संत रविदास का 600 साल पुराना मंदिर तोड़ने के विरोध में दलित संगठनों ने किया प्रदर्शन

News18 Rajasthan
Updated: August 21, 2019, 3:24 PM IST
संत रविदास का 600 साल पुराना मंदिर तोड़ने के विरोध में दलित संगठनों ने किया प्रदर्शन
कलेक्ट्रेट पर विरोध प्रदर्शन करते भीम आर्मी के सदस्य

दिल्ली के तुगलकाबाद में संत रविदास का 600 साल पुराना मंदिर तोड़ने के विरोध में चुरू में दलित संगठनों ने विरोध प्रदर्शन किया.

  • Share this:
देश की राजधानी दिल्ली के तुगलकाबाद में संत रविदास के मंदिर को तोड़े जाने के विरोध में चूरू के कलक्ट्रेट परिसर के सामने बुधवार को भीम आर्मी कार्यकर्ताओं और दलित संगठनों ने विरोध प्रदर्शन किया. इस दौरान भीम आर्मी कार्यकर्ताओं ने केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की.

ओमप्रकाश मेघवाल, जिलाध्यक्ष, डॉ अम्बेडकर स्टूडेन्ट फ्रंट


कार्यकर्ताओं ने केन्द्र सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि 600 वर्ष पुराने मंदिर को तोड़े जाने से देश की अनुसूचित जाति की धार्मिक भावनाएं आहत हुई हैं. भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं ने जिला कलेक्टर के मार्फ़त राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंप कर उस मंदिर का फिर से जीर्णोद्धार करने की मांग की है. भीम आर्मी कार्यकर्ताओं ने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर वक़्त रहते दलित समाज की धार्मिक भावनाओं की हिफाजत करते हुए मंदिर का निर्माण नही करवाया गया तो भीम आर्मी और देश के अन्य दलित संगठन सड़कों पर उतर प्रदर्शन करेंगे. डॉ अम्बेडकर स्टूडेन्ट फ्रंट के चूरू जिलाध्यक्ष ओमप्रकाश मेघवाल ने कहा कि संत रविदास के इस मंदिर का पुरातात्विक महत्व भी था. संत रविवास मीरा के भी धर्म गुरु रहे हैं  इसलिए राजस्थान के सभी समाज के लोगों की भावनाएं इससे जुड़ी हुई थीं. इसे तोड़कर केंद्र सरकार ने दलितों की भावनाओं को आहत किया है.

ये भी पढ़ें- शांति धारीवाल ने कहा, संघ राष्ट्र ध्वज और राष्ट्रगान विरोधी

व्यापारी 10 लाख रुपए समेत लापता, मोटरसाइकिल और चप्पलें मिलीं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चूरू से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 21, 2019, 3:22 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...