CI आत्महत्या मामलाः पूर्व मंत्री राजेंद्र राठौड़ समेत सैकड़ाें पर केस दर्ज, जानें क्या है कारण
Churu News in Hindi

CI आत्महत्या मामलाः पूर्व मंत्री राजेंद्र राठौड़ समेत सैकड़ाें पर केस दर्ज, जानें क्या है कारण
राजेंद्र राठौड़ पर कोरोना संक्रमण को लेकर जारी एडवाइजरी की पालन नहीं करने का आरोप लगाया गया है.

राजगढ सीआई विष्णुदत्त बिश्नोई की हुई मौत के मामले को लेकर न्यायिक जांच की मांग कर रहे विधानसभा उपनेता प्रतिपक्ष और बीजेपी विधायक राजेंद्र राठौड़ (Rajendra Rathore) सहित 7 नामजद और 200 अन्य के खिलाफ 24 मई को राजगढ़ थाने में मामला दर्ज हुआ है.

  • Share this:
चुरु. 23 मई को राजस्थान के चूरू जिले के राजगढ सीआई विष्णुदत्त बिश्नोई की हुई मौत के मामले को लेकर न्यायिक जांच की मांग कर रहे पूर्व मंत्री और विधानसभा उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ (Rajendra Rathore) सहित 7 नामजद और 200 अन्य के खिलाफ 24 मई को राजगढ़ थाने में मामला दर्ज हुआ है. मामले में कोरोना संक्रमण को लेकर जारी एडवाइजरी की पालन नहीं करने का आरोप लगाया गया है.

24 मई को मामला दर्ज होने के बावजुद पुलिस के उच्चाधिकारी एफआईआर दर्ज होने को लेकर कोई जवाब नहीं दे रहे थे, इसलिए आज तक इसकी किसी को भनक नहीं लग पाई. राजगढ़ थाने में दर्ज एफआईआर के मुताबिक शाम बजे राजगढ़ थाने के सामने बीजेपी विधायक राजेंद्र राठौड़, मनोज न्यांगली पूर्व विधायक बसपा राजगढ, हरलाल सहारण जिला प्रमुख चूरू, पूर्व नगरपालिका चेयरमैन जगदीश बैरासरिया, वासुदेव चावला जिलाध्यक्ष बीजेपी, सहीराम बिश्नोई पूर्व जिला प्रमुख चूरू, प्रवीण सरदारपुरा अपने करीब 150-200 साथियों के साथ जिनमें काफी लोग बिना मास्क पहने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किए बिना एक भीड़ के रूप में एकत्रित होकर थानाधिकारी विष्णुदत्त की आत्महत्या करने की न्यायिक जांच करवाने और कभी सीबीआई से जांच करवाने के नारे लगाते हुए थाने के गेट तक आ गए.

एफआईआर में बताया गया कि इस समय कोविड-19 महामारी का प्रकोप चल रहा है तथा वैश्विक महामारी और राष्ट्रीय आपदा घोषित की हुई है. बिना मास्क पहने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किए बिना एकत्रित होने से कोरोना जैसे भंयकर रोग के संक्रमण फेलने एवं मानव जीवन के लिए संकट उत्पन्न किया है. पुलिस ने यह कृत्य धारा 4/5 राजस्थान महामारी अध्यादेश 2020, धारा 51 राजस्थान आपदा प्रबंधन अधिनियम और धारा 269, 270 भादंसं के तहत दंडनीय अपराध मानते हुए मामले में एफआईआर दर्ज कर इसकी तफ्तीश सीआईडीसीबी जयपुर को भिजवाई गई.



बता दें कि 23 मई को राजगढ़ सीआई विष्णुदत्त बिश्नोई का शव उनके सरकारी आवास पर फांसी के फंदे से लटकता मिला था. यह खबर जंगल में आग की तरह प्रदेश भर में फैल गई जिसके बाद जनप्रतिनिधियों के द्वारा न्यायिक जांच सुसाइड नोट को सार्वजनिक करने सहित नौ सूत्रीय मांगों को लेकर राजगढ़ थाने के सामने धरना प्रदर्शन किया गया था 23 मई की ही शाम को विधानसभा उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ और डीएसपी रामप्रताप बिश्नोई के बीच हुई तनातनी का एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था.



ये भी पढ़ें-

आइसोलेशन वार्ड में तड़पते मरीज ने दम तोड़ा, किसी ने नहीं संभाला, देखें Video

Rajasthan: गांव-कस्बों के निजी स्कूलों का बड़ा फैसला, नहीं बढ़ाएंगें फीस
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading