राजस्थान में मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना एक मई से होगी शुरू, कल से शुरू हो रही है रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया

राजस्थान में मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना के लिए कल से रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू हो रही है.

राजस्थान में मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना के लिए कल से रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू हो रही है.

राजस्थान (Rajasthan) में मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना का लाभ लेने के लिए कल यानी कि एक अप्रैल से रजिट्रेशन (Registration) प्रक्रिया शुरू हो रही है. इस योजना का लाभ प्रदेश के नागरिकों को एक मई से मिलना शुरू हो जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 31, 2021, 5:36 PM IST
  • Share this:
जयपुर. राजस्थान (Rajasthan News) में मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना एक मई से शुरू होगी, लेकिन इस योजना के लिए रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया कल यानी कि एक अप्रैल से शुरू होने जा रही है. योजना के तहत हर बीमित परिवार को कैशलेस इलाज (Cashless Treatment) के लिए 5 लाख रुपए का बीमा कवर होगा. खास बात यह है कि बीमित परिवारों को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती होने से 5 दिन पहले और डिस्चार्ज होने के बाद 15 दिनों का खर्च भी पैकेज में शामिल किया गया है. मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना क्या है इसके बारे में जानने के लिए देखिए ये खास रिपोर्ट...

मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना में हर परिवार को इलाज के लिए 5 लाख रुपए का बीमा कवर मिलेगा. NFSA और SECC के पात्र परिवारों का प्रीमियम सरकार देगी. लघु-सीमांक कृषक और संविदाकर्मियों का भी बीमा प्रीमियम सरकार देगी. चिन्हित सामान्य बीमारियों के लिए 50 हजार रुपए, गंभीर बीमारियों के लिए 4 लाख 50 हजार रुपए का कवर मिलेगा. विभिन्न बीमारियों के 1576 पैकेज किए गए हैं शामिल, योजना से जुडे़ निजी और सरकारी अस्पतालों में मिलेगा उपचार, भर्ती होने से 5 दिन पहले-डिस्चार्ज होने के बाद 15 दिनों का खर्च भी शामिल है.

राजस्थान विधानसभा उपचुनाव: BJP ने जारी की 30 स्टार प्रचारकों की सूची, वसुंधरा राजे 5वें नंबर पर

प्रदेश में मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना का लाभ एक मई से मिलने लगेगा, जिसके तहत हर परिवार को कैशलेस इलाज के लिए 5 लाख रुपए तक के स्वास्थ्य बीमा का लाभ मिलेगा. योजना के तहत चिन्हित सामान्य बीमारियों के लिए 50 हजार रुपए तो गंभीर बीमारियों के लिए 4 लाख 50 हजार रुपए प्रतिवर्ष बीमा कवर मिलेगा. इस योजना में विभिन्न बीमारियों के 1576 पैकेज शामिल किए गए हैं. इसके तहत योजना से जुडे़ निजी और सरकारी अस्पतालों में लाभार्थि परिवार नि:शुल्क उपचार ले सकते हैं.
खास बात यह है कि योजना में लाभार्थी को भर्ती होने से 5 दिन पहले और डिस्चार्ज होने के बाद 15 दिनों का खर्चा भी पैकेज में शामिल है. हालांकि NFSA और SECC के पात्र परिवारों का प्रीमियम राज्य सरकार स्वंय देगी और लघु-सीमांत कृषक और संविदाकर्मियों का भी बीमा प्रीमियम भी राज्य सरकार देगी. शेष परिवार 850 रुपए सालाना देकर इस योजना का लाभ उठा पाएंगे.

ऐसे कर सकते हैं आवेदन

योजना से जुड़ने के लिए health.rajasthan.gov.in पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवाना आवश्यक होगा. इस योजना से जुड़ने के लिए एक अप्रैल से रजिस्ट्रेशन शुरू होंगे. आयुष्यमान भारत महात्मा गांधी राजस्थान स्वास्थ्य बीमा योजना के लाभान्वित, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम और सामाजिक आर्थिक जनगणना 2011 के पात्र परिवारों को रजिस्ट्रेशन करवाने की आवश्यकता नहीं होगी. रजिस्ट्रेशन के लिए  भामाशाह या जन आधार कार्ड या जन आधार संख्या या जन आधार के रजिस्ट्रेशन की रसीद और आधार कार्ड आवश्यक है.



गहलोत कैबिनेट का बड़ा निर्णय: पर्यटन नीति को दी मंजूरी, 6000 गाइड की भर्ती का रास्ता खुला

ई-मित्र पर आवेदन शुल्क 20 रुपए लगेगा और प्रीमियम जमा करवाने का शुल्क 10 रुपए लगेगा. जिन परिवारों का जन आधार या भामाशाह नामांकन नहीं हुआ है, उन्हें पहले जन आधार नामांकन करवाना होगा. योजना से जुड़ने के लिए 1 से 10 अप्रेल तक ग्राम पंचायत स्तर पर विशेष रजिस्ट्रेशन शिविर भी आयोजित होंगे.

जयपुर में सरकारी अस्पलात के सीएमएचओ डॉ.नरोत्तम शर्मा ने बताया कि योजना के लाभार्थी की अस्पताल या चिकित्सा प्रशासन से जुड़ी किसी भी शिकायत का निवारण जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में जिला स्तरीय परिवेदना निवारण समिति द्वारा परिवेदना प्राप्ति के 30 दिनों के भीतर किया जाएगा. अगर लाभार्थी इस कमेटी के निर्णय से संतुष्ट नहीं है, तो उस निर्णय के खिलाफ 30 दिनों में राज्य स्तरीय परिवेदना निवारण समिति में भी अपील की जा सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज