बाघिन की आवाज सुनाकर पकड़ में आया टाइगर T91, बूंदी से कोटा किया शिफ्ट
Bundi News in Hindi

बाघिन की आवाज सुनाकर पकड़ में आया टाइगर T91, बूंदी से कोटा किया शिफ्ट
फाइल फोटो.

रणथम्भौर अभयारण्य की बाघिन की अावाज सुनाकर टाइगर टी 91 को किया गया ट्रंकुलाइजर. मुकुंदरा अभयारण्य में शिफ्ट में किया जाएगा शिफ्ट.

  • Share this:
राजस्थान के बूंदी जिले में रामगढ विषधारी अभयारण्य क्षेत्र में पिछले पांच माह से भ्रमण कर रहे हैं. टाइगर टी 91 को कोटा के मुकंदरा में शिफ्ट करने की चल रही जद्दोजहद की कड़ी में आखिरकार वन्य जीव विभाग की टीम ने टाइगर टी 91 को ट्रेंकुलाइज कर उसे मुकदरा ले जाने में सफलता हासिल कर ली है. रणथम्भौर अभयारण्य की बाघिन की अावाज को टैप रिकॉर्डर में रिकॉर्ड करके लाये मुकंदरा अभयारण्य के वन्य जीव अधिकारी पिछले तीन दिनों से रामगढ़ अभयारण्य में डेरा डाले बैठे थे.

टाइगर टी 91 को बाघिन की अवाज सुनाकर जाल में फंसाया गया और शिकार के लिए पाडा बांध कर ट्रेंकुलाइज करने का प्रयास किया जा रहा था. ऐसे में बीती रात को वन्य जीव अधिकारियों को टी 91 को लालचा देकर व मादा के मोह में फंसा कर ट्रेंकुलाईज करने में सफलता हासिल कर ली.

जिसे ट्रेंकुलाईज करने के बाद मुकुंदरा अभयारण्य में शिफ्ट करने के लिए रवाना हो गये थे. इस प्रकार टाइगर के लिए मुफीद क्षेत्र माने जाने वाले रामगढ विषधारी अभयारण्य में पांच माह से विचरण कर रहे टाइगर टी 91 को मुकंदरा में शिफ्ट करने पर बूंदी जिले के लोगों में आक्रोश उत्पन हो गया हैं.



बूंदी के लोग टाइगर टी 91 को रामगढ विषधारी अभयारण्य में रखने के साथ-साथ रणथम्भौर से एक मादा टाइगर को लाकर रामगढ विषधारी अभयारण्य को विकसित किए जाने की मांग कर रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading