लाइव टीवी

लोकसभा चुनाव-2019: BJP के लिए सिरदर्द बनी चूरू सीट, पार्टी नहीं ढूंढ पाई कोई तोड़

Babulal Dhayal | News18 Rajasthan
Updated: March 19, 2019, 4:33 PM IST
लोकसभा चुनाव-2019: BJP के लिए सिरदर्द बनी चूरू सीट, पार्टी नहीं ढूंढ पाई कोई तोड़
राजस्थान में बीजेपी संगठन।

चूरू लोकसभा सीट पर बीजेपी की आपसी फूट पार्टी के लिए सिरदर्द बन गई है. एक और पार्टी के कद्दावर नेता राजेन्द्र राठौड़ हैं तो दूसरी और जिले की राजनीति के पुराने दिग्गज पूर्व सांसद रामसिंह कस्वां है.

  • Share this:
चूरू लोकसभा सीट पर बीजेपी की आपसी फूट पार्टी के लिए सिरदर्द बन गई है. एक और पार्टी के कद्दावर नेता राजेन्द्र राठौड़ हैं तो दूसरी और जिले की राजनीति के पुराने दिग्गज पूर्व सांसद रामसिंह कस्वां है. कस्वां अपने सांसद बेटे राहुल के टिकट के लिए आश्वस्त हैं तो राठौड़ गुट अपने विश्वस्त जिला प्रमुख हरलाल सहारण के लिए जोर लगाए हुए हैं.

Loksabha Elections 2019: राजस्थान BJP कोर कमेटी की अमित शाह के साथ बैठक, सभी 25 सीटों पर मंथन

राहुल कस्वां ने वर्ष 2014 की मोदी लहर में करीब तीन लाख वोटों से जीत हासिल की थी. कांग्रेस यहां तीसरे स्थान पर चली गई थी. उसके उम्मीदवार प्रताप सिंह महज 1,76000 वोट ही हासिल कर पाए. लेकिन बसपा उम्मीदवार अभिनेष महर्षि ने तीन लाख से ज्यादा वोट हासिल कर सबको चौंका दिया था. अब अभिनेष महर्षि बीजेपी में आ गए हैं और रतनगढ़ से विधायक भी बन गए हैं. सांसद रहते राहुल कस्वां ने चूरू में विकास के कई काम कराए. उन्हीं के बूते वे अपने दावेदारी ठोक रहे हैं.

लोकसभा चुनाव-2019: वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मंत्री देवी सिंह भाटी ने दिया बीजेपी से इस्तीफा

राठौड़-कस्वां के बीच छत्तीस का आंकड़ा
विधानसभा में उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ और पूर्व सांसद रामसिंह कस्वां के बीच छत्तीस का आंकड़ा है. राठौड़ अपने वफादार और भरोसेमंद चूरू के जिला प्रमुख हरलाल सहारण को टिकट दिलवाने के लिए जोर लगाए हुए हैं. राठौड़ समर्थक कस्वां परिवार की राजनीतिक जमीन कमजोर होने का दावा करते हैं. इसकी वजह है रामसिंह का इस बार राजगढ़ से विधानसभा का चुनाव हार जाना. लेकिन राहुल की सक्रियता अब भी उन्हें टिकट की रेस में सबसे आगे रखे हुए हैं. उनके अलावा अन्य दावेदारों में पार्टी के वरिष्ठ नेता सतीश पूनियां और अभिषेक मटोरिया के नाम भी आ रहे हैं.

लोकसभा चुनाव-2019: कांग्रेस और बीजेपी के लिए ये सीटें बनी हुई हैं जी का 'जंजाल'अदावत खुलकर सबके सामने आई
बीजेपी दो दशक से चूरू संसदीय सीट पर लगातार चुनाव जीत रही है. लेकिन अब कस्वां और राठौड़ के बीच चल रही अदावत खुलकर सबके सामने है. इसका अंदाजा चूरू शहर में लगे पोस्टर और होर्डिंग्स को देखकर लगाया जा सकता है. वहां चूरू विधायक राठौड़ और सांसद कस्वां के पोस्टर कहीं भी एक साथ लगे हुए दिखाई नहीं देते. चूरू चल रही इस कलह का पार्टी अभी कोई तोड़ नहीं ढूंढ पाई है.

लोकसभा चुनाव 2019: प्रदेश में बीजेपी-कांग्रेस के इन दिग्गजों पर रहेगी सभी की नजरें

लोकसभा चुनाव-2019: पाली में केन्द्रीय मंत्री चौधरी के खिलाफ पदाधिकारियों ने खोला मोर्चा

लोकसभा चुनाव 2019: अब BJP बदलेगी चुनावी रणनीति, 10 वोटर पर RSS का एक वर्कर

लोकसभा चुनाव-2019: MP सोनाराम ने जताई दावेदारी, संगठन महामंत्री से की मुलाकात

प्रत्याशी चयन में बदलाव की आहट, कांग्रेस नए जातीय समीकरण और बीजेपी देख रही फीडबैक

लोकसभा चुनाव-2019: पूर्व मंत्री निहालचंद ने कहा, किसी भी कीमत पर नहीं छोडूंगा घर

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चूरू से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 19, 2019, 4:26 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर