होम /न्यूज /राजस्थान /राजस्थान सरकार की इस पहल से छात्रों के बीच खत्म हो रहा है Exam Fobia

राजस्थान सरकार की इस पहल से छात्रों के बीच खत्म हो रहा है Exam Fobia

सीमैट के आधार पर मैनेजमेंट प्रोग्रामों और जीपैट के आधार पर एम.फार्मा प्रोग्रामों में एडमिशन होता है.

सीमैट के आधार पर मैनेजमेंट प्रोग्रामों और जीपैट के आधार पर एम.फार्मा प्रोग्रामों में एडमिशन होता है.

प्रदेश की सरकार (Rajasthan Exam) भी बच्चों में एग्जाम फोबिया दूर करने के लिए बेहतर कदम उठा रही है. प्रदेश सरकार द्वारा ...अधिक पढ़ें

दौसा. छात्रों की परीक्षा नजदीक आती है तो विद्यार्थियों का एग्जाम फोबिया (Exam Fobia) बढ़ जाता है. सोमवार को जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Pm Narendra Modi) ने देश के विद्यार्थियों से संवाद कर परीक्षा से जुड़े अनेक टिप्स बताएं. वहीं प्रदेश की सरकार भी बच्चों में एग्जाम फोबिया  दूर करने के लिए बेहतर कदम उठा रही है. प्रदेश सरकार (Rajasthan Government) द्वारा की गई पहली बार की गई इस पहल के सार्थक परिणाम भी सामने आने लगे हैं. परीक्षा का नाम सुनते ही अच्छे अच्छों के पसीने छूट जाते हैं. परीक्षा जैसे—जैसे नजदीक आती है, अनेक विद्यार्थी नर्वस हो जाते हैं. राजस्थान में स्कूली शिक्षा में 10वीं और 12वीं बोर्ड की परीक्षा को महत्वपूर्ण माना जाता है.

तीन चरणों में बोर्ड एग्जाम की करा रहे हैं तैयारी

विद्यार्थियों में परीक्षा का डर खत्म हो और वे अपने लक्ष्य को पा सकें, इसलिए राजस्थान सरकार द्वारा पहली बार बोर्ड कक्षाओं में नवाचार शुरू की गई है. सरकार द्वारा बोर्ड एग्जाम से पहले तीन चरणों में प्री—बोर्ड एग्जाम आयोजित की जा रही है. प्रथम दो चरणों की परीक्षा के प्रश्न पत्र स्कूल स्तर पर ही तैयार किए जाते हैं. वहीं तीसरे चरण की प्री बोर्ड एग्जाम के प्रश्न पत्र जिले स्तर पर तैयार किए जाएंगे.

इस तकनीक से विद्यार्थियों की हो जाती है बेहतर तैयारी

बोर्ड प्रश्न पत्र के पैटर्न पर ही प्री बोर्ड परीक्षा के प्रश्न पत्र तैयार किए जाते हैं, जिससे विद्यार्थियों को प्रश्न पत्र हल करने का अच्छा अभ्यास हो जाता है. इसके साथ ही निर्धारित समय में पूरा पेपर हल करने का अभ्यास भी हो जाता है. इसके अलावा किस प्रश्न का कितने शब्दों में और कितने समय में उत्तर देना है, यह भी पता चल जाता है. प्री बोर्ड परीक्षा में यदि छात्र के कम अंक प्राप्त होते हैं तो स्कूल प्रशासन द्वारा अतिरिक्त कक्षाएं लगाई जाती हैं ताकि मुख्य बोर्ड परीक्षा में छात्र के अच्छे नंबर आ सके और स्कूल का परिणाम भी बेहतर हो सके.

विद्यार्थियों में कम हो रहा है परीक्षा का डर

रामकरण जोशी स्कूल की प्रधानाचार्य एसडी मीना प्रथम चरण के बाद इन दिनों द्वितीय चरण की प्री बोर्ड परीक्षाओं का आयोजन किया जा रहा है. वहीं अगले माह तीसरी बार प्री बोर्ड के एग्जाम होंगे. मुख्य एग्जाम से पहले 3 बार प्री बोर्ड की परीक्षा देने से विद्यार्थी पूरी तरह आत्मविश्वास से लबरेज हैं. विद्यार्थियों में परीक्षाओं का डर भी कम हो रहा है और नर्वस भी नहीं है. हमने जब बारहवीं कक्षा के कुछ विद्यार्थियों से बात की तो उनका कहना था कि जब दसवीं बोर्ड के एग्जाम थी तो काफी नर्वस थे और परीक्षा का डर भी मन में था लेकिन इस बार 12वी बोर्ड से पहले प्री बोर्ड परीक्षाएं लगने से कोई दिक्कत नहीं हुई है.

यह भी पढ़ें: कृषि वैज्ञानिकों ने किया कमाल! कम जगह और कम पानी में उगा सकेंगे हेल्दी सब्जियां

भरतपुर के इस किसान ने उगाया ऐसा गाजर कि देखने वाालों की उमड़ पड़ती है भीड़

Tags: 12th Board exam, Dausa news, Rajasthan news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें