लाइव टीवी

कर्ज में डूबे किसान ने की खुदकुशी, सुसाइड नोट में गहलोत-पायलट को बताया जिम्मेदार

News18Hindi
Updated: June 25, 2019, 3:57 PM IST
कर्ज में डूबे किसान ने की खुदकुशी, सुसाइड नोट में गहलोत-पायलट को बताया जिम्मेदार
राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत और डिप्टी सीएम सचिन पायलट (PTI)

राजस्थान के श्रीगंगानगर में ठकरी गांव के निवासी सोहनलाल मेघवाल ने अपने सुसाइड नोट में अपनी मौत के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट को जिम्मेदार ठहराया है

  • Share this:
किसानों की समस्याएं सुलझाने और उनकी कर्ज माफी को लेकर हर पार्टी बड़े-बड़े वादे कर सत्ता में तो आ जाती है, लेकिन सत्ता में आते ही किसानों की समस्याएं भूलने लग जाती है. राजस्थान में कांग्रेस की सरकार बनते ही गहलोत सरकार ने किसानों के कर्ज माफी की घोषणा कर दी थी. लेकिन राजस्थान के श्रीगंगानगर के एक किसान की आत्महत्या करने के मामले ने सरकार की पोल खोल के रख दी है. गंगानगर के सांसद ने इस मसले को लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला के सामने उठाया है.

कर्ज माफी का वादा पूरा न कर पाने का लगाया आरोप 
श्रीगंगानगर में ठकरी गांव के निवासी सोहनलाल मेघवाल ने अपने सुसाइड नोट में अपनी मौत के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट को जिम्मेदार ठहराया है. किसान ने दो पन्नों के सुसाइड नोट में गहलोत सरकार पर कर्ज माफी का वादा पूरा न करने का आरोप लगाया है.

किसानों की कर्ज माफी पर शुरू हुआ मंथन, सीएम गहलोत ने ली अहम बैठक

एनडीटीवी के मुताबिक, सोहनलाल ने खुदकुशी करने से पहले फेसबुक पर एक वीडियो अपलोड किया था, जिसके बाद उसके पड़ोसियों को इस बात का पता चल सका कि वो खुदकुशी करने वाला है. लेकिन फिर भी उसकी जान नहीं बचाई जा सकी. जब तक आस पड़ोस के लोग उसके घर पहुंचे उससे पहले ही उसने जहर खा लिया था और अस्पताल ले जाते वक्त उसकी मौत हो गई.

एक्सपर्ट से कराएंगे हैंडराइटिंग की जांच
बता दें कि पुलिस ने किसान के सुसाइड नोट की सोमवार तक पुष्टि नहीं की थी. लेकिन, जब सांसद निहालचंद ने मामला उठाया, तो पुलिस ने सुसाइड नोट की बरामदगी स्वीकारी. हालांकि, पुलिस ने अब भी सुसाइड नोट में किसान की राइटिंग की पुष्टि नहीं की है. पुलिस का कहना है कि एक्सपर्ट से हैंडराइटिंग की जांच करवाई जा रही है.
Loading...

वीडियो में दिया इमोशनल संदेश
बैंक के कर्ज से परेशान किसान ने वीडियो के जरिए गहलोत सरकार को इमोशनल संदेश देते हुए कहा, 'मैं खुद को मार रहा हूं. लेकिन मैं गहलोत सरकार से गुजारिश करता हूं कि वो किसानों की परेशानियों को समझे और उनका कर्ज चुकाए. अगर मैंने कुछ गलत किया है तो मैं अपने परिवार से भी माफी मांगना चाहता हूं. मुझे उम्मीद है कि मेरी मौत के बाद हमारे गांव में फिर से एकता होगी.'

मौत पर क्या बोले सचिन पायलट?
वहीं, इस पूरे मामले पर डिप्टी सीएम सचिन पायल का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है. इस घटना का हमें पछतावा है. मुझे अभी तक जो भी जानकारी मिली है, उसके मुताबिक, उस शख्स (किसान) पर कोई कर्जा नहीं था. राज्य में किसानों के बेहतर भविष्य के लिए राजस्थान सरकार पूरी तरह से प्रतिबद्ध है.



बता दें कि विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने कर्ज माफी को मुद्दा बनाया था. कांग्रेस की सरकार बनने के बाद गहलोत सरकार ने किसानों का कर्ज माफ करने का ऐलान भी किया था. सीएम ने कहा था, 'सहकारी बैंकों से लिया गया किसानों का पूरा अल्पकालीन कर्ज माफ होगा.' सीएम की घोषणा के बाद कॉमर्शियल बैंकों से लिया गया 2 लाख रुपये तक का किसानों का कर्ज माफ किया जाना था. इससे प्रदेश सरकार पर लगभग 18 हजार करोड़ का अतिरिक्त भार आने की बात कही गई थी.

जादूगर तो नहीं बने, लेकिन क्या कांग्रेस के लिए जादू की छड़ी बनेंगे गहलोत?

लेकिन, बीजेपी का आरोप है राज्य में किसानों का उतना कर्ज माफ नहीं हुआ, जितना की ऐलान किया गया था. सिर्फ एक रेश्यो में ही कर्ज माफ किया गया, जो कि कर्ज के बोझ तले दबे किसानों के लिए ऊंट के मुंह में जीरा के बराबर है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए श्रीगंगानगर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 25, 2019, 3:22 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...