राजस्थान: सरकारी स्कूल में बच्चियों ने सवाल पूछा तो लेडी टीचर ने जूतों से की पिटाई, शुरू हुई जांच

उधर मामले को लेकर शिक्षा विभाग के उच्च अधिकारी स्कूल पहुंच गए. मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी सियाराम मीणा ने विद्यालय का निरीक्षण कर हालातों का जायजा लिया. (सांकेतिक फोटो)

उधर मामले को लेकर शिक्षा विभाग के उच्च अधिकारी स्कूल पहुंच गए. मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी सियाराम मीणा ने विद्यालय का निरीक्षण कर हालातों का जायजा लिया. (सांकेतिक फोटो)

Dhaulpur News: राजस्थान के धौलपुर में सरकारी स्कूल की बच्चियों ने चाइल्ड हेल्पलाइन पर शिक्षिका की बर्बरता की शिकायत की तो सामने आया मामला. बाल कल्याण समिति ने कलेक्टर और शिक्षा अधिकारी को दी जानकारी.

  • Share this:
धौलपुर. राजस्थान के धौलपुर जिला स्थित एक सरकारी स्कूल में अजीबोगरीब मामला सामने आया है. यहां पर अध्यापिका द्वारा बच्चियों को जूतों से पीटा गया है. अध्यापिका द्वारा जूतों से पिटाई के बाद बच्चियों ने चाइल्ड हेल्पलाइन से शिकायत की है. इसके बाद बाल कल्याण समिति सदस्य गिरीश गुर्जर के निर्देश पर चाइल्ड हेल्पलाइन की टीम ने स्कूल में पढ़ने वाली बच्चियों की काउसिंलिंग की है. बच्चों की काउसिंलिंग के बाद चाइल्ड हेल्पलाइन की टीम ने मामले को लेकर बाल कल्याण समिति सदस्य गिरीश गुर्जर को अवगत करवाया है. बाल कल्याण समिति ने मामले की जांच शुरू कर दी है. प्रश्न पूछने पर महिला शिक्षिका द्वारा बच्चियों की पिटाई का यह मामला चर्चा का विषय बना हुआ है.

उधर, मामले के संज्ञान में आते ही शिक्षा विभाग के उच्च अधिकारी स्कूल पहुंच गए. मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी सियाराम मीणा ने विद्यालय का निरीक्षण कर हालातों का जायजा लिया. शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने बालिकाओं, आरोपी अध्यापिका और सभी स्टाफ के बयान दर्ज किए. स्कूल के संस्था प्रधान एवं अन्य स्टाफ से भी शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने जानकारी जुटाई है. मामले को लेकर शिक्षा विभाग ने गहनता से जांच शुरू कर दी है. मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी सियाराम मीणा ने मामले को झूठा करार दिया है. लेकिन उन्होंने कहा कि शिकायत को लेकर मामले की गंभीरता से जांच की जाएगी.

बाल कल्याण समिति भी सक्रिय

इधर, बाल कल्याण समिति सदस्य गिरीश गुर्जर ने बताया कि काउसिंलिंग के दौरान बच्चों की लिखित शिकायत मिल चुकी है. स्कूल के प्रिंसिपल और टीचर मामले को दबाने के लिए झूठ बोल रहे हैं. ऐसे में बच्चों के हित को देखते हुए जिला कलेक्टर राकेश कुमार जायसवाल को भी मामले की सूचना दे दी गई है. उन्होंने कहा कि घटना की गंभीरता को देखते हुए जिला शिक्षा अधिकारी को कार्रवाई के लिए पत्र लिखा जाएगा. दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज