Assembly Banner 2021

International Women's Day: कोटा का पहला पूर्ण महिला थाना बना हड़ौती, यहां ड्राइवर से लेकर SHO तक सब हैं महिलाएं

कोटा के हड़ौती थाने को पूर्णरूप से महिला थाना बनाया गया है. यहां पूरा स्टाफ अब महिलाओं का होगा.

कोटा के हड़ौती थाने को पूर्णरूप से महिला थाना बनाया गया है. यहां पूरा स्टाफ अब महिलाओं का होगा.

कोटा (Kota) के एसपी ग्रामीण शरद चौधरी ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस (International Women's Day) के मौके पर हड़ौती पुलिस स्टेशन को पूर्णरूप से महिला थाना बना दिया है. यहां ड्राइवर से लेकर SHO तक सभी पदों पर महिलाओं को तैनात किया गया है. इससे महिला पुलिसकर्मी काफी खुश हैं.

  • Share this:
कोटा. अंतररार्ष्ट्रीय महिला दिवस (International Women's Day) के मौके पर कोटा पुलिस (Kota Police) ने बड़ी पहल की है, यहां के ग्रामीण एसपी शरद चौधरी ने जिले के हड़ौती थाने की पूरी बागडोर महिलाओं को सौंपी है. अब इस थाने में ड्राइवर (Driver) से लेकर एसचओ (SHO) तक सारा स्टाफ महिलाओं को का होगा. पूरे थाने में महिला स्टाफ वाला यह हाड़ौती का पहला महिला थाना है और प्रदेश का अपने आप में एक अनूठा थाना है.

कोटा ग्रामीण एसपी शरद चौधरी ने आज महिला थाने में पहुंचकर डेढ़ दर्जन महिलाओं को पूरे थाने की जिम्मेदारी सौंपी है. महिला दिवस की पूर्व संध्या पर महिलाओं को सम्मान देने के लिए ऐसा किया गया है. कोटा ग्रामीण एसपी, एडिशनल एसपी, तीन डीएसपी, चार सीआई सहित कई पुलिस अधिकारियों ने इस थाने की बागडोर को महिलाओं को सुपर्द किया है.

राजस्थानः दो परिवारों की खानदानी लड़ाई में शराब के ठेके के लिए 510 करोड़ की लगाई बोली



महिला थाने की एसएचओ यशोधरा ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस को देखते हुए कोटा ग्रामीण पुलिस के महिला थाने में जीप ड्राइवर से लेकर और SHO की महिला कर्मचारी की नियुक्ति की गई है. इसका उद्देश्य महिलाओं की समाज में भागीदारी को बढ़ाना है, जो उपहार महिलाओं को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर दिया गया है. कोटा ग्रामीण एसपी शरद चौधरी ने इस दिन को यादगार और सफल बनाने के उद्देश्य से यह नई शुरुआत की है. इसके तहत अब कोटा ग्रामीण पुलिस महिला थाने में सम्पूर्ण स्टाफ महिला ही होगा.
वहीं महिला थाने की हेड कांस्टेबल फरीदा बानो ने कहा कि कोटा ग्रामीण के इस महिला थाने में लगभग 17 महिलाओं की ड्यूटी लगाई गई है. एसपी शरद ने बताया कि महिलाओं में इसे लेकर बड़ा उत्साह है और वे अपनी जिम्मेदारी निभाने के लिए तैयार भी हैं. आज एक कार्यक्रम के जरिये उन्होंने इस बात की घोषणा भी की और कार्यक्रम के बाद ही सभी महिला पुकिसकर्मियों ने अपनी-अपनी जिम्मेदारी संभाल ली है. कोटा ग्रामीण एसपी शरद चौधरी के लिए एक ही थाने में पूरे महिला स्टॉफ को तैनात करना कोई चुनौती से कम नहीं था.  ग्रामीण पुलिस महकमे में एक हजार पुलिसकर्मियों में मात्र महिला 70 पुलिसकर्मी हैं. कोटा ग्रामीण के सुदूर अंचल के अलग-अलग थानों में तैनात महिला पुलिसकर्मी की सूची तैयार कर एक महिला थाने में तैनातगी की गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज