राजस्थान में कोरोना महामारी ने नेताओं पर जमकर ढहाया कहर, इन नेताओं की ले ली जान

कोरोना वायरस का टीका लगाने के मामले में राजस्थान का देश में पांचवां स्थान है.

कोरोना वायरस का टीका लगाने के मामले में राजस्थान का देश में पांचवां स्थान है.

राजस्थान में कोरोना (Corona) का कहर लगातार जारी है. यहां कोरोना से बचाव के लिए टीकाकरण लगातार जारी है. राजस्थान (Rajasthan) टीकाकरण के मामले में देश में पांचवें स्थान पर है.

  • Share this:

जयपुर. कोरोना (Corona) का वार सब पर हो रहा है. ये महामारी अमीर-गरीब, नेता-अधिकारी या आम जनता में भेदभाव नहीं करती. दोनों लहरों में दर्जनों नेताओं (Politicians) की कोरोना ने जान भी ले ली है. अब वैक्सीनेशन ने कुछ उम्मीदें बंधाई हैं. राजस्थान (Rajasthan) टीकाकरण के मामले में देश में पांचवें स्थान पर है और यहां जनता और नेताओं को कोविशील्ड ही ज्यादा लगाई जा रही है.

टीकाकरण में हम देश में पांचवें स्थान पर

कोरोना के​ खिलाफ जंग में टीकाकरण अभियान जारी है. 18 साल से ज्यादा के लोगों को वैक्सीनेशन के बाद राज्य में वैक्सीनेशन योग्य आबादी पांच करोड़ 15 लाख है. 18 से 45 के बीच 3 करोड़ 25 लाख लोगों का वैक्सीनेशन होना है, लेकिन इसकी रफ्तार अभी बहुत धीमी चल रही है. कुल वैक्सीनेशन योग्य आबादी में से अब तक 1.40 करोड़ से ज्यादा लोगों का वैक्सीनेशन हो चुका है.

शुरुआत में राजस्थान टीकाकरण के मामले में अव्वल रहा है, लेकिन बाद में केंद्र से पर्याप्त वैक्सीन उपलब्ध न होने के कारण अभियान की गति कुछ धीमी हुई है. इसके बावजूद देश के 15 फीसदी राष्ट्रीय औसत की तुलना में राज्य में 24 फीसदी वैक्सीनेशन हो चुका है. इसके साथ ही हिमाचल, छत्तीसगढ़, जेएंडके और केरल के बाद पांचवे स्थान पर है.
राजस्थानियों को ज्यादा लगा कोविशील्ड का टीका

राज्य को कोवैक्सीन की तुलना में कोविशील्ड की खुराक ज्यादा मिलने के कारण ज्यादातर टीकाकरण कोविशील्ड का ही हुआ है. शुरुआत में कुछ नेताओं ने कोवैक्सीन को तरजीह ​दी थी, लेकिन बाद में कोविशील्ड ही ज्यादातर विधायक, सांसदों और वरिष्ठ नेताओं को दी गई. जहां तक कोरोना पॉजिटिव होने का सवाल है तो कांग्रेस के जनप्रतिनिधि भाजपा की तुलना में ज्यादा चपेट में आए हैं.

मुख्यमंत्री समेत कई कांग्रेस नेता कोरोना पॉजिटिव



कोरोना की दूसरी लहर ने कई बड़े नेताओं को अपनी चपेट में लिया है. इनमें मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा, राज्य मंत्री सुभाष गर्ग, विधायक अमीन कागजी, कृष्णा पूनियां, अमीन कागजी, दीपेंद्र सिंह शेखावत, पीआर मीणा, रामनिवास गावड़िया, पानाचंद मेघवाल और नरेंद्र बुढ़ानिया हैं. इसके अलावा कांग्रेस नेता और पूर्व मंत्री गोपाल बाहेती और बाल आयोग की चेयरमैन संगीता बेनीवाल शामिल हैं.

पूर्व अध्यक्ष समेत कई भाजपा जनप्रतिनिधि चपेट में

इसके अलावा भाजपा के नेता भी कोरोना पॉजिटिव हुए हैं. इनमें भीलवाड़ा से भाजपा सांसद सुभाष बहेड़िया, राजस्थान सहाड़ा उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी रतनलाल जाट, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अशोक परनामी, विधायक अशोक लाहोटी समेत कुछ विधायक और पूर्व मंत्री कालीचरण सर्राफ कोरोना पॉजिटिव आए हैं.

Black Fungus in Rajasthan: जोधपुर एम्स में 50 मरीजों में ब्लैक फंगस, रोज दो मरीजों का हो रहा ऑपरेशन

पिछले साल ये आए पॉजिटिव

चार मंत्री: मंत्री उदयलाल आंजना, प्रताप सिंह खाचरियावास, डॉ. रघु शर्मा और सुखराम विश्नोई पॉजिटिव हुए हैं.

केंद्रीय मंत्री और सांसद

गजेंद्र सिंह शेखावत, कैलाश चौधरी, अर्जुनराम मेघवाल, किरोड़ी लाल मीणा, राजेंद्र गहलोत, हनुमान बैनीवाल.

विधायक व नेता

इसके अलावा विधायक सचिन पायलट, रमेश मीणा, विश्वेंद्र सिंह, रफीक खान, हेमाराम चौधरी, राजेंद्र पारीक, दानिश अबरार, रामलाल जाट, राम नारायण मीणा, राजेंद्र राठौर, सतीश पूनियां, कैलाश मेघवाल, नरपत सिंह राजवी, मदन दिलावर, कालीचरण सराफ, अशोक लाहोटी, अर्जुन लाल जींगर, हम्मीर सिंह भायल, अनीता भदेल, चंद्रभान सिंह आक्या समेत कई विधायक कोरोना की चपेट में आए. इसके अलावा पूर्व मेयर ज्योति खण्डेलवाल, भाजपा पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण चतुर्वेदी कोरोना पॉजिटिव हुए हैं.

दो विधायक जिनकी जान गई

राजसमंद से भाजपा विधायक किरण माहेश्वरी.

सहाड़ा से कांग्रेस विधायक कैलाश त्रिवेदी.

पूर्व मंत्री जिनकी जान गई

मानिकचंद्र सुराणा, हरिसिंह, ललित भाटी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज