Home /News /rajasthan /

don deva gurjer kota murdered by friend congress leader balram jat and babulal killed him for money know the political connection

डॉन देवा गुर्जर की मर्डर मिस्ट्री में कातिल दोस्त का पॉलिटिकल कनेक्शन!

जगंल से पुलिस ने ड़ॉन देवा गुर्जर के पांच कातिलों को दबोच लिया.

जगंल से पुलिस ने ड़ॉन देवा गुर्जर के पांच कातिलों को दबोच लिया.

कोटा के डॉन देवा गुर्जर के दिन दहाड़े कत्ल के बाद पुलिस ड्रोन के साथ जंगलों की खाक छान रही है. अब तक पांच लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. पुलिस जांच में कई चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं. जांच में पता चला है कि हत्यारों में देवा का खास दोस्त भी शामिल है. इसके साथ ही कातिलों में एक कांग्रेस नेता का भी नाम सामने आ रहा है. देवा की हत्या की साजिश उसके दोस्त ने ही रची थी. बाबूलाल देवा का दोस्त था. इसके साथ ही दोस्त दूसरा बालाराम जाट का नाम सामने आ रहा है. बलराम कांग्रेस नेता है. हाल ही में बलराम को डिजिटल सदस्यता अभियान के जरिए चितौड़गढ जिले में डिजिटल सदस्यता अभियान का मंडल प्रभारी बनाया था.

अधिक पढ़ें ...

कोटा. राजस्थान के डॉन देवा गुर्जर की हत्या के बाद पुलिस आरोपियों की तलाश में जुटी है. इसके लिए कोटा पुलिस पिछले तीन दिन से मुकंदरा टाईगर पार्क के जंगलों की खाक छान रही है. ड्रोन कैमरे से डॉन के कातिल की तलाश हो रही है. पुलिस को पहली कामयाबी भी मिल गई है. जगंल से पुलिस ने ड़ॉन देवा गुर्जर के पांच कातिलों को दबोच लिया. इन कातिलों में एक बाबूलाल गुर्जर, डॉन देवा गुर्जर का दोस्त दूसरा बालाराम जाट कांग्रेसी नेता भी पुलिस की गिरफ्त में आ गए हैं. अभी भी पुलिस आठ कातिलों की तलाश में जंगल में ड्रोन से सर्च ऑपरेशन चला रही है. पुलिस ने इसकी जांच भी की है तो इस बात का खुलासा हुआ कि दोस्त ने ही डॉन देवा गुर्जर को मौत के घाट क्यों उतार दिया. दोनों पिछले पांच महीने से अच्छे दोस्त थे. इसके बाद भी देवा की मौत की साजिश बाबूलाल गुर्जर ने रची थी.

ऐसे हुई हत्या…
सोमवार को देवा गुर्जर कोटा के रावतभाटा में एक सैलून पर जा रहा था. देवा के साथ एक कैमरामैन और भीड़ हमेशा रहती थी. सोमवार की रात तक हत्यारे देवा के अकेला होने का इंतजार करते रहे. सोमवार को सैलून के अंदर देवा अकेला पहुंचा. पहले से पीछा कर रहे कातिलों ने देवा को सैलून में घेर लिया. आरोपियों ने उस पर धारदार हथयिारों से हमला बोल दिया. देवा की हत्या कर भागते कातिलों का वीडियो अगले ही दिन सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. जैसे ही सोशल मीडिया पर ये विडियो वायरल हुआ तो देवा के समर्थकों ने कोटा में जमकर तोड़डफोड की. मंगलवार और बुधवार को दो दिन कोटा में जमकर तांडव हुआ. देवा के समर्थकों ने जमकर आगजनी की.

देवा की बहन और पत्नी का वीडियो वायरल
देवा के अंतिम संस्कार पर पत्नी और बहन का विडियो सोशल मिडिया पर वायरल हो गया. जिसमें कातिलों को सबक सिखाने की बात कही गई. सोशल मिडिया पर देवा की हत्या पर इतना बवाल मचा कि देवा के कई समर्थकों ने कातिलों को सबक सिखाने की पोस्ट की बाढ ला दी. बता दें कि डॉन देवा गुर्जर एक हिस्ट्रीशीटर है. लेकिन राजस्थान में उसकी इमेज रॉबिनहुड की थी. देवा के सोशल मिडिया पर दो लाख से ज्यादा फॉलोवर थे. फेसबुक पर देवा के नाम से कई पेज बने हुए हैं.

अपनी लाईफ स्टाईल की वजह से देवा चर्चित था. उसे तस्वीरों का इतना शोक था कि अपने साथ कैमरामैन रखता था. वर्कआउडट से लेकर भैंस का दूध निकालने और मंदिर जाने से लेकर पैसों के ढ़ेर के साथ देवा के अनगिनत विडियो सोशल मिडिया पर अब भी खूब वायरल हो रहे हैं. देवा अपनी दो पत्नियों और नौ बच्चों को लेकर भी सोशल मिडिया पर चर्चित रहता था. देवा की एक पत्नी कालीबाई से आठ बेटियां और दूसरी पत्नी इंदिराबाई से एक बेटा है. एक विडियो वायरल हो रहा है जिसमें करवा चौथ पर दोनों पत्नियां एक साथ देवा की आरती उतारती है. देवा को छलनी से देखती है फिर देवा के पैर धोती हैं. देवा दोनों पत्नियों को शॉपिंग पर भी एक साथ ले जाता था

गाड़ियों का कारोबार भी करता था देवा
देवा के इस पैसा उड़ाने के पीछे वजह उसकी अकूत कमाई थी. देवा रावतभाटा में निजी कंपनियों में लेबर कांट्रेक्ट लेता था और ट्रकों से लेकर गाड़ियों का भी कारोबार करता था. देवा की अकूत कमाई देखकर दोस्त बाबूलाल ही देवा की जान का दुश्मन बन बैठा. बाबूलाल पांच महीने से इतना गहरा दोस्त था कि दोनों इंस्ट्रग्राम पर साथ में तस्वीरे और विडियो भी डालते थे.

एक वीडियो में एक ही कार में देवा और कातिल दोस्त बाबूलाल गुर्जर दिखते हैं. पुलिस के मुताबिक बाबूलाल ने देवा की अकूत कमाई देख 10 लाख की रंगदारी मांग ली. रंगदारी मांगने पर देवा अपने दोस्त से भिड़ गया. इस बीच रंगदारी का विवाद अधिक बढ़ा तो 26 अप्रेल को कोटा में पुलिस थाने में देवा गुर्जर ने रिपोर्ट दर्ज करा दी. कहते हैं कि पुलिस थाने में ही देवा और बाबूलाल भिड़ड गए थे. पुलिस दो बदमाशों के बीच जंग में कार्रवाई के बजाए किनारै बैठ तमाशा देखती रही और आखिरकार दोस्त ने मौका पाकर गैंग के साथ देवा को ठिकाने लगा दिया.

कांग्रेस नेता का भी सामने आ रहा नाम
लेकिन पुलिस हैरान है कि अगर हत्या की वजह रंगदारी है तो कांग्रेस नेता बालाराम जाट कत्ल की साजिश में क्यों था. बालाराम को कांग्रेस ने हत्या से सिर्फ एक दिन पहले ही चितौड़गढ जिले में डिजिटल सदस्यता अभियान का मंडल प्रभारी बनाया था. यहां से देवा की हत्या की मर्डर मिस्ट्री शुरु होती है जिसका खुलासा होना बाकी है. दरअसल देवा की रुची धंधा और अपराध के साथ सियासत में भी थी. कोटा और चितौड़गढ़ की करीब तीन विधानसभा सीटें गुर्जर बहुल है. देवा गुर्जर न सिर्फ गुर्जरों में काफी लोकप्रिय था. समाज सेवा के कई विडियो के जरिये देवा ने अपराधी की इमेज से समाजसेवी की इमेज बनानी शुरु कर दी थी. इससे सियासतदानों में हलचल थी कि देवा कहीं अगले चुनाव में ताल न ठोक दे. पुलिस अब ये भी जांच कर रही है कि बाबूलाल और बालराम जाट ने ही साजिश रची थी या मास्टमाईंड कोई है.

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर