लाइव टीवी

इंदिरा गांधी नहर में बढ़ाया जाएगा पानी ! निर्माण एवं मरम्मत कार्य जोरों पर

Raju Ramgarhia | News18 Rajasthan
Updated: April 13, 2019, 3:01 PM IST
इंदिरा गांधी नहर में बढ़ाया जाएगा पानी ! निर्माण एवं मरम्मत कार्य जोरों पर
फाइल फोटो।

राजस्थान की लाइफ लाइन कही जाने वाली इंदिरा गांधी नहर की मरम्मत से इसके अंतिम छोर पर बसे किसानों को जीवनदान मिलने की उम्मीद जगी है. मरम्मत के बाद नहर में पानी की मात्रा बढ़ाए जाने की संभावनाएं भी प्रबल हो रही हैं.

  • Share this:
राजस्थान की लाइफ लाइन कही जाने वाली इंदिरा गांधी नहर की मरम्मत से इसके अंतिम छोर पर बसे किसानों को जीवनदान मिलने की उम्मीद जगी है. मरम्मत के बाद नहर में पानी की मात्रा बढ़ाए जाने की संभावनाएं भी प्रबल हो रही हैं. राज्य के जल संसाधन विभाग की ओर से युद्धस्तर पर नहर में निर्माण और मरम्मत के कार्य करवाए जा रहे हैं.

सख्त हुई गहलोत सरकार: पांच IAS अधिकारियों की विदेश यात्राओं पर लगाए ब्रेक

दरअसल में नहर में आई टूटफूट के कारण पानी लीकेज एक बड़ी समस्या बन गया है. इससे श्रीगंगानगर और हनुमानगढ़ इलाके में जमीनों को काफी नुकसान पहुंचा है. सेम की समस्या के कारण किसानों को खासा परेशानियों का सामना करना पड़ा है. वहीं नहर के अंतिम छोर जैसलमेर के किसानों को इसका पूरा फायदा नहीं मिल पा रहा है. इन समस्याओं से किसानों को निजात दिलाने के लिए इन दिनों नहर की मरम्मत और रखरखाव का कार्य जोरों पर चल रहा है.

कड़े और बड़े मुकाबले में फंसी झुंझुनूं सीट, बचाए रखने और पाने की लड़ाई

138 करोड़ के कार्य करवाए जा रहे हैं
इसके लिए 25 मार्च से 24 अप्रेल तक एक माह की नहरबंदी चल रही है. नहरबंदी के दौरान राजस्थान क्षेत्र में कुल 138 करोड़ के कार्य करवाए जा रहे हैं. इस बार राजस्थान के अलावा पंजाब और हरियाणा में कोई निर्माण कार्य नहीं करवाया जा रहा. क्योंकि पंजाब में आचार संहिता लगने के कारण समय पर टेण्डर नहीं हो सके और हरियाणा में मामूली कार्य होने हैं. वो अगली बार पंजाब के साथ ही करवाए जाएंगे.

लोकसभा चुनाव-2019: 13 सीटों की तस्वीर साफ, 115 प्रत्याशी डटे चुनाव मैदान में
Loading...

नहर के तले को बनाया जा रहा है मजबूत
नहरबंदी के दौरान राजस्थान में हनुमानगढ़ जिले में मसीतावाली हैड से लेकर आगे विभिन्न स्थानों पर नहर की रिलाईनिंग, नहर के तले की सफाई से लेकर तले में प्लास्टिग शीट बिछाकर कंक्रीट से उसे मजबूत बनाया जा रहा है. इससे जहां नहर को नया जीवनदान मिलेगा, वहीं पंजाब के हरिके बैराज से करीब 1 हजार क्यूसेक पानी की भी बढ़ोतरी होने की प्रबल संभावना है. इससे जैसलमेर जिले के अंतिम छोर के किसानों को फायदा मिलेगा.

सुर्खियां- चुनाव सिर पर और 989 लाइसेंसी हथियार गायब, राजधानी में विधायकों की साख दांव पर

इन जिलों को प्रभावित करती है नहर
नहर से झुंझनूं, सीकर, नागौर और बाड़मेर जिलों में पीने के पानी की आपूर्ति की जाती है. इसके अलावा हनुमानगढ़, श्रीगंगानगर, चूरू, बीकानेर, जोधपुर और जैसलमेर 6 जिलों में पीने के अलावा सिंचाई के लिए इंदिरा गांधी नहर से पानी उपलब्ध होता है. राजस्थान के कुल 10 जिलों में नहर का पानी वितरित होता है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए हनुमानगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 13, 2019, 2:54 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...