COVID-19: बूंदी जिले में कोरोना वायरस नहीं ले पाया 'एंट्री', यहां पढ़ें क्या है खास वजह
Bundi News in Hindi

COVID-19: बूंदी जिले में कोरोना वायरस नहीं ले पाया 'एंट्री', यहां पढ़ें क्या है खास वजह
कोटा संभाग मुख्यालय की सीमा से सटे बूंदी की दूरी भी इससे महज 40 किलोमीटर है. कोटा वर्तमान में कोरोना का हॉट-स्पॉट बना हुआ है.

राजस्थान में बेलगाम हो रहा कोरोना वायरस (COVID-19) अब तक प्रदेश के 33 जिले में से 31 में दस्तक दे चुका है. चौतरफा इस वायरस के हो रहे अटैक के बावजूद बूंदी जिला (Bundi District) अभी तक इससे बचा हुआ है.

  • Share this:
बूंदी. राजस्थान में बेलगाम हो रहा कोरोना वायरस (COVID-19) अब तक प्रदेश के 33 जिले में से 31 में दस्तक दे चुका है. चौतरफा इस वायरस के हो रहे अटैक के बावजूद बूंदी जिला (Bundi District) अभी तक इससे बचा हुआ है. इसे जिला प्रशासन के प्रयास कहें या फिर बूंदीवासियों की किस्मत कि चारों तरफ से कोरोना हॉट-स्पॉट जिलों से घिरे इस जिले में अभी तक कोरोना की 'एंट्री' नहीं हो पाई है. यहां शहरी और ग्रामीण लोग कोरोना से बचने के लिए पूरी तरह से प्रयास कर रहे हैं और मुकाबला करने के लिए भी पूरी तरह से तैयार हैं.

बूंदी चारों तरफ कोरोना हॉट-स्पॉट जिले हैं
बूंदी जिला कोटा संभाग में आता है. कोटा संभाग मुख्यालय की सीमा से सटे बूंदी की दूरी भी इससे महज 40 किलोमीटर है. कोटा वर्तमान में कोरोना का हॉट-स्पॉट बना हुआ है. वहीं जिले की सीमा भीलवाड़ा, टोंक और सवाई माधोपुर से भी लगती है. इनमें से भीलवाड़ा पूर्व में हॉट-स्पॉट रह चुका है. टोंक हॉट-स्पॉट है. सवाई माधोपुर में भी अब लगातार पॉजिटिव केस आ रहे हैं. इन सब हालात के बीच बूंदी ने अपने आपको अभी तक कोरोना से बचाकर रखा है. इसके पीछे कारण प्रशासन की सजगता और लोगों की सतर्कता को माना जा रहा है. जिले के मुखिया कलक्टर अंतरसिंह नेहरा और पुलिस कप्तान शिवराजसिंह मीणा द्वारा उठाये गये 16 कदम कारगर साबित हो रहे हैं.

ये उठाए गए हैं कदम



- जिले की सभी सीमाएं सील हैं.


- लॉकडाउन का सख्ती से पालन.
- सेवाभावी लोगों को आगे लाना.
- कलक्टर-एसपी का सभी से सीधा संवाद.
- अधीनस्थ अधिकारियों में बेहतर समन्वय.
- मातृ शक्ति से मास्क बनवाकर वितरित करना.
- जनप्रतिनिधियों की सतर्कता और आर्थिक सहयोग.
- मास्क लगाने और सोशल डिस्टेंसिंग की पूरी पालना.
- जिले के सवाजसेवी और भामाशाहों का भरपूर सहयोग.
- पुलिस, प्रशासन और चिकित्सा विभाग में बेहतर समन्वय.
- गांव को सेनेटाइज करवाना. ग्रामीणों को कोरोना के प्रति जागरुक रखना.
- शहरी और ग्रामीण लोगों को जागरुक कर कोरोना की जंग में शामिल किया.
- अफवाह फैलाने और लाकडाउन का उल्लंघन करने वालों की तुरंत गिरफ्तारी.
- मण्डी में जिंसो की खरीद शुरु करवाकर किसानों का विरोध प्रदर्शन रोका.

Lockdown: घर जाने के लिए 6 दिन तक 196 KM पैदल चलती रही 9 माह की गर्भवती महिला

Weather Update: राजस्थान में 10 दिन देरी से आएगा मानसून, लेकिन...
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading