लाइव टीवी

'बाल श्रम मुक्त और बाल संरक्षण युक्त' विषय पर कार्यशाला का आयोजन

ETV Rajasthan
Updated: March 16, 2018, 4:39 PM IST
'बाल श्रम मुक्त और बाल संरक्षण युक्त' विषय पर कार्यशाला का आयोजन
कार्यशाला में विचार व्यक्त करते अतिथि. फोटो-ईटीवी

2011 की जनगणना के अनुसार देश में लगभग तीन करोड़ बच्चे ऐसे हैं जो बाल श्रमिक या संभावित बाल श्रमिक की श्रेणी में आते हैं.

  • Share this:
राजस्थान में धौलपुर जिले को बाल श्रम मुक्त और बाल संरक्षण युक्त बनाने को लेकर बाल कल्याण समिति एवं प्रयत्न संस्था के संयुक्त तत्वावधान में बाल श्रम संशोधित अधिनियम,2016 एवं किशोर न्यास अधिनियम,2015 पर शुक्रवार को  परिसंवाद कार्यशाला का आयोजन किया गया. कार्यशाला में बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष बीएस परमार ने कहा कि जिले में किसी भी स्थान पर अगर कोई नियोक्ता बाल मजदूरी करवाएगा तो उसके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी.

उन्होंने कहा कि बाल श्रम की सबसे बड़ी जड़ शराब है.  बाल श्रम मुक्त और बाल संरक्षण युक्त धौलपुर बनाने का सपना साकार तब होगा जब जिला प्रशासन,पुलिस और नागरिक तथा समाज के प्रत्येक व्यक्ति मिलकर कार्य करेंगे.

कार्यशाला के मुख्य वक्ता प्रयत्न संस्था एडवोकेसी आॅफिसर राकेश कुमार तिवाड़ी ने कहा  कि देश का हर तीसरा बच्चा बाल श्रमिक है.  2011 की जनगणना के अनुसार देश में लगभग तीन करोड़ बच्चे ऐसे हैं जो बाल श्रमिक या संभावित बाल श्रमिक की श्रेणी में आते हैं.

कार्यशाला में जिले के सभी होटल एवं ढ़ाबा मालिकों ने यह आश्वासन दिया कि  जिले को बाल श्रम मुक्त और बाल संरक्षण युक्त बनाने में सहयोग प्रदान करेंगे. कार्यक्रम में आए प्रतिभागियों ने खडे़ होकर बाल श्रम की रोकथाम हेतु शपथ ली.

(राकेश सिंघल की रिपोर्ट)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धौलपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 16, 2018, 4:39 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर