Home /News /rajasthan /

अगर यूपी में बसपा की बनी सरकार तो इन राजस्थानियों की होगी बल्ले-बल्ले

अगर यूपी में बसपा की बनी सरकार तो इन राजस्थानियों की होगी बल्ले-बल्ले

फोटो-(ईटीवी)

फोटो-(ईटीवी)

उत्तर प्रदेश के चुनाव नजदीक हैं. चुनावी रणभेरी बज गई है. पूरे देश की नजरें यूपी चुनाव पर टिकी हैं. ठीक ऐसे ही राजस्थान के दौसा की भी नजरें यूपी के चुनाव पर गढ़ी हैं.

उत्तर प्रदेश के चुनाव नजदीक हैं. चुनावी रणभेरी बज गई है. पूरे देश की नजरें यूपी चुनाव पर टिकी हैं. ठीक ऐसे ही राजस्थान के दौसा की भी नजरें यूपी के चुनाव पर गढ़ी हैं. कारण है बसपा के हाथी.

वे हाथी जिन्होंने बीते पांच साल पहले यहां के कई पत्थर कारोबारियों को मालामाल कर दिया था. अब ये कारोबारी इस बात की इंतजार में हैं कि यूपी में बसपा की वापसी होती है तो इनका कारोबार एक बार फिर से लखनऊ की ओर रुख कर सकेगा. बस इन्हें इंतजार है फिर से कारोबारी हाथी की सवारी का.

पत्थरों के हाथियों से बदली किस्मत
राजनीतिक दलों की तरह राजस्थान के दौसा में सिकन्दरा का पत्थर कारोबार भी यूपी चुनाव पर टकटकी लगाए बैठा है. दरअसल, इन कारोबारियों की उम्मीद है अपने कारोबार को लेकर. पांच साल पहले जब यूपी में बसपा के हाथी का कब्जा था. उस दौर में बसपा के हाथी ने यहां के कारोबारियों की किस्मत को रातों रात बदल दिया था.

यहीं से बनीं पत्थर की कलाकृतियां
बसपा शासन में लखनऊ से लेकर नोएडा तक पूर्व मुख्यमन्त्री मायावती ने जो हाथी पार्कों का काम करवाया वो सारा कारोबार यहां के पत्थर कारोबारियों से जुड़ा था. यूपी में सत्ता परिवर्तन क्या हुआ जैसे यहां के इन कारोबारियों की किस्मत भी सो गई हो. करोड़ों रुपए हाथी हाईवे पर धूल फांक रहे हैं. दौसा के सिकन्दरा में बीते उस दौर में शायद ही कोई ऐसा कारोबारी बचा हो जिसने अपने पत्थर कारोबार की दस्तक नहीं दी हो. चाहे हाथी की छोटी कलाकृति हो या विशाल काय हाथी. लखनऊ के अम्बेडकर पार्क से लेकर नोएडा के पार्क तक पत्थर की कलाकृतियां जो नजर आती हैं वे इसी जगह से बनकर गई थीं.

हर पत्थर की दुकान पर नजर आएगा हाथी
हर कारोबारी की दुकान पर आप को हाथी जरूर नजर आएगा. कई बिचोलियों ने इन्ही हाथी से अपनी किस्मत को रातों रात चमका दिया था. एक बार फिर से यूपी में चुनाव हैं और इन्हें आस जगी है कि यूपी में हाथी की वापसी होती है तो इनकी किस्मत एक बार फिर पलटा खाएगी और सड़क किनारे खड़े ये हाथी लखनऊ की ओर कूच कर जाएंगे.

सिकंदरा से बने थे हाथी
लखनऊ के गोमती नगर में बना हाथी पार्क (डॉ. भीमराव अम्बेडकर सामाजिक परिवर्तन प्रतीक स्थल) व दलित प्रेरणा स्थल नोएडा में लगे ज्यादातर हाथी दौसा के सिकन्दरा क्षेत्र से बनकर गए थे. एक अनुमान के मुताबिक इस पार्क को पूर्व मुख्यमन्त्री मायावती ने करीब 4 एकड़ जमीन में बनवाया था. मोटो तौर पर यहां लगभग 500 छोटे बड़े हाथी खड़े किए गए थे. इस पार्क की विशेषता भी यही है कि यहां लगी आर्ट गैलेरी में सार्वाधिक कलाकृति हाथी की लगाई गई हैं.

अभी भी रखे हैं हाथी
14 अप्रैल 2008 को इस पार्क को पूर्व मुख्यमन्त्री मायावती ने आम लोगों लिए खोला था. स्थानीय कारोबारियों ने हाथियों की सप्लाई के लिए बड़े पैमाने पर पत्थर की बनीं कलाकृतियां बनाकर तैयार की थीं, लेकिन सत्ता परिवर्तन के साथ ये हाथी यहां पिछले पांच साल से धूल फांक रहे हैं.

Tags: Dausa news, Rajasthan news, UP Assembly Election

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर