Home /News /rajasthan /

Manipur Terrorist Attack: दौसा का लाल राजेन्द्र प्रसाद मीणा उग्रवादी हमले में शहीद, पूरे इलाके में शोक की लहर

Manipur Terrorist Attack: दौसा का लाल राजेन्द्र प्रसाद मीणा उग्रवादी हमले में शहीद, पूरे इलाके में शोक की लहर

गांव के लाडले की राजेन्द्र सिंह मीणा की शहादत की सूचना पर ग्रामीण उउके घर पहुंचे और परिजनों को ढांढस बंधाया.

गांव के लाडले की राजेन्द्र सिंह मीणा की शहादत की सूचना पर ग्रामीण उउके घर पहुंचे और परिजनों को ढांढस बंधाया.

Salute To Martyrdom: मणिपुर में सेना पर उग्रवादियों की ओर से किये गये कायराना हमले में राजस्थान के सपूत राजेन्द्र प्रसाद मीणा (Rajendra Prasad Meena) शहीद हो गये हैं. देश के लिये शहादत देने वाले 46 असम राइफल्स (46 Assam Rifles) राजेन्द्र प्रसाद मीणा दौसा जिले के दिलावरपुरा के रहने वाले थे. अपने लाडले की शहादत के सूचना के बाद दिलावरपुरा गांव में शोक की लहर छायी हुई है.

अधिक पढ़ें ...

दौसा. मणिपुर में सेना के काफिले पर हुये उग्रवादी हमले (Terrorist Attack) में राजस्थान के सपूत राजेन्द्र प्रसाद मीणा शहीद (Rajendra Prasad Meena) हो गये हैं. देश के लिये शहादत देने वाले राजेन्द्र प्रसाद मीणा जयपुर से सटे दौसा जिले के बसावा थाना इलाके के दिलावरपुर गांव के रहने वाले थे. 46 असम राइफल्स (46 Assam Rifles) के जवान राजेन्द्र प्रसाद की शहादत (Martyrdom) की खबर के बाद उनके गांव में सन्नाटा पसरा है. शनिवार को मणिपुर में उग्रवादियों ने सेना के काफिले पर घात लगाकर हमला कर दिया था. इस हमले में 46 असम राइफल्स के कमांडिंग ऑफिसर कर्नल विपल्व त्रिपाठी समेत सेना के पांच सैनिक भी शहीद हो गये थे.

शनिवार को सुबह इस हमले में जैसे ही दौसा जिले के जवान आरपी मीणा के शहीद होने की सूचना मिली तो उनके गांव में शोक की लहर छा गई. गांव के लाडले की शहादत की सूचना पर ग्रामीण उसके घर पहुंचे और परिजनों को ढांढस बंधाया. देश की रक्षार्थ अपना सर्वस्व लुटाने वाले लाडले पर ग्रामीणों को गर्व है तो लेकिन उसके चले जाने गहरा दुख भी है. शहीद की पार्थिव देह आज शाम तक उनके पैतृक गांव लाने जाने की संभावना जताई जा रही है.

पिता से रोजना दिन में 2 बार बात करते थे
शहीद राजेन्द्र प्रसाद मीणा का जन्म वर्ष 1991 में हुआ था. दिलावरपुरा में शम्भूदयाल मीणा के घर जन्मे राजेन्द्र प्रसाद वर्ष 2013 में 46 असम राइफल्स में भर्ती हुये थे. अपने पिता के प्रति खास लगाव रखने वाले राजेन्द्र प्रसाद प्रतिदिन नियमित रूप से अपने पिता से दो बार बात करते थे.

 परिवार साथ ही रहता था
राजेन्द्र प्रसाद मीणा के दो बच्चे हैं. इनमें एक बेटा और एक बेटी है. मीणा का परिवार उनके साथ ही मणिपुर रहता था. राजेन्द्र चार भाई बहनों में सबसे बड़े थे. बेहद साधारण परिवार से ताल्लुक रखने वाले राजेन्द्र प्रसाद ने सेना में जाने के बाद अपनी दो बहनों की शादी. फिर भाई को पढ़ाया और उसकी शादी की.

समाज सेवा का भी जज्बा रखते थे
राजेन्द्र प्रसाद समाज सेवा का भी जज्बा रखते थे. गांव में पानी की समस्या को देखते हुये राजेन्द्र प्रसाद ने खुद की जेब से रुपये खर्च कर पानी की टंकी बनवाई थी और गांव के घर-घर में पानी पहुंचाने का पुण्य कार्य भी किया था. हसंमुख स्वभाव के राजेन्द्र की शहादत की खबर गांव का हर शख्स गमजदां है.

पूर्व सीएम राजे ने कहा आपका बलिदान हमेशा याद रखा जायेगा
राजस्थान के सपूत की शहादत पर पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने ट्वीट उनके परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की है. राजे ने अपने ट्वीट में लिखा कि “मणिपुर में सेना के काफिले पर हुए हमले में दौसा जिले के दिलावरपुरा निवासी जवान राजेंद्र मीणा जी की शहादत का समाचार सुन हॄदृय व्यथित है. राष्ट्र सुरक्षा में दिए गए आपके बलिदान को यह देश सदैव याद रखेगा. ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें. परिजनों के प्रति मेरी संवेदनाएं”.

Tags: Indian army, Rajasthan latest news, Rajasthan News Update, Terrorist Attacks

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर