COVID-19: नोडल अधिकारी के पद से अजमेर SDM की छुट्टी, महिला डॉक्टर के साथ बदसलूकी का था आरोप
Ajmer News in Hindi

COVID-19: नोडल अधिकारी के पद से अजमेर SDM की छुट्टी, महिला डॉक्टर के साथ बदसलूकी का था आरोप
विवादों के घेरे में आई आईएएस अधिकारी अर्तिका शुक्ला.

कलेक्टर विश्वमोहन शर्मा (Vishwamohan Sharma) ने जिला परिषद के सीईओ गजेन्द्र सिंह राठौड़ (Gajendra Singh Rathore) को नोडल अधिकारी बनाने के आदेश जारी कर दिया है.

  • Share this:
अजमेर. कोरोना संकट से निपटने में जुटे चिकित्साकर्मियों के साथ कथित दुर्व्यवहार के मामले में अजमेर एसडीएम अर्तिका शुक्ला (Artika Shukla) कोविड-19 के लिए बनाए गए नोडल अधिकारी पद से हटा दिया गया है. वहीं, ब्यावर और अजमेर एसडीएम की ओर से डॉक्टर्स को दिये गए नोटिस भी रद्द कर दिए गए है. कलेक्टर विश्वमोहन शर्मा ने गुरुवार शाम दो अलग-अलग आदेश निकाल कर पिछले 3 दिन से चला आ रहे आईएएस (IAS) अफसरों और डॉक्टरों के बीच के विवाद को खत्म करने की कोशिश की है.

इस बीच, अजमेर में तैनात वरिष्ठ महिला डॉक्टर ज्योत्सना रंगा ने अजमेर एसडीएम पद पर तैनात अर्तिका शुक्ला के खिलाफ लिखित शिकायत सिविल लाइंस थाने में दी है. शिकायत में कहा गया है कि आईएएस अर्तिका शुक्ला ने उनके साथ बदतमीजी करने के साथ ही शारीरिक प्रताड़ना का भी प्रयास किया. पुलिस ने फिलहाल शिकायत को जांच के दायरे में ले लिया है और इस दौरान पूरे विवाद को शांतिपूर्ण रूप से खत्म करने के प्रयास शुरू हो गए है.

प्रशासन और डॉक्‍टर्स के बीच मैराथन बैठक
वहीं, अजमेर कलेक्ट्रेट में गुरुवार शाम से डॉक्टर्स और प्रशासन के बीच लंबी मैराथन बैठक चली, जिसमें मौजूदा समय मे कोरोना से लड़ने के लिए सबको एक साथ खड़े होने की अपील की गई. जिले के प्रभारी सचिव भवानी सिंह देथा भी इस बैठक में शामिल रहे. इसी बैठक के दौरान यह भी तय किया गया कि आईएएस अधिकारी अर्तिका शुक्ला को कोविड-19 के नोडल अधिकारी के पद से हटा दिया जाए.
जिला परिसद सीईओ बने नए नोडल अधिकारी


डॉक्‍टर्स की इस मांग को स्‍वीकार करते हुए कलेक्टर विश्वमोहन शर्मा ने जिला परिषद के सीईओ गजेन्द्र सिंह राठौड़ को नोडल अधिकारी बनाने के आदेश जारी कर दिया. इतना ही नहीं, कलेक्‍टर विश्‍वमोहन शर्मा ने ब्यावर और अजमेर एसडीएम की ओर से डॉक्टर्स को जारी किए नोटिस को तुरंत प्रभाव से निरस्त करने के आदेश दिए. इन दो आदेशों के जरिये संदेश दिया गया कि इस महामारी के दौरान चिकित्साकर्मियों की सुरक्षा और उनके योगदान के आगे किसी तरह का समझौता नहीं किया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज