Dholpur: चंबल नदी में खतरे के निशान से 1 मीटर ऊपर पहुंचा पानी, अलर्ट जारी
Dholpur News in Hindi

Dholpur: चंबल नदी में खतरे के निशान से 1 मीटर ऊपर पहुंचा पानी, अलर्ट जारी
जिला प्रशासन ने नदी के तटीय इलाकों में चौकसी बढ़ा दी है. (फाइल फोटो)

धौलपुर में चंबल नदी (Chambal River) के पानी का स्तर खतरे के निशान (Danger mark) से ऊपर आ गया है. इसको देखते हुये प्रशासन अलर्ट (Administration alert) हो गया है. प्रशासन का अनुमान है कि यह खतरे के निशान से 3 मीटर ऊपर तक जा सकता है.

  • Share this:
धौलपुर. मध्यप्रदेश और हाड़ौती के विभिन्न इलाकों में हो रही बारिश के कारण चंबल नदी (Chambal River) में लगातार पानी की आवक हो रही है. इसके कारण चंबल नदी का जलस्तर खतरे के निशान (Danger mark) से ऊपर पहुंच गया है. चंबल नदी खतरे के निशान 129.79 मीटर से 1 मीटर ऊपर बह रही है. चंबल नदी का जलस्तर सोमवार देर शाम 131 मीटर पहुंच गया.

नदी में लगातार हो रही पानी की आवक को देखते हुए जिला प्रशासन ने इसके तटवर्ती इलाकों के रिहायशी क्षेत्रों में अलर्ट जारी (Alert issued) किया है. जिले की सीमा में जहां तक चंबल नदी का क्षेत्रफल है वहां संबंधित हल्का पटवारी और गिरदावरों को निगरानी रखने के जिला कलेक्टर ने आदेश जारी किये हैं.

Weather Update: पश्चिमी राजस्थान के बाड़मेर-जैसलमेर में भारी बारिश की चेतावनी, येलो अलर्ट जारी



नदी के बंद पड़े पुराने पुल पर पुलिस बल तैनात
हाड़ौती इलाके में हो रही बारिश के कारण कालीसिंध एवं पार्वती नदी का पानी भी चंबल नदी में आ रहा है. धौलपुर जिले के सरमथुरा, बाड़ी, धौलपुर एवं राजाखेड़ा उपखंड इलाकों में नदी के तटवर्ती रिहायशी इलाकों में हल्का पटवारी एवं गिरदावरों को तैनात किया गया है. चंबल नदी का खतरे का निशान 129.79 मीटर है. लेकिन यहां पानी का स्तर 131 मीटर पहुंच गया है. नदी के बंद पड़े पुराने पुल पर पुलिस बल को तैनात कर दिया गया है. यहां लोगों के आवागमन पर जिला प्रशासन ने प्रतिबंध लगा दिया है.

जयपुर: प्रेमी के घर पर मिली 3 दिन से लापता पूर्व प्रधान, कहा- पति से तलाक होने तक लिव-इन में रहूंगी

जलस्तर खतरे के निशान से करीब 3 मीटर ऊपर तक पहुंच सकता है
जिला प्रशासन से मिली जानकारी के अनुसार चंबल नदी में पानी की आवक लगातार देखी जा रही है. प्रशासन ने संभावना व्यक्त की है चंबल नदी में जलस्तर खतरे के निशान से करीब 3 मीटर ऊपर तक पहुंच सकता है. हालांकि शहर के लिए इस पानी से कोई खतरा नहीं है, लेकिन नदी के निचले हिस्सों में बसे गांवों के ग्रामीणों के लिए परेशानी हो सकती है. इसे देखते हुए जिला प्रशासन ने अलर्ट जारी कर दिया है. जिला प्रशासन की ओर से तटवर्ती इलाकों में बसे परिवारों को सुरक्षित निकालने की कवायद शुरू कर दी गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज