लेकिन वे उनके हाथ नहीं आये. हां, यह जरुर था कि चौतरफा घिरने के बाद इनमें से रमेश ने सरेंडर का मुनासिब समझा.

    Tags: Court, Human Rights Commission, Murderer, Police constable, Rajasthan news in hindi

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें