होम /न्यूज /राजस्थान /दौसा और अलवर की सीमा पर चमत्कारिक शिव मंदिर, भक्तों का दावा- गोमुख के जल से होता है चर्मरोग ठीक

दौसा और अलवर की सीमा पर चमत्कारिक शिव मंदिर, भक्तों का दावा- गोमुख के जल से होता है चर्मरोग ठीक

Panchmukhi Mahadev: यहां पर महादेव के पांच अलग-अलग स्थान हैं, इसलिए इस स्थान को पंचमुखी के नाम से भी जाना जाता है और पा ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट : पुष्पेंद्र मीना

दौसा. राजस्थान के कई मंदिरों में चमत्कारी वृक्ष, कुंड या तालाब पाया जाता है. बताया जाता है कि इनके जरिए भक्तों की हर मुराद पूरी होती है. ऐसे ही एक शिव मंदिर के पानी के चमत्कारों की बात लोग करते हैं. उनका दावा है कि इस मंदिर के पानी को छूने मात्र से बीमारियां ठीक हो जाती हैं. यहां गर्मी में ठंडा और सर्दी में गर्म पानी गौमाता के मुख से 24 घंटे बिना रुके अनवरत बहता है.

यह मंदिर राजस्थान में दौसा और अलवर जिले की सीमा के निकट झाझी रामपुरा गांव में है. इसे 11 रूद्र महादेव के नाम से जाना जाता है और इन महादेव के 11 शिवलिंगों पर अभी भी लगातार पानी झरता है. वहीं शिवलिंग के बीच में महादेव पार्वती की प्रतिमा भी स्थापित है और इसके समीप ही है वह गोमुख कुंड जो अपने औषधीय पानी के लिए चर्चित है.

ऐसे पड़ा झाझी रामपुरा नाम

स्थानीय लोगों ने बताया कि हजारों साल पहले यहां पर जहाजी राम नाम के ऋषि ने एकलिंग शिवजी महाराज की स्थापना की थी. उन्हीं के नाम पर इस गांव का नाम अब झाझी रामपुरा हो गया. यहां पर महाभारत काल में पांडवों ने अज्ञातवास का कुछ समय बिताया था और उन्हीं के द्वारा यहां 11 रूद्र महादेव की स्थापना की गई थी, जो आज विद्यमान है.

पंचमुखी के नाम से भी है प्रसिद्ध

यहां पर महादेव के पांच अलग-अलग स्थान हैं, इसलिए इस स्थान को पंचमुखी के नाम से भी जाना जाता है और पांचों जगह पर पानी की धाराएं निकल रही हैं.

चर्म रोग मिटने का दावा

स्थानीय लोग दावा करते हैं कि गोमुख से निकलने वाला पानी चर्म रोग मिटाता है. ऐसे कई लोग हैं जिनके चर्म रोग ठीक हुए हैं. हालांकि यहां गोमुख से साफ पानी लगातार आ रहा है और वह लगातार बह रहा है पहले अधिक मात्रा में पानी आता था लेकिन अब कम मात्रा में गोमुख से पानी आ रहा है.

सरकार करे विकास तो लोगों को मिले लाभ

विजेंद्र कुमार मीणा सहित अन्य लोगों ने बताया कि मंदिर का जीर्णोद्धार सरकार को करवाना चाहिए, जिससे स्थानीय लोगों का रोजगार बढ़ सके और उनका जीवन यापन हो सके. हालांकि यहां कई दुकानें लगती हैं और यहां आनेवाले लोग उनसे सामान भी खरीदते हैं. यहां पर चार-पांच सौ लोगों का आना जाना लगा रहता है.

झाझी रामपुरा में सालाना मेला

झाझी रामपुरा में वैसे तो लोगों की आवाजाही साल भर रहती है लेकिन सावन महीने में यहां एक वार्षिक मेले का आयोजन किया जाता है. यहां सावन मास के सोमवार का खास महत्व है. सावन मास में यहां लोगों का जमघट दिखाई देता है. यहां पर मेले के रूप में दुकानें भी लगती हैं और लोग उनसे सामान भी खरीदते हैं.

कुंड का करवाया जा रहा जीर्णोद्धार

जीर्णोद्धार का कार्य करने वाले ठेकेदार ने बताया कि सरकार की ओर से गोमुख से निकलने वाले जलकुंड का विकास करवाया जा रहा है. इसका जीर्णोद्धार करीब 99 लाख रुपए से करवाया जा रहा है. जिसमें स्नान कुंड को सुंदर बनाया जाएगा. वहीं पास में महादेव जी के मंदिर के ऊपर की छत भी डलवाई जाएगी. जिससे श्रद्धालुओं को असुविधा नहीं हो.

Tags: Dausa news, Rajasthan news, Religious Places

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें