आनंदपाल एनकाउंटर: अब तक करीब 200 लोगों के दर्ज हुए बयान

गत वर्ष चूरू जिले के मालासर गांव में हुए प्रदेश के बहुचर्चित आनंदपाल एनकाउंटर मामले की जांच तेज होती जा रही है. एनकाउंटर की जांच कर रही सीबीआई इस मामले में अब तक विभिन्न पक्षों के करीब 200 लोगों के बयान दर्ज कर चुकी है.

manoj sharma | News18Hindi
Updated: April 17, 2018, 1:57 PM IST
आनंदपाल एनकाउंटर: अब तक करीब 200 लोगों के दर्ज हुए बयान
फोटो: न्यूज 18 राजस्थान
manoj sharma
manoj sharma | News18Hindi
Updated: April 17, 2018, 1:57 PM IST
गत वर्ष चूरू जिले के मालासर गांव में हुए प्रदेश के बहुचर्चित आनंदपाल एनकाउंटर मामले की जांच तेज होती जा रही है. एनकाउंटर की जांच कर रही सीबीआई इस मामले में अब तक विभिन्न पक्षों के करीब 200 लोगों के बयान दर्ज कर चुकी है. सोमवार को सीबीआई की टीम ने इस मामले में अजमेर की हाई सिक्योरिटी जेल में बंद आनंदपाल के भाई रूपेश उर्फ विक्की व देवेन्द्र उर्फ गुट्टु से भी 6 घंटे तक पूछताछ की. सीबीआई कोर्ट जयपुर से परमीशन के बाद चूरू से सीबीआई के उपाधीक्षक सुनील एस. रावत के नेतृत्व में गई पांच सदस्यीय टीम ने उनसे पूछताछ की. रूपेश उर्फ विक्की व देवेन्द्र उर्फ गुट्टु की गिरफ्तारी के बाद ही आनंदपाल का एनकाउंटर हुआ था.

आनंदपाल एनकाउंटर के बाद आनंदपाल के गांव सांवराद में सभा के दौरान उपद्रव भी हुआ था. उसमें एक युवक की मौत हो गई थी. एनकाउंटर के बाद राजपूत व रावणा राजपूत समाज की मांग को देखते हुए राज्य सरकार ने इस मामले की सीबीआई जांच की सिफारिश की थी. राज्य सरकार की सिफारिश मंजूर होने के बाद सीबीआई ने इस मामले में इस वर्ष 6 जनवरी को पूरे प्रकरण को लेकर तीन अलग-अलग मामले दर्ज किए थे. इनमें एक मामला चूरू के रतनगढ़ इलाके में मालासर गांव में हुए एनकाउंटर का, दूसरा नागौर के सांवराद में हुए उपद्रव का व तीसरा उपद्रव में हुई युवक सुरेन्द्र सिंह की मौत का मामला दर्ज किया गया था. एनकाउंटर का मामला रतनगढ़ थाने में और उपद्रव व युवक की मौत का मामला नागौर के डीडवाना में दर्ज किया गया था.

हथियार जब्त, जांच के लिए भेजे
आनंदपाल एनकाउंटर की जांच कर ही टीम अब तक आनंदपाल की AK-47 व .22 राइफल समेत 27 पुलिसकर्मियों के हथियार, कारतूस व उनके खोल जब्त कर चुकी है. सीबीआई ने उनको जांच के लिए एफएसएल भेज दिया है.

अब तक 200 लोगों से हो चुकी है पूछताछ
सीबीआई टीम एनकाउंटर को लेकर अब तक करीब 200 लोगों से पूछताछ कर चुकी है. इनमें राजस्थान व हरियाणा पुलिस, एसओजी के बयान हो चुके हैं. वहीं मालासर में जिस मकान में आनंदपाल का एनकाउंटर हुआ था उसके मालिक श्रवण सिंह, उसकी पत्नी, बेटा व बेटी, राजपूत सभा जयपुर के अध्यक्ष गिरिराज सिंह लोटवाड़ा, करणी सेना के चूरू जिलाध्यक्ष मुरजाद सिंह समेत राजपूत समाज के 15 विभिन्न संगठनों से संबंधित लोगों के बयान दर्ज किए जा चुके हैं.

सीबीआई की दो टीमें कर रही है तीन मामलों की जांच
Loading...

तीनों मामलों की जांच सीबीआई की दो टीमें कर रही है. इनमें एनकाउंटर मामले की जांच सीबीआई के उपाधीक्षक सुनील एस. रावत के नेतृत्व में टीम कर रही है. वहीं सांवराद उपद्रव व युवक सुरेन्द्र सिंह की मौत के मामले की जांच सीबीआई के उपाधीक्षक आर के सिन्हा की टीम कर रही है. रावत और उनकी टीम ने जांच के लिए चूरू में और सिन्हा और उनकी टीम ने नागौर के डीडवाना में डेरा डाल रखा है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
-->