मुआवजा दिलाने के बहाने प्रधान ने 32 आदिवासियों से लिखवा ली 286 बीघा जमीन, कलेक्ट्रेट पहुंचे पीड़ित

Jayesh Panwar | News18 Rajasthan
Updated: August 19, 2019, 5:23 PM IST
मुआवजा दिलाने के बहाने प्रधान ने 32 आदिवासियों से लिखवा ली 286 बीघा जमीन, कलेक्ट्रेट पहुंचे पीड़ित
कलेक्ट्रेट पर विरोध प्रदर्शन करते आदिवासी काश्तकार

डूंगरपुर जिले के सीमलवाडा उपखंड के जोरावरपुरा गांव के तत्कालीन प्रधान ने खराब हुई फसल का मुआवजा दिलाने के बहाने 32 आदिवासियों से उनकी 286 बीघा जमीन लिखवा ली. अब जब किसानों को इसका पता चला तो पीड़ित किसानों ने कलेक्ट्रेट पहुंच कर ज्ञापन सौंपा है.

  • Share this:
डूंगरपुर जिले के सीमलवाडा उपखंड के जोरावरपुरा गांव के पूर्व प्रधान ने पद पर रहते हुए जालसाजी कर करीब 32 आदिवासी किसानों की 286 बीघा जमीन गैर कानूनी तरीके से हड़प ली है. पीड़ित काश्तकारों ने सोमवार को कलेक्ट्रेट पहुंचकर कलेक्टर व एसपी को ज्ञापन देते हुए पूर्व प्रधान नानुराम के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज करने और पूरे मामले की उच्च स्तरीय जांच कराने की मांग की.

 पूरे मामले की जानकारी देते हुए पीड़ित काश्तकार हुरजी डामोर


मामले के अनुसार, करीब आठ साल पहले जोरावरपुरा गांव के खाता संख्या 101 में खराब फसल का मुआवजा दिलाने के बहाने सीमलवाडा के पूर्व प्रधान नानुराम परमार ने जालसाजी करते हुए उनके फोटो लेकर उनके साइन करवा लिए. मात्र हस्ताक्षर करने की क्षमता रखने वाले गरीब आदिवासी किसान दस्तावेजी प्रक्रिया को समझ नहीं पाए और पूर्व प्रधान ने उनसे जमीन की रजिस्ट्री भी करवा ली.

प्रधानमंत्री किसान निधि योजना का लाभ लेने पहुंचने पर चला पता 

जब गरीब काश्तकार प्रधानमंत्री किसान निधि योजना का लाभ लेने पटवार मंडल गए तो उन्हें पता चला कि उनकी जमीन अब उनकी नहीं रही. जिसके बाद पीड़ित काश्तकारों ने कलेक्टर व एसपी को ज्ञापन सौंपकर पूर्व प्रधान नानुराम के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज कर मामले की उच्च स्तरीय जांच करवाने की मांग की है. कार्रवाई नहीं होने पर काश्तकारों ने आन्दोलन की चेतावनी दी है.

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए डूंगरपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 19, 2019, 5:23 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...