Home /News /rajasthan /

कर्जमाफी के दावे के बीच कैसे हो गई 15 बीघा जमीन की नीलामी, पढ़ें Rajasthan के किसान की दर्दभरी कहानी

कर्जमाफी के दावे के बीच कैसे हो गई 15 बीघा जमीन की नीलामी, पढ़ें Rajasthan के किसान की दर्दभरी कहानी

किसान कजोड़ मीणा के चार बेटे हैं. इनमें दो बेटे शादीशुदा हैं. दो अभी नाबालिग हैं और अविवाहित हैं.

किसान कजोड़ मीणा के चार बेटे हैं. इनमें दो बेटे शादीशुदा हैं. दो अभी नाबालिग हैं और अविवाहित हैं.

Dausa latest news: राजस्थान के दौसा जिले में कर्ज नहीं चुका पाने पर नीलाम की गई किसान की जमीन का मसला तूल पकड़ता जा रहा है. बताया जा रहा है कि किसान नेता राकेश टिकैत (Farmer leader Rakesh Tikait) ने पीड़ित परिवार से संपर्क साधा है. वे किसान परिवार से मुलाकात करने आज दौसा आ सकते हैं. किसान पर सात लाख रुपये से अधिक का केसीसी का लोन था. उसकी एवज में उसकी 15 बीघा 2 बिस्वा जमीन को मंगलवार को नीलाम (Auctioned) कर दिया गया.

अधिक पढ़ें ...

दौसा. राजस्थान के दौसा (Dausa) जिले में कर्ज नहीं चुका पाने पर नीलाम (Auction)  की गई एक किसान की जमीन का मसला तूल पकड़ने लग गया है. कर्ज लेने वाले किसान (Farmer) की मौत करीब ढाई माह पहले हुई बताई जा रही है. परिजनों का दावा है कि किसान की मौत खेत पर सिंचाई करने के दौरान हुई थी. परिवार मुखिया की मौत के गम से उबर भी नहीं पाया था और अब उनकी जमीन नीलाम कर दी गई. ऐसे हालात में जाएं तो जाएं कहां ? मृतक किसान की पत्नी का कहना है कि ‘कौन से कुंए में पड़ें’. दूसरी तरफ बताया जा रहा है कि जमीन नीलामी की सूचना के बाद किसान नेता राकेश टिकैत ने पीड़ित परिवार से संपर्क साधा है. बताया जा रहा है कि टिकैत आज किसान परिवार से मिलने के लिये आ सकते हैं.

दरअसल दौसा जिले की जामुन की ढाणी निवासी किसान कजोड़ मीणा ने रामगढ़ पचवारा के राजस्थान मरुधरा ग्रामीण बैंक से करीब साढ़े तीन लाख रुपये का केसीसी का लोन लिया था. लेकिन आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने के कारण वह वर्ष 2017 के बाद से इस ऋण को चुका नहीं पाया. ऋण ना चुका पाने के कारण ऋण राशि करीब दुगुनी हो गई और वह सात लाख रुपये तक पहुंच गई. इस बीच करीब ढाई माह पहले किसान कजोड़ मीणा की मौत हो गई. इससे परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा.

कर्ज वापसी के लिये कई बार किसान परिवार से संपर्क साधा गया
बैंक और नीलामी प्रक्रिया से जुड़े अधिकारियों-कर्मचारियों का कहना है कि कजोड़ मीणा से कर्ज वापसी के लिये कई बार संपर्क साधा गया. वहीं किसान की मौत के बाद उसके बेटों राजूलाल और पप्पूलाल को भी कई बार नोटिस भेजे गये थे. लेकिन किसान परिवार ऋण राशि जमा नहीं करा पाया. इस पर पहले एसडीएम कार्यालय की ओर से जमीन कुर्की के आदेश जारी किये गये थे. बाद में नीलामी जैसा कदम उठाना पड़ा. मंगलवार को जमीन नीलाम कर दी गई.

चार बेटे हैं किसान के, दो अविवाहित हैं
किसान कजोड़ मीणा के चार बेटे हैं. इनमें दो बेटे शादीशुदा हैं. दो अभी नाबालिग हैं और अविवाहित हैं. किसान कजोड़ के पास कुल 15 बीघा 2 बिस्वा जमीन थी. उसने पूरी जमीन पर ही लोन ले रखा था. नीलामी में यह जमीन मंडावरी निवासी किरण शर्मा ने छुड़वाई है. जमीन की नीलामी 46 लाख 51 हजार रुपये में हुई है. नीलामी की यह प्रक्रिया स्थानीय तहसील कार्यालय में मंगलवार को पूरी की गई थी.

किसान के परिजन बोले अब हम सड़क पर आ चुके हैं
किसान के परिजनों का कहना है कि अब सड़क पर आ चुके हैं. सरकार ने कर्ज माफी का वादा किया था. लेकिन हमें उसका लाभ नहीं मिला. हम आत्महत्या के कगार पर आ गये हैं. हमने कर्ज चुकाने का मौका मांगा था लेकिन हमें नहीं दिया गया. अब हम कहां जायेंगे कुछ पता नहीं है. किसान की जमीन की नीलामी के बाद से यह मसला इलाके में चर्चा का विषय बना हुआ है.

Tags: Dausa news, Farmer story, Loan waiver, Rajasthan news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर