Bikaner: रिश्वत के 30 हजार रुपये वापस लौटाते हुये शिक्षा विभाग का अधिकारी रंगे हाथों गिरफ्तार

घटना के बाद आरोपी व्यास की तबीयत भी थोड़ी बिगड़ गई थी, लेकिन अब वह ठीक है.
घटना के बाद आरोपी व्यास की तबीयत भी थोड़ी बिगड़ गई थी, लेकिन अब वह ठीक है.

Unique case of anti corruption bureau: बीकानेर में एसीबी ने शिक्षा विभाग (Education Department) के एक अधिकारी को रिश्वत लेते हुये नहीं, बल्कि ली गई रिश्वत की राशि वापस परिवादी को लौटाते हुये (Returning back) रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया है.

  • Share this:
बीकानेर. अब तक आपने रिश्वत (Bribe) लेते हुये पकड़े जाने के कई केस सुने होंगे, लेकिन राजस्थान के बीकानेर में इससे जुड़ा एक अनोखा केस (Unique case) सामने आया है. यहां भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (Anti Corruption Bureau) ने शिक्षा विभाग के एक कर्मचारी को रिश्वत की राशि वापस लौटाते (Returning back) हुए धरदबोचा. एसीबी की इस कार्रवाई से शिक्षा विभाग में हड़कंप मच गया और आरोपी की तबीयत भी खराब हो गई.

एसीबी के एएसपी रजनीश पूनिया ने बताया कि नागौर के मारवाड़ मूंडवा निवासी परिवादी अर्जुनराम जाट की शिक्षा विभाग में पीटीआई के पद पर नियुक्ति हुई थी. अर्जुनराम जाट के खिलाफ चार आपराधिक मामले कोर्ट में विचाराधीन हैं. इसके कारण परिवादी को नियुक्ति नहीं मिल पाई और उसका प्रकरण माध्यमिक शिक्षा निदेशालय में चल रहा था. परिवादी को नौकरी जाने का भय दिखाकर विभाग के संयुक्त विधि परामर्शी बद्रीनारायण व्यास ने उसके पक्ष में रिपोर्ट देने के लिए 30 हजार रुपए की रिश्वत मांगी.

शिक्षा निदेशालय में 30 हजार रुपए लौटाते हुये पकड़ा
नौकरी हाथ से जाते देखकर अर्जुनराम ने अपने बचाव के लिये बद्रीनारायण व्यास को 30 हजार की रिश्वत दे दी. लेकिन उसके बाद भी परिवादी का नियुक्ति-पत्र निदेशालय की ओर से खारिज कर दिया गया. इस पर अर्जुनराम ने बद्रीनारायण व्यास को पैसे वापस लौटाने को कहा. अर्जुनराम ने व्यास को धमकी दी कि अगर उसने ऐसा नहीं किया तो वह उसकी शिकायत कर देगा. उसके बाद अर्जुनराम इस संबंध में व्यास की एसीबी में शिकायत भी कर डाली. गुरुवार को व्यास ने परिवादी अर्जुनराम को रुपये वापस देने के लिये शिक्षा निदेशालय में बुलाया और 30 हजार रुपए लौटा दिये.
Jodhpur: नाबालिग लड़की सुसाइड केस, 3 युवक गिरफ्तार, शारीरिक संबंध के लिये बना रहे थे दबाव



आरोपी के घर की तलाशी ली जा रही है
लेकिन इसी दौरान वहां जाल बिछाकर बैठी एसीबी की टीम ने रुपयों के साथ आरोपी व्यास को रंगे हाथों दबोच लिया. एसीबी की टीम ने मौके पर लौटाई गई रिश्वत की राशि 30 हजार रुपए बरामद भी कर लिये. एएसपी रजनीश पूनिया ने बताया कि आरोपी के घर की तलाशी ली जा रही है. इसके साथ ही उसके बैंक अकाउंट के बारे में भी जानकारी ली जा रही है. घटना के बाद आरोपी की तबीयत भी थोड़ी बिगड़ गई थी, लेकिन अब वह ठीक है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज