लाइव टीवी

गजब! 10वीं कक्षा के दिलखुश योगी ने कागज से बनाई ट्रेन, सोलर एनर्जी से दौड़ाई

आशीष अंशु | News18 Rajasthan
Updated: October 11, 2019, 3:19 PM IST
गजब! 10वीं कक्षा के दिलखुश योगी ने कागज से बनाई ट्रेन, सोलर एनर्जी से दौड़ाई
दौसा के 10वीं कक्षा के छात्र दिलखुश ने कागज से ट्रेन बनाई और उसे सोलर एनर्जी से दौड़ा दी.

  • Share this:
दौसा. राजस्थान में दौसा जिले (Dausa District) के दिलखुश (Dikhush) नामक विद्यार्थी आज एक ट्रेन लेकर स्कूल पहुंच गया और उसने पेन की कवर से पटरी बनाई और उस पर ट्रेन को दौड़ा कर सबको हैरान कर दिया. भांवता स्कूल में 10वीं कक्षा का विद्यार्थी (Tenth class Student) है. दिलखुश योगी फालतू चीजों से खेलने का शौक है और वह खेल खेल में ऐसी अत्याधुनिक मशीनों के मॉडल बना कर उन्हे मूर्तरूप देने में लगा है. उसकी इस बुद्धिमता को देख कर हर कोई दांतों तले अंगुली दबा लेता है.

प्लास्टिक पेन के कवर से बनाई रेल की पटरी

दौसा  के रामकरण जोशी स्कूल में आयोजित तीन दिवसीय विज्ञान मेले (Science Fare) के अंतिम दिन आज ऐसा ही मंजर देखने को मिला. इस मेले में दिलखुश अपना मॉडल लेकर पहुंचा. उसने तत्काल प्लास्टिक पेन के कवर को एक दूसरे से जोड़ कर रेल की पटरी बनाई और कागज के गत्ते से डिब्बे बनाए. इसके बाद डिब्बे में सोलर सिस्टम लगा कर उसने पूरे सिस्टम को धूप में लगाया और ट्रेन पटरी पर दौड़ने लगी.

दिलखुश के स्कूल में विज्ञान का नहीं है टीचर

दिलखुश योगी के इस कारनामे को देख कर वहां मौजूद सभी लोग दंग रह गए. दरअसल दिलखुश की इन कार्यों में रूचि है. वह बेकार की चीजों को एकत्रित कर बगैर किसी की प्रेरणा से ऐसी चीजें बनाता रहता है. उसने ड्रिप सेट और डिस्पोजेबल सीरिंज की सहायता से जेसीबी मशीन का मॉडल भी बनाया जो एयर सिस्टम से काम करता है. ताज्जुब की बात है कि दिलखुश के स्कूल में विज्ञान का टीचर तक नहीं है. ऐसे में वह अपने दिमाग से नित नए एक्सपेरिमेंट करता रहता है, लेकिन विज्ञान की भाषा में उसको एक्सप्लेन नहीं कर पाता.



उसकी प्रतिभा को निखारने में नहीं लेता कोई रूचि
Loading...

गत वर्ष मॉडल स्कूल में आयोजित विज्ञान मेले में वह विजेता रहा था. इस बार उसने सोलर सिस्टम से रेलगाड़ी चला कर नया प्रयोग किया है. ऐसी बात नहीं है कि शिक्षक उसकी इस कार्यशैली का लोहा नहीं मानते लेकिन उसकी मदद कर उसको तराशने और निखारने के लिए ना ही कोई शिक्षक तैयार है और ना ही जिला प्रशासन. यदि दिलखुश को सही मार्गदर्शन और मंच मिले तो वह अपनी प्रतिभा से जिले और प्रदेश का नाम रोशन कर सकता है.

यह भी पढ़ें: लेडी IAS के प्यार में कमांडेट की करतूत के साथ पढ़ें- राजस्थान की टॉप-5 खबरें

जहरीला पानी पीने से 44 स्कूली बच्चों की तबियत बिगड़ी,12 का इलाज जारी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दौसा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 11, 2019, 3:11 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...