लाइव टीवी

FB पर चमक रहा चूरू का 7 साल का सिंगर, दो गानों को देख चुके हैं 1.8 करोड़ लोग

मनोज शर्मा | News18 Rajasthan
Updated: January 27, 2020, 7:10 PM IST
FB पर चमक रहा चूरू का 7 साल का सिंगर, दो गानों को देख चुके हैं 1.8 करोड़ लोग
सात साल के इस बच्चे के गाने को 20 दिनों में 11 मिलियन लोग देख चुके हैं.

आपणी पाठशाला की बालसभा में सात साल के बच्चे (Seven years old boy) ने जब शर्माते हुए एक गाना गाया (Sing a song) तो सिपाही धर्मवीर ने उसका एक वीडियो बनाया और उसे फेसबुक पर अपलोड कर दिया. सात साल के इस बच्चे के गाने को 20 दिनों में 11 मिलियन लोग देख चुके हैं.

  • Share this:
चूरू. राजस्थान में चूरू की आपणी पाठशाला (Apni Pathshala) अब किसी परिचय की मोहताज नहीं है. महिला थाना पुलिस के सिपाही धर्मवीर (Constable Dharamveer) द्वारा जिला मुख्यालय पर संचालित इस पाठशाला में उन अभावग्रस्त बच्चों को पढ़ा कर समाज की मुख्यधारा से जोड़ने का कार्य किया जा रहा है, जो शहर में कचरा बीनने और भिक्षावृति में संलिप्त हैं. अगर यह कहा जाये कि सिपाही धर्मवीर जाखड़ आपणी पाठशाला में हीरों को तराशने का काम कर रहा है तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी. पाठशाला की बालसभा में सात साल के बच्चे ने जब शर्माते हुए एक गाना गाया तो सिपाही धर्मवीर ने उसका एक वीडियो बनाया और उसे फेसबुक (Faceboo) पर अपलोड कर दिया. सात साल के इस बच्चे के गाने को 20 दिनों में 11 मिलियन लोग देख चुके हैं. झुग्गी झोपडी में रहने वाले अशोक का दूसरा गाने की वीडियो 2 दिन पहले फेसबुक पर डाला जिसे 7 मिलियन लोगों ने देख लिया है. अब आपणी पाठशाला, इस नन्हे सिंगर को चमकाने में लग गयी है।

इस सिंगर ने शराबी पिता की प्रताड़ना सही

एक सात साल का नन्हा बालक जिसने जन्म के बाद अपने शराबी पिता की प्रताड़ना सही, भुखमरी में दिन निकाले और पेट भरने के लिये अपनी मॉ के साथ कचरा बीना तथा घर-घर जाकर भीख मांगी. लेकिन आज इस नन्हे बालक के गाये गाने के वीडियो को 2 दिन में सात मिलियन लोग देख चुके है. फिल्मी गानों को अपने सुरों में पिरोकर 7 साल का अशोक, नए आयाम स्थापित कर रहा है.

इनके गानों को 24 हजार लोग शेयर कर चुके हैं

आवाज में कसक और सुरों में डूबकर जब यह नन्हा सिंगर गाना गाता है तो कोई भी उसकी तारीफ किये बगैर नहीं रह सकता. संगीत का नॉलेज नहीं होने के बावजूद जब अशोक अपनी आवाज का जादू बिखेरता है तो हर कोई उसका कायल हो जाता है. सोशल मीडिया पर अशोक की मीठी आवाज पर इन दिनों लोग झूम रहे हैं. अपनी सधी आवाज में फिल्मी गीतों का ऐसा जादू कि इस एक गाने को 15 हजार लोगों ने कमेंट कर तारीफ की है तो वहीं 24 हजार लोग इसे शेयर कर चुके हैं. बालसभा में गाए इस गाने ने अशोक की अलग ही पहचान बना दी है.

Ashok
लोगों के घरों में टेलीविजन देखकर अशोक ने गानों को सुर देना सीखा है.


दूसरे के घरों में टीवी देखकर अशोक ने गानों को सुर देना सीखालोगों के घरों में टेलीविजन देखकर अशोक ने गानों को सुर देना सीखा है. अब आपणी पाठशाला के सिपाही धर्मवीर ने अशोक को नया मोबाइल खरीदकर दिया है ताकि वह अपने हुनर को निखार सके. इसके अलावा आपणी पाठशाला द्वारा बच्चे के लिये संगीत शिक्षक भी मुहैय्या करवाया जा रहा है.

मां मंजू ने बच्चों को पालने के लिए भीख मांगी, अब कर रही मजदूरी

अशोक की मां मंजू सरदारशहर के शिमला गांव की है जिसकी शादी चूरू के थैलासर गांव के कैलाश के साथ 12 साल पहले हुई थी. शराबी पति की मारपीट और प्रताड़ना के बीच मंजू ने घर—घर जाकर भीख मांगकर अपने बच्चों का पालन किया. मंजू बताती है कि पांच साल का अशोक जब गाने गाता था तो उसका पिता उसकी पिटाई करता था. शराबी पिता ने अशोक की मां को उसके चार बच्चों के साथ उनके हाल पर छोड़ दिया और फरार हो गया. कच्ची बस्ती में रह रही मंजू ने इसके बाद चारों बच्चों को आपणी पाठशाला भेजना शुरू कर दिया. आपणी पाठशाला में जहां चारों बच्चे पढ़ने लगे, वहीं मंजू ने भी भीख मांगना छोड़कर मजदूरी करनी शुरू कर दी. आपणी पाठशाला के सिपाही धर्मवीर ने बताया कि आपणी पाठशाला के बच्चों में प्रतिभाओं की कमी नहीं है, जरूररत है इनकी प्रतिभा को तराशने की, जिसके लिये प्रयास किये जा रहे हैं.

यह भी पढ़ें: राहुल गांधी की जयपुर में कल होगी युवा आक्रोश रैली, NRU से NRC पर करेंगे हमला

यौन उत्पीड़न: आसाराम के सह-आरोपी प्रकाश और शिवा पर कोर्ट जल्द देगी फैसला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चूरू से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 27, 2020, 7:07 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर