Home /News /rajasthan /

Rajasthan: हनुमानगढ़ में अधिवक्ता ने जेब से 1 करोड़ रुपए खर्च करके बनाया शहीद स्मारक, जानें खासियत

Rajasthan: हनुमानगढ़ में अधिवक्ता ने जेब से 1 करोड़ रुपए खर्च करके बनाया शहीद स्मारक, जानें खासियत

इस शहीद स्मारक का उद्घाटन शहीद अशफाकउल्ला खां के पौत्र ने किया था.

इस शहीद स्मारक का उद्घाटन शहीद अशफाकउल्ला खां के पौत्र ने किया था.

Salute To Patriotism spirit: राजस्थान के हनुमागनढ़ में एक अधिवक्ता ने अपनी जेब से करीब एक करोड़ रुपये खर्च करके अनोखा शहीद स्मारक (Unique Martyrs Memorial) बनाया है. इस स्मारक में देश के सभी ज्ञात शहीदों की जीवनी दर्शाई गई है. वहीं शहीदों की मूर्तियां भी लगाई गई हैं.

अधिक पढ़ें ...

हनुमानगढ़. पश्चिमी राजस्थान में स्थित हनुमानगढ़ टाऊन में अपनी तरह का एक अनोखा शहीद स्मारक (Martyr memorial) बनाया गया है. हाल ही में इसका उद्घाटन शहीद अशफाकउल्ला खां (Ashfaqulla Khan) के पौत्र अशफाकउल्ला खां ने किया था. खास बात यह है कि इस स्मारक को हनुमानगढ़ टाऊन निवासी एडवोकेट शंकर सोनी ने अपनी जेब से करीब 1 करोड़ रुपये खर्च करके बनाया है. इस शहीद स्मारक में देश के सभी ज्ञात शहीदों की जीवनी दर्शाई गई है. वहीं शहीदों की मूर्तियां भी लगाई गई हैं. जल्द ही इस शहीद स्मारक में ऑडियो-वीडियो के जरिये प्रत्येक शहीद की जानकारी दर्शकों को दी जाएगी.

स्मारक का उद्घाटन करने आए शहीद अशफाकउल्ला खां के पौत्र अशफाकउल्ला खां अपने साथ अपने घर की मिट्टी भी लाए. उसको स्मारक में रखा गया है. अशफाकउल्ला खां का कहना था कि आज ऐसे स्मारकों की महत्ती आवश्यकता है ताकि देश की युवा पीढ़ी को शहीदों बारे जानकारी मिल सके . वहीं उन्होंने यह भी कहा कि शहीदों के नाम पर राजनीति नहीं होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि वे अगली बार जब भी यहां आएंगे तो अशफाकउल्ला खां और अन्य शहीदों की कोई निशानी लाएंगे. उनको इस स्मारक में रखा जाएगा. शहीद स्मारक का निर्माण कराने वाले एडवोकेट शंकर सोनी ने कहा कि सरकारों को शहीदों के स्मारक बनाने चाहिए, लेकिन दुर्भाग्य से सरकारें ऐसा नहीं कर रहीं हैं, इसलिये उनको ये कदम उठाना पड़ा.

नाम के पीछे भी है कहानी
अशफाकउल्ला खां ने बताया कि फांसी से पहले उनके दादाजी ने चाचा को कहा था कि वो तो देश के लिए शहीद हो रहे हैं, लेकिन उनके जाने के बाद परिवार में किसी का नाम अशफाकउल्ला खां ही रखा जाए. इसके कारण उनका नाम अशफाकउल्ला खां ही रखा गया. इस मौके पर शहीदों से संबधित ‘गुमनाम क्रांतिकारी’ पुस्तक का भी लोकार्पण किया गया. शहरवासी एडवोकेट शंकर सोनी के इस कदम की सराहना करते हुये नहीं थक रहे हैं.

Tags: Hanumangarh news, Martyr, Rajasthan latest news, Rajasthan News Update

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर