Dausa : पायलट की कर्मभूमि में कांग्रेस का धमाकेदार प्रदर्शन, उमड़ी भारी भीड़
Dausa News in Hindi

Dausa : पायलट की कर्मभूमि में कांग्रेस का धमाकेदार प्रदर्शन, उमड़ी भारी भीड़
दौसा में धरना-प्रदर्शन की कामयाबी में उपेक्षित रहे कांग्रेसी चमके.

दृश्य संभावनाओं के पूरी तरह विपरीत रहे इस धरने प्रदर्शन में कांग्रेसियों की भारी भीड़ उमड़ी और इस भीड़ को देखकर लगा कि दौसा में हुए प्रदर्शन में सचिन पायलट अपना दमखम नहीं दिखा सके.

  • Share this:
दौसा. प्रदेश में सियासी भूचाल (Political Crisis) के बीच राज्यपाल कलराज मिश्र (Governor Kalraj Mishra) द्वारा विधानसभा सत्र (Assembly session) नहीं बुलाने के बाद प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasara) ने जिला स्तर पर प्रदर्शन करने का आह्वान किया था. लेकिन सचिन पायलट की कर्मभूमि रहे दौसा जिले में इस प्रदर्शन का असर होने की बहुत कम संभावना थी, क्योंकि इस जिले के दो विधायक सचिन पायलट के खेमे में हैं और दौसा जिला मुख्यालय के विधायक मुरारी लाल मीणा भी पायलट खेमे में ही हैं. लेकिन दृश्य संभावनाओं के पूरी तरह विपरीत रहे इस धरने प्रदर्शन में कांग्रेसियों की भारी भीड़ उमड़ी और इस भीड़ को देखकर लगा कि दौसा में हुए प्रदर्शन में सचिन पायलट अपना दमखम नहीं दिखा सके.

निवर्तमान जिलाध्यक्ष सहित अनेक नेता रहे नदारद

भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ हुए इस प्रदर्शन के दौरान निवर्तमान जिलाध्यक्ष रामजीलाल ओढ़ सहित अनेक कांग्रेस के नेता अपनी ही पार्टी के धरना-प्रदर्शन से दूरी बनाए हुए नजर आए. इस दौरान जिला कांग्रेस कमेटी की कार्यकारिणी में रहे अधिकतर पदाधिकारी इस धरना-प्रदर्शन में शामिल होने के लिए नहीं आए.



बरसों से उपेक्षित कार्यकर्ता आज रहे फ्रंट पर
पिछले कुछ वर्षों के दौरान हुए कांग्रेस के प्रदर्शनों और आज हुए प्रदर्शन में काफी अंतर देखने को मिला. आज के प्रदर्शन में जो चेहरे थे वह या तो नए थे या फिर वह थे जो पूर्व में पार्टी के स्थानीय नेताओं द्वारा उपेक्षित कर दिए गए थे. ऐसे में जो पिछले वर्षों से साइड लाइन में चल रहे थे वे नेता आज फ्रंट पर नजर आए और धरना प्रदर्शन का नेतृत्व भी करते हुए नजर आए.

उद्योग मंत्री के विधानसभा क्षेत्र से आए सबसे अधिक कांग्रेसी

दौसा जिला मुख्यालय के विधायक मुरारी लाल मीणा हैं और विधायक मीणा सचिन पायलट के खेमे से हैं. ऐसे में जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन में भीड़ लाना बड़ी चुनौती थी. लेकिन उद्योग मंत्री परसादी लाल मीणा के विधानसभा क्षेत्र लालसोट से बड़ी संख्या में कांग्रेस के कार्यकर्ता दौसा जिला मुख्यालय पहुंचे और इन कार्यकर्ताओं का नेतृत्व उद्योग मंत्री परसादी लाल मीणा के पुत्र कमल मीणा ने किया. ऐसे में पूरे धरना-प्रदर्शन के दौरान कमल मीणा फ्रंट पर नजर आए. इसी तरह महिला एवं बाल विकास मंत्री ममता भूपेश के विधानसभा क्षेत्र सिकराय से भी कांग्रेसी दौसा पहुंचे और प्रदर्शन में हिस्सा लिया. बांदीकुई, महवा और दौसा जिला मुख्यालय की बात करें तो यहां पर कांग्रेस के जाने पहचाने चेहरे प्रदर्शन में शामिल नहीं हुए, लेकिन जो पिछले कई वर्षों से उपेक्षित चल रहे थे, वे चेहरे जरूर नजर आए. इस धरना-प्रदर्शन के दौरान पूर्व जिला प्रमुख अजीत सिंह गुर्जर और यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष रहे सुरेंद्र गुर्जर भी नदारद रहे, जबकि अजीत सिंह को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का करीबी माना जाता है, वहीं सुरेंद्र गुर्जर को महिला एवं बाल विकास मंत्री ममता भूपेश का करीबी माना जाता है. इस धरना प्रदर्शन के बाद यह भी कहा जा सकता है कि गुर्जर जाति से जुड़े कांग्रेस के नेता व पदाधिकारी इस प्रदर्शन से पूरी तरह दूर रहे. आपको बता दें कि सचिन पायलट भी गुर्जर जाति से ही आते हैं.

सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियां

दौसा कलेक्ट्रेट के बाहर हुए धरना-प्रदर्शन के दौरान कांग्रेसी मुंह पर मास्क तो लगाए हुए नजर आए, लेकिन सोशल डिस्टेंस की पालना करना भूल गए. धरने के दौरान कांग्रेसी सोशल डिस्टेंस का बिल्कुल भी पालन नहीं कर रहे थे और एक दूसरे के पास-पास बैठे हुए थे. इस तरह सोशल डिस्टेंसिंग की पालना नहीं होने पर वहां मौजूद पुलिस के अधिकारी अनाउंस करके कांग्रेसी कार्यकर्ताओं से सोशल डिस्टेंस की पालना करने के लिए कहते नजर आए. हालांकि कांग्रेसियों पर पुलिस की अपील का कोई असर नहीं हुआ और उन्होंने सोशल डिस्टेंस का बिल्कुल भी पालन नहीं किया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading