Home /News /rajasthan /

धौलपुर पीजी कॉलेज से पौने चार लाख के बैंक ड्राफ्ट गायब

धौलपुर पीजी कॉलेज से पौने चार लाख के बैंक ड्राफ्ट गायब

राजकीय पीजी कॉलेज धौलपुर.

राजकीय पीजी कॉलेज धौलपुर.

राजस्थान के धौलपुर पीजी कॉलेज से पौने चार लाख रुपए के बैंक ड्राफ्ट गायब होने का मामला सामने आया है. बैंक खाते में जमा करने के लिए भेजे गए ड्राफ्ट गायब होने का मामला पकड़ में आने के छह माह बाद भी कोई जानकारी नहीं मिली है.

    राजस्थान के धौलपुर पीजी कॉलेज से पौने चार लाख रुपए के बैंक ड्राफ्ट गायब होने का मामला सामने आया है. बैंक खाते में जमा करने के लिए भेजे गए ड्राफ्ट गायब होने का मामला पकड़ में आने के छह माह बाद भी गायब बैंक ड्राफ्ट्स के बारे में कोई जानकारी नहीं मिली है. घटना के बाद कॉलेज के दो प्राचार्य बदले जा चुके हैं.  ऐसे में जांच कमेटी को लेकर भी सवाल उठने लगे हैं.

    जानकारी के अनुसार गत शिक्षा सत्र 2016-17 में स्नातक बीए, बीएससी, बीकॉम प्रथम-द्वितीय वर्ष के नियमित छात्रों ने परीक्षा परिणाम समय से जारी ना होने पर प्रोविजनल प्रवेश लेने के दौरान कॉलेज फीस के डिमांड ड्राफ्ट महाविद्यालय में जमा कराए थे. कॉलेज प्रशासन ने ये ड्राफ्ट तत्कालीन एसबीबीजे बैंक कचहरी परिसर में जमा करा दिए. बाद में परीक्षा परिणाम घोषित किया गया. इसमें अगली कक्षा में प्रोविजनल प्रवेश ले चुके कुछ छात्र फेल हो गए. जिन्होंने अपनी फीस कॉलेज प्रशासन से वापस मांगी. तब जाकर कॉलेज प्रशासन ने दिसम्बर माह में बैंक खाते का गुणा भाग लगाया तो उसमें करीब पौने 4 लाख रुपए कम मिले. इस पर कॉलेज में हड़कंप मच गया. आनन-फानन में इस मामले में जनवरी में जांच कमेटी गठित कर दी गई. दूसरी अोर फीस वापस मांगने वाले छात्रों को कॉलेज प्रशासन लगभग 6 महीने से ऐसे ही घुमा रहा है. कार्रवाई तो दूर कमेटी अभी तक यह भी पता नहीं लगा पाई है कि अाखिर उन ड्राफ्ट का क्या हुआ.

    इस मामले में कॉलेज प्राचार्य डॉ.रमाकान्त चतुर्वेदी का कहना हैं कि छात्रों ने ड्राफ्ट से जो फीस जमा की थी, तत्कालीन प्राचार्य ने उन ड्राफ्टों को बैंक में भेजा तो उसी समय नोटबंदी हो गई. इसके कारण पौने चार लाख के ड्राफ्ट हमारे अकाउंट में नहीं आए हैं.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर