सड़क हादसे में लोक नृतक डांस क्वीन हरीश सहित चार की मौत, सीएम ने व्यक्त की शोक संवेदना

Sikandar Sheikh | News18 Rajasthan
Updated: June 2, 2019, 2:39 PM IST
सड़क हादसे में लोक नृतक डांस क्वीन हरीश सहित चार की मौत, सीएम ने व्यक्त की शोक संवेदना
डांस गुरु क्वीन हरीश (फाइल फोटो)

अंतरराष्ट्रीय डांस गुरू क्वीन हरीश समेत चार लोक कलाकारों की सड़क हादसे में मौत हो गई.

  • Share this:
अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपने हुनर का जलवा बिखेरते हुए लाखों प्रशंसकों के दिलों में राज करने वाले जैसलमेर के विख्यात डांस गुरू क्वीन हरीश की रविवार तड़के एक सड़क हादसे में दर्दनाक मौत हो गई, जबकि कई लोग घायल हो गए. हरीश एक कार्यक्रम में भाग लेने अपनी टीम के साथ जा रहे थे, जोधपुर के बिलाड़ा के समीप ट्रक के साथ इनकी गाड़ी की भिड़ंत में हरीश सहित चार लोक कलाकारों की मौत हो गई वहीं हरीश की मौत की खबर से जैसलमेर वासी स्तब्ध है. हरीश ने लोक नृत्य, संस्कृति को देश विदेश में नए आयाम दिलाए.

डांसर क्वीन हरीश  की सड़क हादसे में मौत

जैसलमेर में राजस्थानी लोक संगीत नृत्य का यह एक ऐसा कोरियोग्राफर लोक गुरू हैं, जिसके अकेले जापान में 2000 से ज्यादा शार्गिद हैं और हर वर्ष इसमें लगातार वृद्धि हो रही है हरीश नाम का ये लोक गुरू मात्र 38 वर्ष का था. जापानी युवक युवतियों में इस लोक गुरू से राजस्थानी लोक संगीत नृत्य सीखने में दीवानगी का ये आलम था कि हर वर्ष दर्जनों युवतियां राजस्थानी लोक संगीत व नृत्य सीखने जैसलमेर आती थी और तो और हरीश स्वयं साल में एक बार जापान के अलग-अलग शहरों में जाकर राजस्थानी नृत्य सीखने की वहां कक्षाएं आयोजित कर इन जापानी को नृत्य का प्रशिक्षण देता था.

हरीश के निधन पर सीएम गहलोत ने व्यक्त की गहरी संवेदना

डांसर क्विन हरीश के निधन पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गहरी संवेदना वयक्त की, साथ ही जैसलमेर नहीं प्रदेश के लिए दुखद घटना बताई और हरीश का निधन लोक कला क्षेत्र में एक बड़ी क्षति है.



यह भी पढ़ें:  बस्ती में भीषण सड़क हादसा, कार की बॉडी काटकर निकाले गए 3 शव

5 हजार से ज्यादा कलाकारों को किया था प्रशिक्षित

हरीश द्वारा अब तक विभिन्न कक्षाओं के करीब 5000 से ज्यादा कलाकारों को राजस्थानी लोक संगीत व भारतीय लोकनृत्य में प्रशिक्षित किया हैं.  राजस्थानी नृत्य जिसमें घुटना, चकरी, भवाई, तराजू, तेरह ताली, घूमर, चरी, कालबेलिया प्रमुख हैं, जिसमें हरीश विशेष रूप से पारंगत थे. इन नृत्यों का जादू वह करीब 60 देशों में फैला चुके थे, जिसके लिए हरीश को कई राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कृत किया जा चुका है.

देश -विदेश में अपनी कला का मनवा चुके थे लोहा

गौरतलब हैं कि हरीष एंड पार्टी द्वारा पेरिस में 1999 में आयोजित वर्ल्ड फुटबॉल कप, यू.एस.ए में सी.ए.टल चिल्डरन फेस्टीवल, बेल्जियम में कूल कैफे फेस्टीवल, शिकागो में वर्ल्ड म्यूजिक फेस्टीवल, न्यूयार्क में सेंट्रल पार्क संमर स्टेज फेस्टीवल, स्कॉटलैंड में एडिनबरा फेस्टिवल, लंदन में क्वीन एलिजाबेथ व हाल ही के डेजर्ट फेस्टीवल में अपनी कला का प्रदर्शन कर चुके हैं, इसके अलावा हरीश राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्मों में भी अभिनय कर अपना लोहा मनवा चुके हैं. प्रकाश झा की फिल्मों में भी अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा चुके हे, अभी जैसलमेर में ग्रीष्मकालीन प्रशिक्षण चला रहे थे, जिसमे देश विदेश के कई छात्र-छात्राए लोक नृत्य के गुर हरीश से सिख रहे थे.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जैसलमेर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 2, 2019, 12:51 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...