लाइव टीवी

'सरजमीन की सुरक्षा के लिए मुसलमान जान कुर्बान करने को हैं तैयार'

PK Agarwal | ETV Rajasthan
Updated: September 26, 2016, 12:34 PM IST
'सरजमीन की सुरक्षा के लिए मुसलमान जान कुर्बान करने को हैं तैयार'
ऑल इंडिया उलेमा मशाईख बोर्ड के चेयरमैन सैय्यद मोहम्मद अशरफी. फोटो-(ईटीवी)

देश का मुसलमान हमेशा अपने मुल्क के साथ है और वक्त आने पर सीमा पर खड़ा होने को तैयार है. सरजमीन की सुरक्षा के लिए सभी मुसलमान जान कुर्बान करने के लिए तैयार हैं.

  • Share this:
देश का मुसलमान हमेशा अपने मुल्क के साथ है और वक्त आने पर सीमा पर खड़ा होने को तैयार है. सरजमीन की सुरक्षा के लिए सभी मुसलमान जान कुर्बान करने के लिए तैयार हैं. जरूरत है मुल्क के हुक्मरानों को निर्णय लेने की.

कुछ ऐसे ही जबाव देते हुए ऑल इंडिया उलेमा मशाईख बोर्ड के चेयरमैन सैय्यद मोहम्मद अशरफी ने कहा कि अब वक्त आ गया है कि पाकिस्तान को जवाब दिया जाए.

अशरफी ने अपने चित्तौड़गढ़ प्रवास के दौरान कहा कि जैसे ही सरकार कोई कदम उठाएगी तो मुसलमान आतंकवाद और देश के दुश्मनों के खिलाफ एकजुट होकर कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा होगा. देश का मुसलमान जब किसी दूसरे मुल्क में जाता है तो उससे उसकी जाति, धर्म के बारे में नहीं पूछा जाता, बल्कि उसे हिन्दुस्तानी ही जाना जाता है. आतंकवाद को खत्म करने के लिए आतंकवाद की जड़ नष्ट करने का आह्वान किया. पेड़ की पत्तियां तोडऩे से पेड़ नहीं सूखता, बल्कि उसकी जड़ को खत्म करना होता है और उन्होंने आतंकवाद की जड़ पर हमला करने की जरूरत बताई

उन्होंने कहा कि मुसलमान को शक की निगाह से देखा जाता है, जबकि हमें हिन्दुस्तानी होने के लिए सर्टिफिकेट की आवश्यकता नहीं है. गोहत्या के सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि देश में जितने कत्लखाने संचालित हो रहे हैं, उन्हें बंद कर विदेशों में निर्यात पर प्रतिबंध लगाना चाहिए, ताकि गाय की हत्या बंद हो सके. जरूरत है ठोस कदम की, उसके बाद ही गो हत्या का कानून प्रभावी काम कर पाएगा.

मुस्लिम आतंकवाद के सवाल पर उन्होंने कहा कि विदेशों से भारत के खिलाफ साजिश रखकर कुछ लोग बरगलाए जा रहे हैं और देश को इन लोगों को कड़ा जवाब देना चाहिए. उन्होंने सभी धर्म और जातियों के लोगों को एक बताते हुए कहा कि देश का मुसलमान भी वही अनाज खाता है और देश की धरती से हुई उपज का खून भी उसकी रगों में बहता है तो फिर वह मुल्क से अलग कैसे हो सकता है.

चित्तौड़गढ़ मे स्थित सरदार सैय्यद अमहद अशरफी साहब के सालाना उर्स में शरीक होने आए अशरफी ने उरी हमले की निंदा करते हुए पोस्टरों का विमोचन भी किया.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चित्तौड़गढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 26, 2016, 12:34 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...