Home /News /rajasthan /

बीकानेर में अपनों की लड़ाई में उलझी कांग्रेस, अमित शाह के रोड शो से BJP में नया जोश

बीकानेर में अपनों की लड़ाई में उलझी कांग्रेस, अमित शाह के रोड शो से BJP में नया जोश

बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह.

बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह.

वर्तमान में बीकानेर जिले में बीजेपी के पास सात में से चार सीटें हैं.

    मानस मितुल

    राजस्‍थान के बीकानेर में कांग्रेस के लिए रोज नई मुश्किल खड़ी हो रही है. शहर की दो सीटों बीकानेर पूर्व और बीकानेर पश्चिम पर कांग्रेस में अंदरूनी कलह की खबरें सामने आ रही हैं. इसी बीच बीजेपी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह ने मंगलवार को बीकानेर में रोड शो किया.

    कांग्रेस की पहली लिस्‍ट 15 नवंबर को आई थी और इसमें पूर्व मंत्री और वरिष्‍ठ नेता बीडी कल्‍ला का नाम बीकानेर पश्चिम सीट से नहीं था. वे इस सीट पर बीजेपी के गोपाल कृष्‍ण जोशी से 2008 और 2013 में हार गए थे. कांग्रेस ने बीकानेर जिला कांग्रेस अध्‍यक्ष यशपाल गहलोत को पश्चिम सीट से उतारा था, वहीं बीकानेर पूर्व से कन्‍हैया लाल झंवर को उतारा. 2008 में झंवर बीकानेर जिले की नोखा सीट से निर्दलीय उम्‍मीदवार के रूप में जीते थे.

    बाद में कल्‍ला को टिकट न मिलने पर काफी हंगामा हुआ तो तीसरी सूची में बीकानेर पश्चिम सीट से टिकट दिया गया और गहलोत को बीकानेर पूर्व भेज दिया गया जबकि झंवर का पत्‍ता साफ हो गया. इस कदम से विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामेश्‍वर डूडी नाराज हो गए. उन्‍होंने झंवर को टिकट न मिलने पर नोखा सीट से अपना नामांकन भी वापस लेने की धमकी दे दी. दिलचस्‍प बात है कि 2008 में इसी सीट पर झंवर ने डूडी को हराया था.

    डूडी की मांग के आगे कांग्रेस झुक गई और झंवर को बीकानेर पूर्व से टिकट देकर यशपाल गहलोत की बलि दे दी गई. कल्‍ला का पश्चिम सीट से टिकट बरकरार रहा.

    राजनीतिक जानकारों का कहना है कि दोनों विधानसभा क्षेत्रों में आपसी खींचतान और राजनीतिक हलचल ने बीकानेर कांग्रेस में मौजूद अस्थिरता और घबराहट को उजागर कर दिया है. ऐसे में शाह का रोड शो बीजेपी की ताकत को बढ़ाने वाला ही दिखता है.


    वरिष्‍ठ पत्रकार नारायण बारहठ बताते हैं, 'उत्‍तरी राजस्‍थान में बीकानेर बड़ा शहर है. यह राजधानी से काफी दूर है और पाकिस्‍तानी सीमा से सटा हुआ है. जहां पर भी कांग्रेस आपस में लड़ रही होती है वहां पर बीजेपी हमेशा रैली करने की कोशिश करती है. अनिश्चितता का फायदा उठाने या अपने पक्ष में किसी धड़े को करना उनके लिए आसान है.'

    पिछले दो विधानसभा चुनावों से बीजेपी बीकानेर पूर्व और पश्चिम सीट को जीत रही है.
    इस बार भी उसने पिछली बार के विजेताओं- पश्चिम से गोपाल कृष्‍ण जोशी और पूर्व से सिद्धि कुमारी को उतारा है. कांग्रेस इस बार मजबूत दिख रही है और लेकिन बारहठ का मानना है कि आपसी खींचतान से बीकानेर में कांग्रेस को नुकसान हो सकता है.

    केंद्रीय मंत्री और बीकानेर सांसद अर्जुन मेघवाल भी बीजेपी के मजबूत होने की बात मानते हैं. उन्‍होंने न्‍यूज18 को बताया, 'बीकानेर शहर की दोनों सीटों पर बीजेपी को बढ़त है.'


    मेघवाल का कहना है कि शाह का कार्यक्रम पहले से तय था और कांग्रेस की समस्‍याओं से इसका कोई लेना-देना नहीं है. उन्‍होंने बताया, 'बीकानेर सीमाई राज्‍य है. यह ऐतिहासिक शहर है. पहले से ही तय कर लिया गया था कि रोड शो यहां से शुरू होगा.' मेघवाल के अनुसार, शाह के रोड शो से बीकानेर में बीजेपी कार्यकर्ताओं में जोश आया है और इससे परिणाम पार्टी के पक्ष में आएगा.

    हालांकि कांग्रेस इससे सहमत नहीं है और उसका मानना है कि वे इस इलाके में मजबूत है. कल्‍ला ने टिकट बंटवारे पर कुछ भी कहने से इनकार कर दिया लेकिन पार्टी के बारे में कहा कि कांग्रेस बीकानेर में पहले से ज्‍यादा मजबूत है और जिले की सातों सीटें जीतने जा रही है.

    उन्‍होंने न्‍यूज18 से कहा, 'अमित शाह का रोड शो फ्लॉप था. आप किसी से भी पूछ सकते हैं. जब राहुल गांधी यहां आए थे तो तीन लाख लोग शामिल हुए थे. शाह के रोड शो में 10 हजार लोग भी नहीं थे.'

    राजस्‍थान कांग्रेस अध्‍यक्ष सचिन पायलट भी बीकानेर में कांग्रेस के भविष्‍य को लेकर आश्‍वस्‍त हैं. उन्‍होंने कहा, 'हम बीकानेर की सभी सीटें जीतेंगे. यह(रोड शो) अमित शाह का आखिरी समय में अपनाया गया हथकंडा था और उनके रोड शो का कोई असर नहीं पड़ेगा.

    वर्तमान में बीजेपी के पास सात में से चार सीटें हैं.

    Tags: Amit shah, BJP, Congress, Rajasthan Assembly Election 2018, Sachin pilot, Vasundhara raje

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर