राजस्थान में कोरोना के यूके वैरियंट से मचा हड़कंप, प्रदेश में वायरस की जीनोम सिक्वेंसिंग जांच की सुविधा जल्द होगी शुरू

राजस्थान में कोरोना वायरस की जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए एसएमएस अस्पताल में जांच सुविधा जल्द शुरू होगी.

राजस्थान में कोरोना वायरस की जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए एसएमएस अस्पताल में जांच सुविधा जल्द शुरू होगी.

राजस्थान (Rajasthan) में कोरोना वायरस (Corona Virus) के यूके वैरिएंट मिलने के बाद जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए एसएमएस अस्पताल (Hospital) में जांच सुविधा शुरू की जाएगी.

  • Share this:

जयपुर. राजस्थान (Rajasthan) में कोरोना वायरस (Corona Virus) के यूके वैरिएंट ने एक बार फिर लोगों में दहशत का माहौल बना दिया है. चिकित्सा शिक्षा सचिव वैभव गालरिया ने बताया कि प्रदेश में कोरोना वायरस की जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए एसएमएस अस्पताल (Hospital) में जांच सुविधा जल्द शुरू की जाएगी. जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए दिल्ली स्थित आईसीएमआर की लैब में करीब 1800 सैम्पल भेजे गए थे. इनमें से 689 सैम्पल की रिपोर्ट आ गई है. 32 सैंपल में यूके वैरियंट मिला है. चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव अखिल अरोरा ने बताया कि जयपुर में कोविड उपचार की व्यवस्थाओं को बेहतर बनाने के लिए आरयूएचएस एवं एसएमएस अस्पताल सहित अन्य जगहों पर 5 कंट्रोल रूम स्थापित किए हैं, जो 24 घंटे प्रभावी रहेंगे.

जारी हो कॉमन गाइडलाइन

प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि जिन जिलों में कोरोना संक्रमण के कारण ज्यादा मौत हो रही हैं, वहां विशेषज्ञ चिकित्सकों की टीम भेजकर ऑडिट करवाया जाएगा. ये विशेषज्ञ स्थानीय चिकित्सकों एवं पैरामेडिकल स्टाफ को उपचार को लेकर आवश्यक सलाह और सुझाव भी दें. ताकि मौतों की संख्या को न्यूनतम किया जा सके.

Rajasthan News: गहलोत सरकार की कोरोना से लड़ाई तेज, विदेशों से आयात करेगी वैक्सीन

शिकायतों की जांच करें अधिकारी

सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि पल्स ऑक्सीमीटर की गुणवत्ता को लेकर भी शिकायतें मिल रही हैं. चिकित्सा विभाग इसकी जांच कराए और आवश्यक कार्रवाई सुनिश्चित करे. अस्पतालों में रोगियों के बेहतर उपचार के लिए नियुक्त नोडल अधिकारियों के लिए राज्य स्तर से कॉमन गाइडलाइन जारी की जाए और उनके काम की सतत मॉनिटरिंग भी की जाए. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि मरीजों को किसी प्रकार के अप्रिया हालात का सामना नहीं करना पड़े राज्य सरकार जरूरत पड़ी तो और जरूरी कदम उठाएगी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज