Sujangarh By-Polls: सुजानगढ़ विधानसभा में हर बार नए चेहरे पर होता है जीत का सेहरा

सुजागनगढ़ विधानसभा सीट पर होना है उपचुनाव.

सुजागनगढ़ विधानसभा सीट पर होना है उपचुनाव.

Rajasthan Assembly By-Election 2021: राजस्थान के चूरू जिले की सुजानगढ़ विधानसभा सीट पर उपचुनाव की प्रक्रिया शुरू. कांग्रेस और बीजेपी समेत अन्य दल जल्द ही जारी करेंगे प्रत्याशियों के नाम.

  • Share this:
जयपुर. प्रदेश में विधानसभा की तीन सीटों पर उपचुनाव की प्रक्रिया आज से शुरू हो गई. मुख्यमंत्री समेत भाजपा और कांग्रेस दोनों के प्रदेश प्रभारी और प्रदेश अध्यक्ष, चुनाव के प्रत्याशियों के सही चयन के लिए इन दिनों माथापच्ची कर रहे हैं. प्रत्याशियों के पैनल बन गए हैं और संभवत: आज या कल स्क्रीनिंग कमेटी में चर्चा के बाद नाम सामने आ जाएंगे.

आज से हम आपको तीनों विधानसभा क्षेत्रों के राजनीतिक इतिहास, वोटों के गणित और जातिगत समीकरणों से अवगत कराएंगे. किस सीट पर पिछले चुनावों में किस दल या प्रत्याशी का वर्चस्व रहा है ? किसका पलड़ा क्यों भारी रहा है? आइए आज चूरू जिले की सुजानगढ़ विधानसभा के बारे में जानते हैं. जहां पर कांग्रेस सहानुभूति कार्ड खेलने की तैयारी में है तो भाजपा किसी तरह कांग्रेस का गढ़ भेदने की रणनीति बना रही है.

तीन बार निर्दलीय को भी​ जिताया

सुजानगढ़ विधानसभा का इतिहास रहा है कि यहां मतदाताओं के कमोबेश हर चुनाव में विजेता का चेहरा बदला है. पांच साल तक काम की परख की और ​फिर दूसरे प्रत्याशी को विकास करने का मौका दिया. उप चुनाव की तीनों सीटों मे से सिर्फ सुजानगढ़ ही ऐसा विधानसभा क्षेत्र है, जहां वोटर्स ने तीन ​बार निर्दलीय को भी जिताकर सदन में भेजा है.
भाजपा 4 और कांग्रेस 6 बार जीती

इस विधानसभा क्षेत्र में 1952 के पहले चुनाव में ही मतदाताओं ने जता दिया था कि उन्हें बड़ी पार्टी या बड़े नाम से कोई लेना-देना नहीं है, बल्कि वे अपनी पसंद का उम्मीदवार ही जिताएंगे. तब जनता ने स्वतंत्र पार्टी के प्रताप सिंह को विजयी बनाया था. अब तक हुए 15 विधानसभा चुनावों में कांग्रेस 6 बार, भाजपा चार बार, निर्दलीय तीन बार, जनसंघ और जनता पार्टी एक-एक बार जीती है.

1957 में सबसे कांटे का मुकाबला



विधानसभा के इतिहास की बात करें तो इस सीट पर सबसे कांटे का मुकाबला 1957 में हुआ था. तब निर्दलीय प्रत्याशी सोनादेवी मात्र 208 वोटों से प्रतिद्वंद्वी को हराकर विधानसभा में पहुंची थी. सबसे ज्यादा पांच बार चुनाव जीतने का रिकार्ड भंवरलाल मेघवाल के नाम है. दिवंगत भंवरलाल मेघवाल वर्तमान सरकार में भी सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री के पद पर थे.

सुजानगढ़ को जिला बनाना मुद्दा

करीब पौने तीन लाख वाले मतदाताओं वाले इस विधानसभा क्षेत्र को जिला बनाने की मांग लगातार उठती रही है. विधानसभा चुनावों में भी क्षेत्र को जिला बनाने का मुद्दा प्रत्याशी बनाते रहे हैं. जनता भी धरना'—प्रदर्शन करके कई बार सरकार को जिला बनाने का पत्र दे चुके हैं.

कब, कौन बना MLA



sujangarh assembly by-polls, Rajasthan By election
सुजानगढ़ विधानसभा में कब कौन बना विधायक.


जातिगत समीकरण



जाट : 63000

मेघवाल : 45000

राजपूत : 38000

मुस्लिम : 32000

ब्राह्मण : 30000

संभावित उम्मीदवार



कांग्रेस - मनोज मेघवाल (दिवंगत विधायक के पुत्र)

भाजपा - खेमाराम मेघवाल, संतोष मेघवाल, बीएल भाटी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज