लाइव टीवी

शिक्षा के ‘साम्प्रदायीकरण’ के खिलाफ जयपुर में विरोध प्रदर्शन

Bhasha
Updated: August 5, 2016, 7:24 PM IST
शिक्षा के ‘साम्प्रदायीकरण’ के खिलाफ जयपुर में विरोध प्रदर्शन
तस्‍वीर साभार: www.uniraj.ac.in से

एक विशेष धर्म के धार्मिक ग्रंथों को यूनिवर्सिटी के पाठ्यक्रम में शामिल किए जाने के विरोध में स्टेचू सर्कल पर प्रदर्शन.

  • Bhasha
  • Last Updated: August 5, 2016, 7:24 PM IST
  • Share this:
राजस्थान विश्वविद्यालय के कॉमर्स एवं मैनेजमेन्ट के स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों में एक विशेष धर्म के धार्मिक ग्रंथों को शामिल किए जाने के विरोध में गुरुवार को विभिन्न जन संगठनों ने जयपुर के स्टेचू सर्कल पर प्रदर्शन किया.
राजस्थान समग्र सेवा संघ तथा फ़ोरम फोर डेमोक्रेसी एण्ड कम्यूनल एमिटी, भारतीय बौद्घ महासभा, जमाअते इस्लामी हिन्द, दलित-मुस्लिम एकता मंच, एसोसिएशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ सिविल राइट्स, स्टूडेन्ट्स इस्लामिक ऑर्गेनाइज़ेशन के प्रतिनिधियों ने कहा कि यह देश के धर्मनिरपेक्ष स्वरुप के विरुद्घ है तथा संविधान के धर्म निरपेक्ष ताने-बाने को क्षीण करने वाला है.
प्रदर्शनकारियों को सम्बोधित करते हुए जमाअते इस्लामी हिन्द के प्रदेश महासचिव मो. नाजि़मुद्दीन ने कहा कि हम किसी भी धर्म या ग्रंथों के विरोधी नहीं हैं अपितु हमारा विरोध इस बात पर है कि किसी एक ही धर्म के ग्रंथ पाठ्यक्रम में क्यों शामिल किए गए.

उन्होंने कहा कि यदि सरकार ने यह आदेश तुरन्त वापस नहीं लिया तो संविधान के दायरे में विरोध किया जाएगा तथा न्यायालय का दरवाज़ा भी खटखटाया जाएगा.

राजस्थान समग्र सेवा संघ के सवाई सिंह ने कहा कि भाजपा सरकार जन-हित के मुद्दों से जनता का ध्यान हटाने के लिए इस प्रकार के मुद्दे उछालती रहती है और सरकार का यह क़दम पूर्णरूप से साम्प्रदायिक एवं नागरिकों के बीच वैमनस्य पैदा करने वाला है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चित्तौड़गढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 5, 2016, 4:22 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर