लाइव टीवी

तीर्थराज मचकुण्ड सहित अन्य नदियों पर किया गया पितरों को तर्पण

News18 Rajasthan
Updated: September 24, 2018, 7:52 PM IST
तीर्थराज मचकुण्ड सहित अन्य नदियों पर किया गया पितरों को तर्पण
नदी तट पर पितरों को तर्पण करते लोग

पितृपक्ष शुरू होते ही सोमवार को धौलपुर जिले में तीर्थराज मचकुण्ड सहित अन्य नदियों पर पितरों को तर्पण किया गया. श्राद्ध पक्ष के शुरू होते ही मांगलिक एवं शुभ कार्य बंद हो गए.

  • Share this:
पितृपक्ष शुरू होते ही धौलपुर जिले में लोगों ने तीर्थराज मचकुण्ड सहित अन्य नदियों पर पितरों को तर्पण किया. लोगों ने पंडित और आचार्यों से नदी के घाटों पर मंत्रोच्चार कराकर अन्न, तिल, चावल, जौ आदि से तर्पण किया और अपने पूर्वजों को यादकर परिवार के लिए खुशहाली की कामना की. श्राद्ध पक्ष के शुरू होते ही मांगलिक एवं शुभ कार्य बंद हो गए. श्राद्ध पक्ष 15 दिन तक रहेगा.

शास्त्रों में पितरों को देवताओं से भी उच्च कोटि का स्थान दिया गया है. पितरों की अतृप्त इच्छाओं की पूर्ति के लिए ही श्राद्ध किया जाता है. श्रद्धापूर्वक पितरों का श्राद्ध करने से वे संतुष्ट होकर परिवार को सुख समृद्धि देते हैं. श्राद्ध पक्ष में जिस तिथि को पूर्वजों का देहांत हुआ है उस तिथि को उनका श्राद्ध किया जाता है और दान- पुण्य कर कौआ, गाय, कुत्ता एवं पतंगा के भाग को निकाल कर ब्राह्मणों को भोजन कराने के बाद उन्हें भी भोजन दिया जाता है. इस मौके पर शहर के सैकड़ों लोगों ने तीर्थराज मचकुंड सहित अन्य नदियों पर पहुंच कर पितृ पक्ष में अपने पितरों को तर्पण कर दान-पुण्य किया.

वही माना जाता है कि जब राजा कर्ण संसार छोड़कर गए थे तब उन्हें स्वर्ग में खाने के लिए सोना दिया था और स्वर्ग में कहा गया कि आपने पृथ्वी पर सिर्फ सोने का दान किया है लिहाजा आपको खाने में सोना ही दिया जाएगा, लेकिन आपके पुण्य इतने है कि आप जो चाहेंगे वो आपको मिलेगा. उसके बाद राजा कर्ण ने मात्र 15 दिन के लिए पृथ्वी पर भेजने की याचना की. राजा की बात मानी गई.  राजा कर्ण ने धरती पर आने के बाद 15 दिन तक संसार की हर वस्तु का जी भरकर दान किया. उसके बाद राजा के तर्पण पूर्ण हुए तभी से इसे मान्यता दी जाने लगी.
(रिपोर्ट- राकेश सिंघल)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धौलपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 24, 2018, 7:52 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...