10 साल से चूरू की राजनीति में स्थापित होने के लिए संघर्ष कर रहे हैं रफीक मण्डेलिया

चूरू लोकसभा क्षेत्र से दूसरी बार चुनाव मैदान में डटे हुए कांग्रेस प्रत्याशी रफीक मंडेलिया इस बार अपनी जीत का पुरजोर दावा कर रहे हैं. रफीक पिछले करीब 10 साल से चूरू की राजनीति में पांव जमाने की कोशिश कर रहे हैं.

News18 Rajasthan
Updated: May 20, 2019, 4:25 PM IST
10 साल से चूरू की राजनीति में स्थापित होने के लिए संघर्ष कर रहे हैं रफीक मण्डेलिया
रफीक मंडेलिया। फोटो एफबी।
News18 Rajasthan
Updated: May 20, 2019, 4:25 PM IST
चूरू लोकसभा क्षेत्र से दूसरी बार चुनाव मैदान में डटे हुए कांग्रेस प्रत्याशी रफीक मंडेलिया इस बार अपनी जीत का पुरजोर दावा कर रहे हैं. यह बाद दीगर है कि पिछले करीब 10 साल से चूरू की राजनीति में पांव जमाने की कोशिश कर रहे रफीक को अभी तक राजनीति में सफलता नहीं मिल पाई है. लेकिन उनका दावा है कि इस बार जनता उनका साथ देगी. इस बार चूरू लोकसभा क्षेत्र में 1.16 फीसदी ज्यादा मतदान हुआ है.

चूरू लोकसभा क्षेत्र- यहां मुद्दों पर नहीं जाति और पार्टी पर लगता है ठप्पा, मुकाबला कड़ा



मूलतया चूरू के रतनगढ़ निवासी रफीक मंडेलिया का मुबंई में व्यवसाय है. वर्ष 2008 के विधानसभा चुनाव में मंडेलिया परिवार ने चूरू की राजनीति में दस्तक दी थी. रफीक के पिता मकबूल मंडेलिया ने चूरू विधानसभा क्षेत्र से पहली बार चुनाव लड़ा और उन्होंने बीजेपी के हरलाल सहारण को हराकर जीत दर्ज कराई. इससे उत्साहित मकबूल मंडेलिया के पुत्र रफीक मंडेलिया वर्ष 2009 में हुए लोकसभा चुनाव में अपना भाग्य आजमाने के लिए चुनाव मैदान में उतरे. इस चुनाव में रफीक का मुकाबला बीजेपी के रामसिंह कस्वां से हुआ. लेकिन रफीक महज 12,440 मतों के अंतर से चुनाव हार गए.

रफीक मंडेलिया। फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।


बेहद कम अंतर से विधानसभा जाने चूके हैं मंडेलिया
उसके बाद वर्ष 2013 के चुनाव में उनके पिता फिर विधानसभा चुनाव मैदान में उतरे, लेकिन उन्हें बीजेपी के दिग्गज नेता राजेन्द्र राठौड़ के सामने हार का सामना करना पड़ा. इन दो हार के बाद पार्टी ने वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में रफीक को मौका नहीं देकर दूसरे प्रत्याशी को चुनाव मैदान में उतारा. इस चुनाव में कांग्रेस को करारी हार का सामना करना पड़ा और वह तीसरे स्थान पर जाकर टिक गई. उसके बाद हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में रफीक चूरू विधानसभा क्षेत्र से चुनाव मैदान में उतरे. लेकिन इसे चाहे बदकिस्मती कहें या फिर कमजोर चुनावी प्रबंधन. रफीक फिर महज 1870 वोटों के अंतराल से विधानसभा में पहुंचने से रह गए.

रफीक मंडेलिया। फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।

Loading...

चूरू की राजनीति में लगाया बॉलीवुड का तड़का
बावजूद इसके रफीक मंडेलिया का हौंसला कम नहीं हुआ. वे इस बार फिर लोकसभा चुनाव में जिले में पार्टी के तमाम बड़े नेताओं को पछाड़कर टिकट हासिल करने में कामयाब रहे. इस बार उन्होंने चुनाव जीतने के लिए पार्टी की रणनीति के अलावा अपने संपर्कों के बूते चूरू की राजनीति में बॉलीवुड का तड़का लगाते हुए मनीषा पटेल, महिमा चौधरी, चंकी पांडे और आफताफ शिवदासानी सरीखे फिल्म स्टार्स के रोड शो करवाकर युवा मतदाताओं को रिझाने का भी प्रयास किया है. देखना यह है कि क्या रफीक इस बार अपने मकसद में कामयाब हो पाएंगे या नहीं. इसका फैसला आगामी 23 मई को होगा.

राहुल कस्वां-राजनीतिक परिवार की तीसरी पीढ़ी का यह युवा क्या लहरा पाएगा जीत का परचम ?

चूरू जिला प्रमुख की गिरफ्तारी ने पकड़ा तूल, बीजेपी की प्रदर्शन की तैयारी, सुरक्षा के कड़े इंतजाम

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...