चक्रवाती तूफान टाउते का कहर: डूंगरपुर में जबर्दस्त तबाही, आकाशीय बिजली गिरने से 5 लोगों की मौत

डूंगरपुर में तेज तूफान के कारण कई बड़े-बड़े पेड़ धराशायी हो गये. इससे कई जगह रास्ते अवरुद्ध हो गये.

डूंगरपुर में तेज तूफान के कारण कई बड़े-बड़े पेड़ धराशायी हो गये. इससे कई जगह रास्ते अवरुद्ध हो गये.

Havoc of Tauktae cyclon: चक्रवाती तूफान टाउते की आहट मात्र ने ही राजस्थान के डूंगरपूर जिले में भारी तबाही मचाई है. टाउते के असर से डूंगरपुर जिले में आए तूफान के दौरान आकाशीय बिजली गिरने से तीन मासूम बच्चों समेत चार की मौत हो गई है. वहीं प्रतापगढ़ जिले में एक शिक्षक की जान चली गई.

  • Share this:

जयपुर/डूंगरपुर. चक्रवाती तूफान टाउते (Tauktae cyclone) ने राजस्थान में तबाही मचानी शुरू कर दी है. टाउते के असर से बिगड़े मौसम के कारण डूंगरपुर जिले में जबर्दस्त आंधी-तूफान और बारिश (Thunderstorm And rain) का दौर शुरू हो गया है. इस दौरान अलग-अलग जगहों पर आकाशीय बिजली गिरने से 4 लोगों की मौत (Death) हो गई. इनमें तीन बच्चे शामिल हैं. प्रतापगढ़ जिले में भी एक व्यक्ति की जान चली गई. आकाशीय बिजली के कारण डूंगरपुर और प्रतापगढ़ (Dungarpur and Pratapgarh) में एक दर्जन से ज्यादा मवेशी भी अकाल मौत के शिकार हो गए.

रविवार शाम को टाउते तूफान का कहर डूंगरपुर जिले में देखने को मिला. यहां शाम को अचानक मौसम का मिजाज बदला. जिलेभर में तेज हवाओं के साथ आंधी-तूफान आया और फिर बारिश का दौर भी शुरू हो गया. बादलों की तेज गर्जना हुई और आसमान में घनघोर काले बादल छाने से अंधेरा पसर गया. तेज हवाओं के कारण कई बड़े-बड़े पेड़ धराशायी हो गए.

पानी की टंकियां भी उड़ गईं

मुख्य मार्ग पर बड़े बड़े पेड़ गिरने से कई रास्ते अवरुद्ध हो गए. आंधी के चलते कई जगहों पर बिजली के पोल गिर गए. इससे डूंगरपुर शहर सहित ग्रामीण इलाकों में बिजली गुल हो गई. इधर तेज हवाओं के चलते कई लोगो के घरों के टिन शेड उड़ गए. पानी की टंकियां भी उड़ गईं.

Youtube Video

आम के पेड़ पर गिरी बिजली

डूंगरपुर जिले के धम्बोला थाना इलाके के नागरिया पंचेला गांव में तूफान के चलते आकाशीय बिजली गिरने से दो मासूमों की मौत हो गई, जबकि एक बुजुर्ग सहित 2 बच्चे झुलस गए. गांव के 65 वर्षीय हाजा व चार बच्चे आम के पेड़ के नीचे हवा से गिर रहे आम इकट्ठा कर रहे थे. इस दौरान अचानक आकाशीय बिजली आम के पेड़ पर गिरी. इस दौरान बिजली की चपेट में आने से मासूम कैलाश व सुनीता की मौत हो गई.



चार-चार लाख रुपये सहायता राशि की घोषणा

हाजा और दो अन्य बच्चे भी झुलस गए. दूसरी तरफ बाबा की बार पंचायत में 13 वर्षीया बालिका और एक बैल की मौत हो गयी. भासोर गांव में जितेन्द्र पण्ड्या की मौत हो गयी तो विशाल और कमलेश को गंभीर हालत में सागवाड़ा के निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया. मृतकों के परिजनों को मुख्यमंत्री सहायता कोष से चार-चार लाख रुपये सहायता राशि दिये जाने की घोषणा की गई है.

उदयपुर संभाग रेड अलर्ट जोन में

प्रतापगढ़ के पीपलखूंट इलाके में बिजली गिरने से एक शिक्षक की मौत हो गई. वहां अभी बारिश का दौर जारी है. ताउते तूफान के मद्देनजर उदयपुर संभाग को रेड अलर्ट जोन में रखा गया है. उदयपुर में भी बारिश का दौर शुरू हो गया है. हाड़ौती के बारां में भी रुक-रुक कर हल्की फुहारें बरस रही हैं. चित्तौड़गढ़ में भी हल्की बारिश का दौर चल रहा है. बीकानेर में लोगों को घरों की चेतावनी दी जा रही है.

(इनपुट- चंचल सनाढ्य)

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज