Home /News /rajasthan /

REET में डिवाइस लगी चप्पल बनाने के आरोपी से पुलिस ने मांगे 1 लाख, ACB ने दी दबिश, 3 लाइन हाजिर

REET में डिवाइस लगी चप्पल बनाने के आरोपी से पुलिस ने मांगे 1 लाख, ACB ने दी दबिश, 3 लाइन हाजिर

बीकानेर एसपी योगेश यादव ने गंगाशहर थानाप्रभारी सीआई राणीदान, एएसआई जगदीश और कांस्टेबल राजाराम को लाइन हाजिर कर दिया.

बीकानेर एसपी योगेश यादव ने गंगाशहर थानाप्रभारी सीआई राणीदान, एएसआई जगदीश और कांस्टेबल राजाराम को लाइन हाजिर कर दिया.

REET copying case update news: रीट परीक्षा में नकल की धांधली के बाद अब उसमें रिश्वत का भी तड़का लगाने की तैयारी थी. रीट परीक्षा में डिवाइस लगी चप्पल बनाने के आरोपी सुरेन्द्र का आरोप है कि पुलिस ने उससे एक लाख रुपये की रिश्वत मांगी है. उसने इसकी शिकायत भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो में की है. ब्यूरो कोई कार्रवाई करता इससे पहले ही रिश्वत के आरोपी पुलिसकर्मी फरार हो गये.

अधिक पढ़ें ...

बीकानेर. रीट परीक्षा (REET Exam) में नकल के लिये डिवाइस लगी चप्पल बनाने के आरोप में पकड़े गये आरोपी से भी पुलिस ने एक लाख रुपये की रिश्वत (Bribe) मांग डाली. यही नहीं बाद में मामले की जांच करने पहुंची एसीबी की टीम के साथ पुलिसकर्मियों ने अभद्रता की. पूरा मामला सामने आने के बाद पुलिस अधीक्षक योगेश यादव ने गंगाशहर थानाप्रभारी राणीदान से समेत तीन पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर कर दिया है. वहीं एसीबी के कांस्टेबल ने थानाप्रभारी राणीदान के खिलाफ राजकार्य में बाधा पहुंचाने का मामला दर्ज कराया है. घटना के बाद से थानाप्रभारी और एक कांस्टेबल गायब है.

जानकारी के अनुसार यह पूरा मामला रीट नकल प्रकरण से जुड़ा है. रीट परीक्षा 2021 की पूर्व रात्रि गंगाशहर थानाप्रभारी राणीदान ने डीएसटी के सहयोग से नकल गिरोह के मंसूबे नाकाम कर दिए थे. इस मामले में बड़ी संख्या में बदमाशों की गिरफ्तारी हुई. मुख्य आरोपी तुलसीराम कालेर को भी गिरफ्तार किया गया. इन्हीं बदमाशों में दिल्ली निवासी सुरेंद्र धारीवाल भी शामिल था. पुलिस के अनुसार सुरेंद्र धारीवाल ने नकल करवाने में इस्तेमाल की जाने वाले इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस लगी चप्पलें तैयार की थी.

मुकदमे में ना फंसाने की एवज में एक लाख रुपए की मांग की
प्रदेश‌ के इस बड़े नकल गिरोह का हिस्सा रहने वाले सुरेंद्र धारीवाल ने जमानत मिलने के बाद एसीबी में पुलिस की शिकायत की थी. अपनी शिकायत में उसने आरोप लगाया कि गत 8 नवंबर को एएसआई जगदीश और चार सिपाही उसकी दुकान पृथ्वीराज एंटरप्राइजेज आए थे. उन्होंने दुकान से दो लैपटॉप, तीन छोटे सीपीयू, एक डीवीआर, दो मोबाइल व एक लाख दो हजार रुपए ले लिए और मुझे रीट नकल प्रकरण में गिरफ्तार कर लिया. सुरेंद्र के अनुसार जमानत मिलने के बाद जब वह सीआई और एएसआई से सामान के लिए मिला तो उन्होंने सामान लौटाने और मुकदमे में ना फंसाने की एवज में एक लाख रुपए की मांग की.

सत्यापन कराने थाने गई एसीबी की टीम
एसीबी कांस्टेबल इन्द्र सिंह के अनुसार इस मामले की तहकीकात करने के लिये वह सुरेंद्र और हवा सिंह के साथ 14 जनवरी को बीकानेर पहुंचा. 15 जनवरी को एएसआई जगदीश से सत्यापन की कार्रवाई पूरी की. उसके बाद तीनों 16 जनवरी को राणीदान की मांग की सत्यापन की कार्रवाई के लिए थाने पहुंचे. परिवादी सुरेंद्र ने डिजिटल वॉइस रिकॉर्डर चालू कर लिया. राणीदान से उनके कक्ष में बातचीत की. उस दौरान वह तथा हवा सिंह बाहर ही थे.

परिवादी पर शक हुआ तो कांस्टेबल ने ली उसकी तलाशी
इन्द्र सिंह के मुताबिक जब सुरेन्द्र धारीवाल सारा सामान लेकर थानाधिकारी के कक्ष से बाहर निकला तो एक कांस्टेबल को संदेह हो गया. उसने तलाशी ली तो मास्क के अंदर छिपा वॉइस रिकॉर्डर मिल गया. इस पर राणीदान ने सुरेंद्र से वॉइस रिकॉर्डर सहित सभी उपकरण लिए तथा वहां से भाग गया. पुलिस ने राणीदान के खिलाफ मामला दर्ज कर मामले की जांच सीओ सदर आरपीएस पवन भदौरिया को दी है.

थानाधिकारी सहित 3 पुलिसकर्मी लाइन हाजिर
पूरे प्रकरण के बाद एसपी योगेश यादव ने गंगाशहर थानाप्रभारी सीआई राणीदान, एएसआई जगदीश और कांस्टेबल राजाराम को लाइन हाजिर कर दिया. एसपी के अनुसार राणीदान और राजाराम गायब है. गंगाशहर थाने में राणीदान के खिलाफ मुकदमा दर्ज हो चुका है.

Tags: Anti corruption bureau, Bikaner news, Rajasthan latest news, Rajasthan police, REET exam

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर