तब राजस्थान CM बनने की रेस में गहलोत से पिछड़ गए थे पायलट पर क्या अब है मौका?

अगर गहलोत कांग्रेस के अध्यक्ष बनते हैं तो राजस्थान के मुख्यमंत्री पद की रेस में पहला नाम उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट का ही आएगा. क्योंकि गहलोत के बाद सीएम पद के सबसे बड़े दावेदार वही हैं

News18Hindi
Updated: June 20, 2019, 3:35 PM IST
तब राजस्थान CM बनने की रेस में गहलोत से पिछड़ गए थे पायलट पर क्या अब है मौका?
सचिन पायलट राजस्थान के डिप्टी सीएम
News18Hindi
Updated: June 20, 2019, 3:35 PM IST
राजस्थान की राजनीति में एक बार फिर हलचल तेज हो गई है. गहलोत सरकार बनने से पहले जो सवाल काफी उठा था, वही अब एक बार फिर उठ रहा है. सवाल है राजस्थान का सीएम कौन बनेगा. अब दोबारा इस सवाल के उठने की वजह ये है कि कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए अशोक गहलोत को पहली पसंद माना जा रहा है. टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, कांग्रेस बहुत जल्द अध्यक्ष पद के नाम का ऐलान कर सकती है. पार्टी ने अध्यक्ष पद के लिए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत के नाम पर हामी भर दी है. अगर ऐसा कुछ होता है तो मुख्यमंत्री पद की रेस में पहला नाम उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट का ही लिया जा रहा है. लेकिन गहलोत के बाद सीएम पद के दावेदारों में अकेले पायलट ही नहीं है. तीन-चार और बड़े चहरे हैं. इनमें विधानसभा अध्यक्ष डॉ.सीपी जोशी का नाम भी प्रमुखता से लिया जा रहा है.

दोनों नेताओं ने मजबूती से पेश की थी दावेदारी
खैर अब सीएम पद को लेकर सवाल उठ ही रहा है, तो हमें एक बार पहले जो कुछ भी इसे लेकर हुआ, उस पर भी एक नजर डाल लेनी चाहिए. आपको याद दिला दें कि राजस्थान में जब कांग्रेस की जीत हुई, तब सीएम पद को लेकर गहलोत और पायलट दोनों ने ही अपनी दावेदारी मजबूत ढंग से पेश की थी. गहलोत ने जहां गुजरात और कर्नाटक में अपने कामों को पार्टी के सामने रखा था. वहीं सचिन पायलट ने तर्क दिया था कि 2013 के विधानसभा चुनाव में पार्टी को हार का सामना करना पड़ा था और पार्टी ने अशोक गहलोत के नेतृत्व में ही चुनाव लड़ा था. हार के बाद तब गहलोत राजस्थान में कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष क्यों नहीं बने?

ये भी पढ़ें: अशोक गहलोत पर अभी फैसला नहीं, पहले बुलाई जाएगी CWC की बैठक

किसके कहने पर माने थे पायलट
उस समय दोनों ही नेता पीछे हटने को तैयार नहीं दिख रहे थे. पायलट को मनाने के लिए राहुल गांधी, कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी, महासचिव प्रियंका गांधी तक ने काफी कोशिशें की थीं. लेकिन पायलट अपनी बात पर कायम रहे थे. लेकिन बाद में राहुल गांधी के करीबी और पूर्व केंद्रीय मंत्री जीतेंद्र सिंह की बात पायलट ने मान ली थी और डिप्टी सीएम का पद स्वीकार कर लिया था.

ये भी पढ़ें: अशोक गहलोत हो सकते हैं कांग्रेस के नए अध्यक्ष, जल्द होगा ऐलान!
Loading...

अब CWC की बैठक पर सभी की नजर
गहलोत के सीएम और पायलट के डिप्टी सीएम बन जाने के बाद सब को लगा अब राजस्थान में सब कुछ ठीक हो गया है. लेकिन पार्टी के लिए असल मुसीबतें तो लोकसभा चुनाव के बाद खड़ी हुईं. लोकसभा चुनावों में मिली करारी हार के बाद से ही राजस्थान कांग्रेस में घमासान जारी है. एक खेमा पायलट को सीएम बनाने पर अड़ा है तो दूसरा खेमा हार के लिए अकेले गहलोत को जिम्मेदार मानने को तैयार नहीं है. खैर ये विवाद कब खत्म होगा, ये कह पाना मुश्किल है. लेकिन अब दिल्ली में होने वाली कांग्रेस वर्किंग कमेटी (CWC) की बैठक पर सबकी निगाहें टिकी हैं. क्योंकि इस बैठक में फैसला होना है कि गहलोत पार्टी के अध्यक्ष बनेंगे या नहीं. अगर गहलोत अध्यक्ष बनते हैं तो जाहिर सी बात है राजस्थान सीएम पद के लिए पायलट की दावेदारी ही सबसे मजबूत होगी, क्योंकि वो अभी राज्य के डिप्टी सीएम हैं.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 20, 2019, 1:32 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...