बूंदी में नमूने फेल होने से किसानों को खरीद केंद्र का नहीं मिल रहा लाभ
Bundi News in Hindi

बूंदी में नमूने फेल होने से किसानों को खरीद केंद्र का नहीं मिल रहा लाभ
जांच में नमूने फेल होने के बाद विरोध प्रदर्शन करते किसान

बूंदी में उपज खरीद केंद्र पर चना और सरसों की फसल के नमूने फेल होने से किसानों को खरीद केंद्र का लाभ नहीं मिल रहा है और किसान व्यापारियों को औने- पौने दाम पर अपनी फसल बेचने को मजबूर हैं.

  • Share this:
राजस्थान सरकार ने बूंदी जिले में किसानों को चना और सरसों की फसल का उचित मूल्य देने के लिए जिले में शुरू किए गए सरकारी खरीद केन्द्रों पर गुणवत्ता के नाम पर जिंसों को पास नहीं किए जाने के कारण अधिकतर किसानो को राहत नहीं मिल पा रही है. खरीद केन्द्र के सर्वेयर गुणवत्ता के नाम पर अनाज के नमूनों को फेल कर दे रहे हैं जिससे किसान औने-पौने भाव में व्यापारियों को अपनी उपज बेचने के लिए मजबूर हो रहे हैं.

राज्य सरकार ने शुरू किए गए सरकारी खरीद केन्द्र पर चना और सरसों की जींस सर्वेयर से फेल कर दिए जाने के विरोध में किसान प्रदर्शन कर रहे हैं. इसके साथ ही व्यापारियों को औने-पौने भाव में अपनी जिंस बेच रहे हैं. बूंदी की पुरानी कृषि उपज मण्डी में राज्य सरकार ने किसानों को चना और सरसों की जिंस का उचित मूल्य दिलाने के लिए जिले में 7 केन्द्र शुरू किए गए हैं. लेकिन उक्त समर्थन मूल्य केन्द्रो पर अपनी जिंस लेकर आए किसानो में से अधिकतर किसानों की जिंस को सर्वेयर के फेल कर दिए जाने से उन्हें इसका लाभ नहीं मिल पा रहा है.

इस संबंध में परेशान किसानों का कहना है कि उनके द्वारा छ माह पूर्व बेची गई उड़द की जिंस का अभी तक भुगतान नहीं होने से जहां बैंक वालों, व्यापारियों और आढ़तियों के  चक्कर काटने से वे पहले से ही परेशान हैं. ऐसे में कर्ज पर राशि लेकर जैसे- तैसे चना और सरसों की फसल तैयार की. जिसके बाद खरीद केन्द्रों पर उन्हें फेल कर दिए जाने से व्यापारियों को 3500 रुपए और 3000 में बेचने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading