होम /न्यूज /राजस्थान /राजस्थान के इस युवक ने 23 साल में चोटी पर खर्च किए लाखों रुपए, पढ़िए रोचक खबर

राजस्थान के इस युवक ने 23 साल में चोटी पर खर्च किए लाखों रुपए, पढ़िए रोचक खबर

Churu News: प्रजापत ने बताया कि उनकी लम्बी चोटी रखने के कारण उन्हें कई बार पेशोपेश की स्थिति का सामना करना पड़ता है. उन ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- नरेश पारीक

चूरू. अक्सर लोग अपने शौक को पूरा करने के लिए असंभव को संभव करने के लिए ऐसा कुछ कर जाते हैं कि लोग भी आश्चर्य करने लगते हैं. ऐसा ही जज्बा रतनगढ़ तहसील के गांव हुड्डेरा निवासी गोपाल राम प्रजापत के मन करीब 23 साल पहले आया. रामसुख दास महाराज की सभा के दौरान चोटी रखने की विशेषता पर दिए प्रवचनों से वे इतना प्रभावित हुए कि उन्होंने उसी दिन से चोटी बढ़ाना शुरू कर दिया. आज उनकी चोटी करीब 5 फीट 2 इंच लम्बी हो चुकी है. तहसील में उनकी लम्बी चोटी के नाम के साथ पहचान हो गई है, जिसे देखने के लिए दूर-दराज से लोग आते हैं. अब उनका सपना सबसे लंबी चोटी रखने का विश्व रेकॉर्ड बनाने का है.

रतनगढ़ के सफेद घंटाघर के पास टेलरिंग का काम करने वाले हुड्डेरा निवासी गोपाल प्रजापत ने बताया कि करीब 23 साल पहले रामसुख दास महाराज रतनगढ़ में आए थे. इस दौरान वो प्रतिदिन उनके प्रवचन सुनने जाते थे. एक दिन चोटी रखने के लाभ के बारे में बता रहे थे, उसी वक्त उन्होंने संकल्प लिया कि अब चोटी नहीं कटाएंगे. इस पर उन्होंने चोटी बढ़ाना शुरू कर दिया. चोटी बढते देख सार-संभाल की चिंता होने लगी. फिर उन्होंने इसकी विशेष देखभाल शुरू कर दी. उन्होंने बताया कि सप्ताह में एक दिन चोटी को मुल्तानी मिट्टी, नीम के पानी से धोते हैं.

इसके बाद में सरसों के तेल से इसकी अच्छी तरह से मालिश करते हैं. उन्होंने बताया कि चोटी के रख-रखाव में महीने में करीब 500 रुपए खर्च कर देते हैं. ऐसे में अबतक करीब एक लाख 40 लाख रुपए खर्च किए जा चुके हैं. चोटी संवारने में उन्हें प्रतिदिन 15-20 मिनट का समय लगता है.

लोग करते हैं फरमाइश
प्रजापत ने बताया कि उनकी लम्बी चोटी रखने के कारण उन्हें कई बार पेशोपेश की स्थिति का सामना करना पड़ता है. उन्होंने बताया कि अक्सर शादी समारोह में जाना पड़ता है तो लोग उनके आगे चोटी खोलकर दिखाने की फरमाइश करते हैं. उनका दिल रखने के लिए उन्हें चोटी खोलकर दिखानी पड़ती है, दुकान पर आने वाले ग्राहक भी कई बार इस तरह की फरमाइश करते हैं. तो वे उन्हें भी मना नहीं कर पाते हैं. प्रजापत ने बताया कि उनकी चोटी को देखकर गांव व तहसील के युवा काफी प्रभावित हुए हैं. कई युवाओं ने अब चोटी रखकर उसे बढ़ाना शुरू कर दिया है. उन्होंने बताया कि यह देखकर उन्हें काफी खुशी महसूस होती है.

8 साल से नहीं सो सके सीधे
प्रजापत ने बताया कि चोटी की लम्बाई बढ़ने के साथ ही बांधकर रखना पड़ता है, ऐसे में करीब आठ साल से सीधे नहीं सो पाए हैं. उन्हें करवट लेकर ही सोना पड़ता है. कभी सीधे सोने का मन होता है तो उन्हें चोटी को पूरा खोलकर पलंग पर फैलाना पड़ता है. साथ ही दोपहिया वाहन चलाते समय हेलमेट का प्रयोग करने में भी तकलीफ होती है. हालांकि सुरक्षा को देखते हुए हमेशा अपने साथ हेलमेट रखते हैं, लेकिन इसका उपयोग नहीं कर पाते. पुलिसकर्मियों के रोकने पर उन्हें अपनी परेशानी के बारे में बता देते हैं.

Tags: Churu news, Helthy hair tips, Rajasthan news, Rajasthan Tourism Department, World record

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें