• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • Rajasthan News: एक लाख का कर्जा चुकाने के लिए मासूम के हाथों में थमा दिया कटोरा

Rajasthan News: एक लाख का कर्जा चुकाने के लिए मासूम के हाथों में थमा दिया कटोरा

पिता द्वारा अपने ही चार बच्चों से चौराहों पर मंगवाई जा रही है भीख

Childhood in begging : मासूमों के बचपन को छीनकर उन्हें भिक्षावृत्ति के धंधे में धकेलने वालों का गिरोह शेखावाटी क्षेत्र में सक्रिय है. पिता ने कर्ज नहीं दिया तो उसके बच्चे को भिक्षावृत्ति में धकेल दिया. यह गिरोह मासूम बच्चों को ट्रेन से अलग-अलग जगह भेजकर भिक्षावृत्ति करवा रहा है.

  • Share this:
चूरू. मासूमों के बचपन को छीनकर उन्हें भिक्षावृत्ति (begging) के धंधे में धकेलने वाले कारोबारियों का गिरोह शेखावाटी क्षेत्र में सक्रिय है. चूरू में ऐसे 3 चौंका देने वाले मामले सामने आये हैं, जहां 10 साल के एक बालक को मां-बाप द्वारा लिया गया कर्जा चुकाने के लिये भिक्षावृति में धकेलकर रुपये वसूले जा रहे हैं. एक अन्य केस में पिता ही मासूम बेटी (Innocent daughter) को चौराहे पर खड़ा कर भीख मंगवा रहा है.

इतना ही नहीं गिरोह द्वारा मासूम बच्चों को ट्रेन के जरिये अलग-अलग जगहों पर भेजकर भिक्षावृति करवाई जा रही है. चूरू चाइल्ड हैल्प लाइन की टीम द्वारा बालकों की तस्करी के विरुद्ध चलाये जा रहे अभियान के तहत पिछले दो दिनों में तीन बालकों के रेस्क्यू के दौरान चौंकाने वाले मामले सामने आये हैं.

पिता का कर्जा चुकाने के लिए मांग रहा भीख
जिले की सुजानगढ़ तहसील के एक बालक के हाथों में इसलिए भीख का कटोरा थमा दिया गया क्योंकि उसके मां-बाप ने साहूकार से एक लाख रुपये का कर्जा लिया. अब उस कर्जे को चुकाने के लिये साहुकार उस मासूम से भीख मंगवाकर अपने रुपये वसूल रहा है. चाइल्ड लाइन टीम ने भिक्षावृत्ति करते बालक का सीकर में रेस्क्यू किया है.

बालश्रम और भिक्षावृत्ति के विरुद्ध अभियान
इसके अलावा टीम द्वारा की गयी कार्यवाही में एक ऐसा भी मामला सामने आया है, जिसमें एक पिता ने अपनी ही 10 साल की बेटी को भीख मांगने के लिये चौराहे पर खड़ा कर दिया. यह पिता सुबह इस बेटी को शहर में छोडकर जाता है और दिनभर दर-दर की ठोकरें खाने के बाद बच्ची को दिन ढलते ही अपने साथ गांव ले जाता है. चूरू चाइल्ड हेल्प लाइन टीम की कार्डिनेटर रुकैय्या पठान ने बताया कि टीम के द्वारा बाल तस्करी के विरुद्ध अभियान चलाया गया है. जिसके तहत बालश्रम, भिक्षावृत्ति आदि में फंसे बच्चों का रेस्क्यू किया जा रहा है.

पिता अपने चारों बच्चों से मंगवा रहा था भीख
उन्होंने बताया कि अब तक तीन ऐसे मामले सामने आ चुके हैं. इससे यह आशंका जाहिर होती है कि क्षेत्र में कोई रैकेट सक्रिय है जो बच्चों को भिक्षावृत्ति में धकेल रहा है. उन्होंने बताया कि एक मामले में तो पिता ने ही अपनी मासूम बेटी को बस स्टैंड पर भीख मांगने के लिए खड़ा कर दिया. आरोपी पिता अपने चार बच्चों को चार अलग अलग जगहों पर खड़ा कर भीख मंगवाता और सुबह से दोपहर तक मांगी गयी भीख के पैसे ले जाता और शाम को फिर बच्चों को घर ले जाता.

सीकर-बीकानेर ट्रेन में सात साल के मासूम का रेस्क्यू
इसके अलावा शुक्रवार को सीकर-बीकानेर ट्रेन से 7 साल के एक बालक का रेस्क्यू किया गया है जिससे किसी गिरोह द्वारा ट्रेन में भीख मंगवाई जा रही थी. बहरहाल तीनों बालकों को टीम द्वारा बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश किया गया. जहां उनकी काउन्सलिंग कर इनके पुनर्वास की व्यवस्था की जा रही है. टीम द्वारा इन मामलों में आगे पुलिस का सहयोग लेकर आरोपियों के खिलाफ कार्यवाही की भी योजना है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज