Churu: 70 KM प्रति घंटे की रफ्तार से आया रेतीला तूफान, दिन में छाया अंधेरा
Churu News in Hindi

Churu: 70 KM प्रति घंटे की रफ्तार से आया रेतीला तूफान, दिन में छाया अंधेरा
रेतीले तूफान ने सड़कों पर दौड़ रहे वाहनों की स्पीड को ब्रेक लगा दिए. वाहन चालक जहां थे वहीं ठहर गये और लाइटें जला ली.

चूरू में गुरुवार को आए जबर्दस्त रेतीले तूफान (Sandstorm) से महज 5 से 7 मिनट में दिन में ही रात (Night) हो गई. करीब 70 किलामीटर प्रति घंटे की ज्यादा रफ्तार से आये रेतीले तूफान के कारण शहर में दोपहर में ही पूरी तरह से अंधेरा छा गया और दृश्यता शून्य (Visibility zero) हो गई.

  • Share this:
चूरू. शहर में गुरुवार को आए जबर्दस्त रेतीले तूफान (Sandstorm) से महज 5 से 7 मिनट में दिन में ही रात (Night) हो गई. करीब 70 किलामीटर प्रति घंटे की ज्यादा रफ्तार से आये रेतीले तूफान के कारण शहर में दोपहर में ही पूरी तरह से अंधेरा छा गया और दृश्यता शून्य (Visibility zero) हो गई. स्थानीय भाषा में काली-पीली आंधी कही जाने वाले इस तूफान के कारण वाहन चालकों को दिन में भी लाइट जलानी पड़ी.

सरदारशहर और रतनगढ़ में भी उठा रेतीला गुबार
शहर में मौसम में यह बदलाव दोपहर करीब 11.45 बजे पर आया. उत्तरी-पश्चिमी दिशा से अचानक रेत का विशालकाय गुब्बार उठा. आसमान में उमड़े रेत के तूफानी बवंडर ने देखते ही देखते पूरे शहर को अपनी आगोश में ले लिया. यह रेतीला तूफान इतनी तेजी से आया कि लोगों को संभलने का मौका तक नहीं मिल पाया. तेज हवाओं के साथ दिन में रात हो गयी. रेत भरे तूफान ने सड़कों पर दौड़ रहे वाहनों की स्पीड को ब्रेक लगा दिए. वाहन चालक जहां थे वहीं ठहर गए और लाइटें जला लीं. जिले के सरदारशहर और रतनगढ़ में भी तेज तूफानी हवाएं चलीं. वहां भी धूल का जबर्दस्त गुबार देखा गया है.

Rajasthan Weather Update: एंट्री के साथ ही 12 जिलों में मानसून सक्रिय, आज 8 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी
रेगिस्तानी इलाकों में इस तरह के तूफान आते रहते हैं


मौसम विभाग के चूरू प्रभारी रवीन्द्र सिहाग ने बताया कि इस तूफान की स्पीड करीब 70 से 80 किलामीटर प्रतिघंटा रही जबकि दृश्यता शून्य दर्ज की गयी है. उन्होंने बताया कि इस रेतीले तूफान की उंचाई 150 फीट तक हो सकती है. अचानक उठे रेतीले तूफान का कारण बताते हुए उन्होंने कहा कि दो जगह के वायुमण्डलीय दवाब में अंतर और पृथ्वी की गर्म सतह पर बारिश होने के कारण इस तरह के रेतीले तूफान उठते हैं. रेगिस्तानी इलाकों में इस तरह के तूफान आते रहते हैं.

Rajasthan: रोडवेज जल्द शुरू करेगी अपनी रात्रिकालीन सेवा, 100 ज्यादा रूट्स पर चल सकती हैं बसें

पिछले दिनों जैसलमेर में आया था ऐसा ही तूफान
उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों ऐसा ही रेतीला तूफान जैसलमेर में भी आया था. वहां भी इसी तरह से रेतीले तूफान ने लोगों का संभलने का मौका नहीं दिया और कुछ ही मिनटों में स्वर्ण नगरी को अपनी आगोश में ले लिया था. इस तूफान के कारण जैसलमेर के ऐतिहासिक दुर्ग का एक दरवाजा भी गिर गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज