अपना शहर चुनें

States

कोटा में 10 महीने बाद शुरू हुईं कोचिंग क्लासेस, कोविड-19 के सुरक्षा मानकों के तहत हो रहा संचालन

कोटा में कोचिंग संस्थान खुल चुके हैं. कोरोना गाइडलाइनस के साथ यहां क्लास शुरू की गई हैं.
कोटा में कोचिंग संस्थान खुल चुके हैं. कोरोना गाइडलाइनस के साथ यहां क्लास शुरू की गई हैं.

कोटा (Kota) में सरकार के आदेश के बाद कोचिंग क्लासेस (Coaching Classes) का संचालन शुरू हो चुका है. सरकार के द्वारा बनाई कोविड-19 (Covid-19) की गाइड लाइन के अनुसार कोचिंग संस्थानों का संचालन किया जा रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 18, 2021, 6:52 PM IST
  • Share this:
कोटा. शिक्षा (Education) के काशी कहे जाने वाले कोटा (Kota) में कोचिंग क्लासेस(Coaching Classes) का संचालन शुरू कर दिया गया है. कोरोना काल (Corona Era) में बंद कोचिंग संस्थान 10 महीने बाद खुले हैं. कोचिंग में पढ़ाई के लिए पहले दिन पहुंचे स्टूडेंट्स (Students) के अंदर खासा उत्साह देखने को मिला है.

कोचिंग खुलने के आज पहले दिन सुबह क्लास में टाइम से स्टूडेंट्स पहुंचे. हालांकि कोचिंग संस्थानों में कोरोना संक्रमण से बचाव के लि ए सरकार के द्वारा तय सभी मानदंड़ों का पालन किया जा रहा है और इन्हीं के तहत कोचिंग संस्थानों का संचालन किया जा रहा है.

कोचिंग संस्थानों में मास्क के साथ सेनेटाइजेशन के बाद ही एंट्री दी जा रही है. पहेल दिन हर स्टूडेंट का टेम्परेचर भी चेक किया गया. यही नहीं सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के लिए भी व्यवस्था की गई थी. कक्षाओं में भी एक बैंच पर एक ही स्टूडेंट को बैठाया गया. हालांकि पहले दिन स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या में कमी देखने को मिली.



जयपुर में बन रहा राजस्थान का सबसे ऊंचा कृष्ण-बलराम मंदिर, 200 फीट होगी ऊंचाई
कई पेरेंट्स तो स्कूलों की व्यवस्थाएं देखने पहुंचे. कोरोना संक्रमण के बीच स्कूल, कोचिंग खुलने से पेरेंट्स के मन में अलग तरह का डर था. पेरेंट्स अपने बच्चों को लेकर स्कूल पहुंचे. इधर स्टूडेंट्स के चहेरे पर भी डर देखने को मिला. कई स्टूडेंट्स ने संक्रमण से बचने के लिए फेसशील्ड लगाई. हालांकि लंबे समय बाद स्कूल आने और दोस्तों से मिलने को लेकर मन में अलग तरह की खुशी भी नजर आई. शिक्षा विभाग की ओर से भी कक्षाओं में क्षमता से आधे विद्यार्थियों को बैठाने का आदेश दिया गया है. स्कूल आने के लिए विद्यार्थियों को अभिभावकों की लिखित अनुमति भी लाना होगा.

पढ़ाई के लिए 30 हजार से अधिक स्टूडेंट्स कोटा में आ चुके हैं. करीब 1500 स्टूडेंट्स औसतन रोजाना कोटा आ रहे हैं, जो कोटा में 10 बड़े कोचिंग संस्थानों में पढ़ाई के लिए आते हैं. कोटा में 50 से अधिक छोटे और इंडिविजुअल कोचिंग क्लासेज हैं. 3000 हॉस्टल्स 25,000 से अधिक पीजी रूम 1800 मेस संचालित हैं. विभिन्न क्षेत्रों में 2 लाख लोग सीधे तौर पर निर्भर हैं. कोचिंग पर 3 हजार करोड़ का सालाना कारोबार होता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज